पीयूष-पठान के दम पर मिली केकेआर को जीत

पीयूष-पठान के दम पर मिली केकेआर को जीत

कोलकाता : पीयूष चावला के आलराउंड खेल और यूसुफ पठान की शानदार पारी की बदौलत कोलकाता नाइटराइडर्स ने आईपीएल आठ के महत्वपूर्ण मुकाबले में आज यहां 13 रन से जीत दर्ज करके दिल्ली डेयरडेविल्स की प्लेआफ में पहुंचने की उम्मीदों को करारा झटका दिया। पठान के 24 गेंद तीन चौकों और तीन छक्कों की मदद से पर 42 रन बनाये। उनके अलावा शीर्ष क्रम के बल्लेबाजों विशेषकर रोबिन उथप्पा ने भी उपयोगी योगदान दिया जबकि योहान बोथा  ने आखिरी ओवर में चार चौके जड़े जिससे टास जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला करने वाले केकेआर ने सात विकेट पर 171 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर खड़ा किया। डेयरडेविल्स ने धीमी शुरूआत की। श्रेयास अय्यर और मनोज तिवारी  ने पहले विकेट के लिये 59 गेंद पर 63 रन जोड़े।

इसका दबाव उसके बाकी बल्लेबाजों पर दिखा जिन्होंने अच्छी शुरूआत की लेकिन बड़े शाट खेलने के प्रयास में विकेट गंवाये। डेयरडेविल्स आखिर में छह विकेट पर 158 रन ही बना पाया। केकेआर की यह 11वें मैच में छठी जीत है और वह 13 अंक के साथ अंकतालिका में तीसरे स्थान पर पहुंच गया है। डेयरडेविल्स ने भी 11 मैच खेल लिये हैं लेकिन उसकी यह सातवीं हार है। इससे उसकी प्लेआफ में पहुंचने की संभावना भी क्षीण पड़ गयी है। डेयरडेविल्स के अय्यर और मनोज तिवारी ने पहले चार ओवर में केवल 24 रन बनाये। बीसीसीआई से सभी तरह की गेंद करने के लिये हरी झंडी पाने वाले सुनील नारायण को पांचवें ओवर में पहली गेंद सौंपी गयी। मनोज तिवारी ने कवर और मिडविकेट पर चौके जड़कर उनका स्वागत किया।

चावला ने अपने आखिरी तीन ओवर में डेयरडेविल्स की बल्लेबाजी की कमर तोड़ दी। उन्होंने मनोज तिवारी को लांग आन पर कैच कराया और फिर एक ओवर में दो विकेट झटककर डेयरडेविल्स को बैकफुट पर भेजा। केदार जाधव  को उन्होंने आसान कैच देने के लिये मजबूर किया जबकि आंद्रे रसेल ने लंबी दौड़ लगाकर युवराज सिंह का कैच लेकर उन्हें खाता भी नहीं खोलने दिया। चावला ने अपने आखिरी ओवर में कप्तान जेपी डुमिनी को सीमा रेखा पर कैच कराया। डेयरडेविल्स को आखिरी चार ओवर में 59 रन की जरूरत थी। एंजेलो मैथ्यूज और सौरभ तिवारी ने हाग के ओवर में 17 रन बटोकर उम्मीद जगायी लेकिन वह यह गति आगे बरकरार नहीं रख पाये। केकेआर की तरफ से चावला के अलावा रसेल और हाग ने एक-एक विकेट लिया।

इससे पहले गौतम गंभीर और उथप्पा ने पहले विकेट के लिये 38 रन जोड़े लेकिन वह गेंदबाजों पर हावी होकर नहीं खेल पाये। उथप्पा को तो 15 और 23 रन के निजी योग पर मनोज तिवारी और युवराज सिंह ने जीवनदान भी दिया। केकेआर के लगभग सभी बल्लेबाज अच्छी शुरूआत को बड़े स्कोर में नहीं बदल पाये। जहीर ने शुरू में कसी हुई गेंदबाजी की और गंभीर को विकेट के पीछे कैच आउट कराया। उथप्पा दो जीवनदान का फायदा नहीं उठा पाये। मिश्रा पर स्वीप शाट करने के प्रयास में वह पगबाधा आउट हो गये। मनीष पांडे 19 गेंद पर 22 रन बनाने के बाद युवराज की गेंद अपने विकेटों पर खेल गये।

इस सत्र में अपेक्षित परिणाम हासिल नहीं कर पाने वाले पठान ने एक छोर से रन गति बनाये रखने की पूरी कोशिश की। इस विस्फोटक बल्लेबाज ने इस बीच तीन अवसरों पर गेंद को दर्शकों के पास भी पहुंचाया लेकिन वह इस सत्र का अपना पहला अर्धशतक जड़ने में नाकाम रहे। ताहिर की गेंद पर छक्का जड़ने के प्रयास में वह लांग आफ पर कैच दे बैठे। बोथा ने पारी के आखिरी ओवर में लगातार चार चौके जड़कर जहीर का गेंदबाजी विश्लेषण बिगाड़ दिया। बायें हाथ के इस तेज गेंदबाज ने 34 रन देकर एक विकेट लिया। अमित मिश्रा ने किफायती गेंदबाजी की और चार ओवर में केवल 20 रन दिये और एक विकेट लिया लेकिन दूसरे लेग स्पिनर इमरान ताहिर महंगे साबित हुए। उन्होंने दो विकेट हासिल किये लेकिन 46 रन लुटाये।