शर्मिंदा होकर नहीं, शान से जाएंगे स्वदेश: मैकुलम

शर्मिंदा होकर नहीं, शान से जाएंगे स्वदेश: मैकुलम

मेलबर्न। वर्ल्ड कप के खिताबी मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया से मिली सात विकेट की शिकस्त के साथ ही पहली बार चैंपियन बनने का सपना टूटने के बावजूद सह मेजबान न्यूजीलैंड के कप्तान ब्रैंडन मैकुलम ने कहा कि उनकी टीम ने टूर्नामेंट में शानदार खेल दिखाया है और वह सिर झुकाकर नहीं बल्कि उठाकर स्वदेश जाएंगे।

मैकुलम ने कहा है कि यह हमारे लिए बहुत अच्छा टूर्नामेंट रहा और हमारी टीम पहली बार वर्ल्ड कप फाइनल में पहुंची। टीम के खिलाड़ियों ने अपनी ओर से शानदार प्रदर्शन किया और बेहतरीन क्रिकेट खेली। हमारा फाइनल मुकाबला चार बार की चैंपियन ऑस्ट्रेलिया से था और उन्होंने अपना स्तर कायम रखा।

उन्होंने हार के बारे में कहा है कि शायद जैसा हमने सोचा वैसा नहीं हो सका। हमारी योजना कारगर सबित नहीं हुई और हम खुद को संयमित नहीं रख सके जिसके बाद 150 रन पर हमारी आधी टीम सिमट गई। जाहिर तौर पर 180 रनों के आसपास का आंकडा बहुत कम होता है लेकिन फिर भी हमने उम्मीद कायम रखी।

मैकुलम ने कहा है कि हां हम ट्रॉफी नहीं ले जा सके, लेकिन उसका कोई मलाल नहीं है। हमने शानदार क्रिकेट खेली और उसी के आधार पर मैं यह कह सकता हूं कि हम जब स्वदेश लौटेंगे तो हमारा सर झुका नहीं होगा। यह हम सभी के लिए यादगार और ऐतिहासिक पल हैं। जिस तरह हमने खुलकर अपने खेल का आनंद लिया वह हम सभी के लिए खास है। हमने दिल से क्रिकेट खेली और टूर्नामेंट में नित नए इतिहास लिखने का गौरव हमें मिला।

न्यूजीलैंड के कप्तान ने कहा है कि हमने टूर्नामेंट में बेहतरीन पल बिताए और हमें नए-नए दोस्त मिले। यहां से जाने के बाद हमारे पास खूब सारे ऐसे लम्हें होंगें जो हमेशा हमारे लिए यादगार रहेंगे। मैं सभी को अपनी शुभकामनाएं देता हूं। ऑस्ट्रेलिया के कप्तान माइकल क्लार्क की तारीफ करते हुए मैकुलम ने कहा कि उनकी कप्तानी शानदार रही और उसी के आधार पर वह जीत के भी हकदार थे।