अजेय भारत राष्ट्र की नियति: हृदयनारायण दीक्षित

अजेय भारत राष्ट्र की नियति: हृदयनारायण दीक्षित

लखनऊ । राष्ट्रनिर्माण और स्वाधीनता संग्राम में अनेक विचारधाराओं का योगदान है। स्वाधीनता संग्राम से जुड़े सभी क्रान्तिकारी और महानुभाव आधुनिक पीढ़ी के लिए मार्गदर्शक और प्रेरक हैं। हम सबको उनसे प्रेरणा लेकर नये भारत का निर्माण करना है। इस लक्ष्य की पूर्ति के लिए सबको अपनी-अपनी भूमिका का निर्वहन करना चाहिए। यह विचार आज सोमवार को विधान परिषद में भाजपा विधायक दल के नेता हृदयनारायण दीक्षित ने प्रेस क्लब में “शहीदों का सपना - समृद्ध भारत” विषय संगोष्ठी में व्यक्त किया। 

श्री दीक्षित ने कहा कि यह बात सही है कि स्वाधीनता संग्राम सेनानियों के सपनो वाला भारत अभी तक नहीं बन पाया है। इसके लिए प्रमुख रूप से सरकारें ही दोषी हैं। समृद्ध भारत के निर्माण के लिए देश के प्रत्येक व्यक्ति को अपने-अपने कार्यक्षेत्र में अपनी भूमिका तय करनी होगी। अमर शहीद भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरू आदि के विचार विश्व में भारत को अजेय बनाने के लिये उपयोगी हैं। अजेय भारत इस राष्ट्र की नियति है।

मुख्य वक्ता आल इण्डिया पावर इन्जीनियर्स फेडरेशन के चेयरमैन श्री शैलेन्द्र दुबे ने कहा कि अत्यन्त दुख है कि सबके लिए अनाज पैदा करने वाला भूखा रहे, कपड़े बनाने वाला वस्त्र नहीं पाता। भवन निर्माण करने वाल गंदी बस्तियों में रहते हैं। इसलिए शहीदों का समृद्ध भारत का सपना अधूरा है। अब समय आ गया है कि शहीदों का स्मरण केवल रस्म अदायगी न रह जाये, बल्कि उनके बताये रास्ते पर देश चले। तभी सशक्त व समृद्ध भारत का सपना पूरा होगा। उन्होंने कहा कि जब तक गरीबों, वंचितों, किसानों और मजदूरों को राजनीतिक सत्ता में साझेदारी नहीं मिलती, तब तक देश का उत्कर्ष नहीं हो सकता। उन्होंने यह भी कहा कि भगत सिंह के स्मरण का अर्थ है हर क्षेत्र, हर दल और विचार में व्याप्त संकीर्णताओं को खत्म करना, जहां भी अन्याय है, जुल्म व अत्याचार है उसके खिलाफ आवाज उठाना और ऐसी नयी व्यवस्था का निर्माण करना जिसमें शोषण न हो। 

कार्यक्रम को राष्ट्रधर्म के संपादक आनंद मिश्र अभय ने भी सम्बोधित किया। उन्होंने कहा कि क्रान्तिकारी अखण्ड भारत के लिए प्राण दे गये लेकिन राजनीति ने भारत को खण्डित कर दिया। कार्यक्रम की अध्यक्षता चन्द्रप्रकाश अग्निहोत्री तथा संचालन बी0पी0 सिंह ने किया। इस अवसर पर भारतीय नागरिक परिषद के अध्यक्ष चन्द्र प्रकाश अग्निहोत्री, उपाध्यक्ष वाई0के0 अरोड़ा, रमाकांत दुबे, ए0पी0 सिंह, भारत समृद्धि के महामंत्री धीरज उपाध्याय, रामेन्द्र सिंह राठौर, संदीप चतुर्वेदी, बिजली विभाग के वरिष्ठ कर्मचारी नेता पी0के0 दीक्षित, शेषमणि त्रिवेदी सहित भारी संख्या में लोग उपस्थित थे।

Lucknow, Uttar Pradesh, India