देवरिया में सेतु निगम के  प्रोजेक्ट मैनेजर की दबंगई

देवरिया में सेतु निगम के प्रोजेक्ट मैनेजर की दबंगई

सरकारी खजाने की लूट, कर्मचारियों का शोषण, सेतु निगम में कार्यरत राज मिस्त्री ने किया खुलासा

देवरिया: उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले में स्थित सेतु निगम के कार्यालय की कार्यकारिणी इतनी अनोखी है की किसी वरिष्ठ अधिकारी को इसकी खबर ही नही|यंहा के प्रोजेक्ट मैनेजर की लालफीशाही एवं अजब कार्यप्रणाली बना रही और भी बदतर | यंहा पर तैनात प्रोजेक्ट मैनेजर सदैव नशे में धुत रहते हैं तो उन्हें किसी कार्य की सुध ही कहाँ | यदि कार्यालय का कोई कर्मचारी कार्य के लिए जाता है तो उसके साथ बदतमीजी गाली गलौच एवं मारपीट करता है एवं अधिकारी होने का पूर्ण फायदा उठाते हुए कर्मचारियों की उपस्थिति के बावजूद अनुपस्थिति दर्शाकर सैलरी काट लेता है | 

इस बात की खबर मिलते ही लख़नऊ के एक स्वतंत्र पत्रकार ने गुप्त रूप से छानबीन शुरू की ,छानबीन के बाद ऐसी बाते सामने आई जो झकझोर देने वाली थी |

देवरिया सलेमपुर में एक एस एच 1 पर एक पुल का निर्माण कार्य किसी तरह कई वर्षों के बाद तरह पूर्ण हुआ तो इसकी सुई सर्विस लेन रोड पर आकर अटक गयी जिसका निर्माण कार्य अभी तक नहीं हुआ।  बहूत सी दुर्घटनाओ की खबर एवं दबंग अधिकारी के बारे में कई बार सुनकर पत्रकार ने जांच शुरू की | पत्रकार की बात उत्तर प्रदेश राज्य सेतु निगम के मुख्य प्रबंधक राजन मित्तल से भी हुई उन्होंने बताया की ब्रिज के निर्माण कार्य के बाद लगभग पूर्ण राशि समाप्त हो गयी थी परंतु दिसंबर 2014 में 45 लाख रुपये (18 लाख लाइटिंग एवं 27 लाख रुपये सड़क निर्माण हेतु ) दिए जा चुके हैं ,परंतु अप्रैल माह समाप्त होने को आया जनवरी में GSBWM (गिट्टी) बिछने के बाद कोई कार्य नहीं हुआ |

राज्य सेतु निगम के देवरिया कार्यालय जाकर पता चला की सम्बंधित कार्य के लिए क्षेत्रीय विधायक एवं सांसद ने भी कई बार शिकायत की परंतु सभी कर्मचारी अधिकारी के खौफ के कारण चुप रहे | तीन दिन पूर्व ही कमिशनर एवं जिलाधिकारी ने भी शिकायत की परंतु कोई कार्यवाही नहीं हुई | उन्होंने बताया की सड़क ठीक न होने के कारण सदैव लोगों की शिकायते आया करती हैं तथा आम जनता बहुत परेशान हो चुकी है | 

पत्रकार की मुलाक़ात सेतु निगम की देवरिया इकाई में ही कार्यरत एक कर्मचारी शफीक खां हुई जो कार्यालय में वह राजमिस्त्री के पद पर तैनात है | उन्होंने बताया कि आर सिंह उनका एवं सभी कर्मचारियों का अत्याधिक शोषण करते हैं एवं विरोध करने पर गाली गलौच मारपीट व् अनुपस्थिति दर्शाकर तनख्वाह काट लेते हैं ,शफीक ने बताया की वह प्रतिदिन कार्यालय आते हैं फिर भी उनकी अनुपस्थिति दर्शाकर तनख्वाह काट ली है और ऐसा जनवरी 2015 से चला आ रहा है एवं धमकी देता है अगर मेरी शिकायत की तो ससपेंड क्र दूंगा और जान से मार दूंगा | शफीक ने बताया की साहब हमेशा नशे में धुत रहते हैं ,कुछ सप्ताह पूर्व जब उनकी माता का देहांत हुआ था तो लखनऊ मुख्यालय में नशे में धुत थे उन्हें घटना का कोई होश ही न था | इस से पूर्व भी वह गौरी बाजार साइड पर प्रमोद नामक चौकीदार को बुरी तरह पीट चुके हैं जिसके शिकायत उसने थाने में की तो कोई सुनवाई नहीं की गयी | 

शफीक ने बताया की डी आर सिंह ने अपने सरकारी आवास में प्रतिबंधित पक्षी व् देसी मुर्गे पाल रखें हैं जिन्हें मदिरा पिने बाद वह बनवाते हैं | शफीक ने बताया वह एक राजमिस्त्री हैं परंतु छह माह से उनकी ड्यूटी चौकीदार के रूप में रात्रि 9 बजे से प्रातः 5 बजे तक एक चौकीदार के रूप में लगा रखी है | विगत 14 अप्रैल से शफीक ने कार्यालय जाना बंद कर दिया है वह कहते हैं मैं वृद्ध हूँ और मेरा एक पैर भी सही नहीं है अतः मैं अब नौकरी छोड़ दूंगा दो ही साल बचे हैं अब नौकरी को ,उन्होंने रोते हुए कहा मेरा समस्त भुगतान रोक रखा है घर में भी एक पैसा नहीं है अब किसी न किसी बहाने तनख्वाह भी काट लेता है ,एवं जान से मारने की धमकी देता है पीड़ित शफीक अत्याधिक डरे हुए हैं हताश व् निराश हैं वह लगातार अल्लाह से न्याय की गुहार लगा रहे  हैं |

Uttar Pradesh, India