चेन्नई ने राजस्थान को 12 रनों से हराया

चेन्नई ने राजस्थान को 12 रनों से हराया

चेन्नई: एम. ए. चिदंबरम स्टेडियम में रविवार को हुए इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के आठवें संस्करण के 47वें मैच में चेन्नई सुपर किंग्स ने राजस्थान रॉयल्स को 12 रनों से हरा दिया और अंक तालिका में फिर से शीर्ष पर पहुंच गए।

सुपर किंग्स टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए रॉयल्स के सामने 158 रनों का औसत लक्ष्य ही रख सके थे, लेकिन रवींद्र जडेजा (11/4) सहित अपने गेंदबाजों के उम्दा प्रदर्शन की बदौलत उन्होंने रॉयल्स को निर्धारित ओवरों में 145 रनों पर रोक दिया। रॉयल्स के कुल नौ विकेट गिरे।

इस जीत के साथ सुपर किंग्स 12 मैचों से 16 अंक हासिल कर न सिर्फ अंक तालिका में शीर्ष पर पहुंच गए, जबकि उनका प्लेऑफ में प्रवेश भी पक्का हो गया।

औसत लक्ष्य को देखते हुए रॉयल्स के सलामी बल्लेबाजों अजिंक्य रहाणे (23) और शेन वाटसन (28) ने धीमी लेकिन सधी शुरुआत की। हालांकि मोहित शर्मा ने छठे ओवर की तीसरी गेंद पर रहाणे को ड्वायन ब्रावो के हाथों कैच कराकर उनकी योजना पर पानी फेर दिया।

इस मैच में कप्तान नियुक्त किए गए स्टीव स्मिथ (4) भी जल्द ही पवेलियन लौट गए। स्मिथ जडेजा की गेंद पर चूक गए और गेंद ने उनकी गिल्लियां बिखेर दीं। हालांकि फैसला तीसरे अंपायर ने दिया।

जडेजा ने इसके बाद अपने करियर की सर्वश्रेष्ठ गेदंबाजी करते हुए अपने हर ओवर में विकेट हासिल किया, जिसके कारण रॉयल्स 15 ओवरों में न सिर्फ पांच विकेट गंवा चुके थे, बल्कि उनका कुल योग भी 93 तक ही पहुंच सका था। जडेजा ने चार ओवरों में मात्र 11 रन देकर चार विकटे चटकाए और मैच का रुख सुपर किंग्स की ओर मोड़ दिया।

15 ओवरों के बाद रॉयल्स को जीत के लिए आखिरी पांच ओवरों में 65 रनों की दरकार थी और क्रीज पर संजू सैमसन (26) और जेम्स फॉल्कनर (16) थे।

दोनों बल्लेबाजों ने छठे विकेट के लिए 21 गेंदों में 33 रन जोड़े हालांकि सैमसन अपनी पारी मैच जिताऊ नहीं बना सके और 18वें ओवर में ड्वायन ब्रावो पर एक छक्का जड़ने के बाद अगली ही गेंद पर फिर से ऊंचा शॉट खेलने के प्रयास में ड्वायन स्मिथ के हाथों लपके गए। सैमसन ने 17 गेंदों का सामना कर एक चौका और दो छक्का लगाया।

रॉयल्स को आखिरी के दो ओवरों में 33 रनों की दरकार थी, लेकिन कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के दोनों भरोसेमंद गेंदबाजों मोहित शर्मा और ड्वायन ब्रावो ने कसी हुई गेंदबाजी कर रॉयल्स को लक्ष्य से पहले ही रोक दिया। जडेजा सबसे सफल गेंदबाज रहे, जबकि मोहित ने तीन और ब्रावो ने दो विकेट हासिल किए।

इससे पहले, टॉस जीतकर बल्लेबाजी करने उतरे सुपर किंग्स की शुरुआत अच्छी नहीं रही। ड्वायन स्मिथ (6) तीसरे ओवर में अंकित शर्मा की गेंद पर जेम्स फॉल्कनर को कैच थमा बैठे।

अगले ही ओवर में सुरेश रैना (3) भी पवेलियन लौट गए। क्रिस मोरिस ने रैना को फॉल्कनर के हाथों कैच आउट करवाया।

चार ओवरों में 17 पर दो विकेट गंवाने के बाद संकट में नजर आने लगे सुपर किंग्स को ब्रेंडन मैक्लम (81) और फॉफ दू प्लेसिस (29) ने तीसरे विकेट के लिए 101 रनों की साझेदारी कर टीम को संभाल लिया। हालांकि संभलकर खेलने के प्रयास में वे रन गति को ज्यादा नहीं बढ़ा सके।

प्लेसिस दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से 17वें ओवर की दूसरी गेंद पर रन आउट हो पवेलियन लौटे। शेन वाटसन ने अपने ही ओवर में प्लेसिस को रन आउट किया। प्लेसिस ने 25 गेंदों का सामना कर तीन चौके लगाए।

प्लेसिस के जाने के बाद मैक्लम भी ज्यादा देर नहीं टिक सके और क्रिस मोरिस ने 18वें ओवर की दूसरी गेंद पर मैक्लम की नायाब पारी पर विराम लगा दिया। मैक्लम का कैच अंकित शर्मा ने लपका। मैक्लम ने 61 गेंदों की अपनी जुझारू पारी में सात चौके और चार छक्के लगाए। मोरिस ने अगली ही गेंद पर पवन नेगी (2) को भी स्टीव स्मिथ के हाथों कैच करवा दिया।

इसके बाद कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (नाबाद 13) ने ड्वायन ब्रावो (नाबाद 15) के साथ आखिरी 15 गेंदों में 28 रन जोड़कर टीम को 150 के पार पहुंचाया।

मोरिस रॉयल्स के सबसे सफल गेंदबाज रहे। उन्होंने चार ओवरों के अपने स्पेल में मात्र 19 रन देकर तीन विकेट चटकाए। मोरिस के अलावा एकमात्र विकेट अंकित शर्मा को मिला।