महिलाओं पर अत्याचार रोकने के लिए सोच बदलनी होगी: सुतापा सान्याल

महिलाओं पर अत्याचार रोकने के लिए सोच बदलनी होगी: सुतापा सान्याल

स्वस्थ्य मानसिक व शारिरिक जीवन ही दिलायेगा आपेक्षित सफलता: डा0 रूपल अग्रवाल

लखनऊ: हेल्प यू एजुकेशनल एवं चैरिटेबल ट्रस्ट व नेशनल सर्विस स्कीम, नेशनल पी0 जी0 कालेज के संयुक्त तत्वावधान में आज मोती महल लाॅन दो शिक्षात्मक गतिविधियों का आयोजन हुआ।

कार्यक्रम के प्रथम चरण में श्रीमती वन्दना सिंह चौहान, निदेशक, ग्लोबल सेंटर आॅफ लैंग्वजेज ने छात्र-छात्राओं को व्यक्तित्व की महत्ता के बारे में बताया उन्होंने कहा कि  आपका व्यक्तित्व आपका आईना है अगर आपका व्यक्तित्व सकारात्मक है तो लोग भी आपके लिये सकारात्मक होंगे। हमें हमेंशा कुछ नया सीखने के लिये प्रयत्न करते रहना चाहिये व कुछ सीख लेने पर भी अहंकार नहीं करना चाहिये।

कार्यक्रम के द्धितीय चरण में मुख्य अतिथि श्रीमती सुतापा सान्याल, ADGP मानवाधिकार आयोग/महिला सम्मान प्रकेाष्ठ उत्तर प्रदेश पुलिस व सत्या सिंह, उत्तर प्रदेश पुलिस ने "Gender Equality Women Empowerment" पर विद्यार्थीयों को संबोधित किया।  सुतापा सान्याल  ने कहा कि आज के युग में सभी लोगों को ‘‘पेरेन्ट चाइल्ड वाॅन्डिग’’ के तहत अपने परिवार के साथ सामजस्य बनाते हुए आगे बढ़ना है। आज की टेक्नालाॅजी के युग में बच्चे अपने परिवार के साथ ताल-मेल नहीं बैठा पाते है जिससे विभिन्न प्रकार के तनाव व अन्य समस्याओं से ग्रसित रहते है। अतः हम सभी को आधुनिक तकनीकियों का प्रयोग करने के साथ-साथ परिवार में मेल-जोल बढ़ाकर समाज व राष्ट्र को अच्छा बनाना है। अगर हमें महिलाओं पर हो रहे अत्याचारों को रोकना है तो हमें अपनी सोंच को बदलना होगा। सर्वप्रथम माता-पिता को ही अपने बच्चों में भेद-भाव रोकना होगा। लड़के व लड़की के बीच एक मैत्रीय संबंध होना चाहिये लेकिन उन्हें अपनी हद के बारे में भी पता होना चाहिये। हर व्यक्ति को सरकार व पुलिस द्धारा चलायी जाने वाली योजनाओं की जानकारी होनी चाहिये जिससे वक्त पर वे उनकी मदद मांग सकें।

डा0 श्रीमती रूपल अग्रवाल, मैनेजिंग ट्रस्टी, हेल्प यू एजुकेेषनल एवं चैरिटेबल ट्रस्ट ने कहा कि, स्वास्थ्य के प्रति जागरूक किया और कहा कि स्वस्थ्य मानसिक व शारिरिक जीवन ही दिलायेगा आपेक्षित सफलता यदि स्वास्थ्य सही रहेगा तभी देश व समाज स्वस्थ्य रहेगा। 

इस अवसर पर डा0 राकेश द्विवेदी, कार्यक्रम समन्यवयक, राष्ट्रीय सेवा योजना, लखनऊ विश्वविद्यालय, लखनऊ ने स्वयंसेवकों को अपने व्यक्तित्व विकास करने हेतु एन.एस.एस. का सहयोग लेने की बात कही और यह भी कहा कि निकट भविष्य में सम्पूर्ण लखनऊ में स्वच्छता अभियान चलाने हेतु समस्त कालेज के एन.एस.एस. के स्वयंसेवक एक-एक मोहल्ले/वार्ड/स्लम वस्ती को गोद लेकर कार्य करेंगे।

महाविद्यालय के प्राचार्य डा0 एस0 पी0 सिंह ने विद्यार्थीयों को बताया कि संसार का सम्पूर्ण विकास अपने आन्तिरिक विकास से ही संभव है। हमें अपने अन्दर समस्त बड़ी-बड़ी शक्तियों का अनुभव करना चाहिए और कभी भी जीवन के संकटों व परेशानियों से दूर नहीं भागना चाहिए। स्वयंसेवकों को सम्बोधित करते हुए कहा कि -

  मेरी जिदंगी एक मुशलसल सफर है, 

जो मंजिल पे पहुॅंचे तो मंजिल बढ़ा दी। 

कार्यक्रम में Collage making Competition भी रखा गया जिसमें चयनित विजेताओं को हेल्प यू ट्रस्ट की तरफ से प्रथम, द्धितीय, तृतीय व सांत्वना पुरस्कार दिया गया। कार्यक्रम में विद्यार्थीयों द्धारा लघु नाटक का मंचन भी किया गया।

Lucknow, Uttar Pradesh, India