जेल में तारिक कासमी को मारने की साजिश रची जा रही है: रिहाई मंच

जेल में तारिक कासमी को मारने की साजिश रची जा रही है: रिहाई मंच

सजिश के पीछे खुफिया विभाग, पुलिस और सरकार का गठजोड़: मोहम्मद शुऐब

लखनऊ। रिहाई मंच ने लखनऊ जेल प्रशासन पर निमेष कमीशन द्वारा कचहरी विस्फोटों में फर्जी तरीके से गिरफ्तार बताए गए तारिक कासमी और अन्य आरोपियों की हत्या की साजिश रचने का आरोप लगाते हुए जेल अधिक्षक को तत्काल बर्खास्त करने की मांग की है।

रिहाई मंच के अध्यक्ष और तारिक कासमी के वकील मोहम्मद शुऐब ने जारी बयान में कहा कि तारिक कासमी के हाई सेक्योरिटी सेल में जेल प्रशासन ने गोरखपुर के अपराधी चंदन को रख दिया है जो उन्हें सम्प्रदाय सूचक गालियां और जान से मारने की धमकी देता है। उन्होंने कहा कि यह सिलसिला पिछले कई दिनों से चल रहा है जिसकी शिकायत के बावजूद भी जेल प्रशासन ने कोई कार्रवाई नहीं की वहीं उक्त अपराधी तारिक और आतंकवाद के आरोप में बंद अन्य लोगों को मारने की धमकी के साथ यह भी कहता है कि प्रशासन उसके साथ है। 

रिहाई मंच प्रवक्ता शाहनवाज आलम ने कहा कि हाई सेक्यूरिटी सेल में अक्सर आतंकवाद के आरोपियों को ही रखा जाता है ऐसे में किसी अपराधी को उनके बैरक में रखे जाने से इसकी आशंका बढ़ जाती है कि ऐसा आतंक के आरोपियों को जान से मरवाने के लिए जेल प्रशासन कर रहा है। उन्होंने कहा कि कचहरी विस्फोटों में आरोपी बनाए गए खालिद मुजाहिद की जेल अभिरक्षा में 18 मई 2013 को हुई हत्या के बाद यह सम्भावना और बढ़ जाती है कि तारिक कासमी को भी मारने की साजिश रची जा रही है क्योंकि खालिद की ही तरह तारिक की गिरफ्तारी को भी निमेष कमीशन की रिपोर्ट ने फर्जी बताया था। उन्होंने कहा कि निमेष कमीशन की रिपोर्ट में दोषी बताए गए पुलिस और खुफिया विभाग के अधिकारियों के खिलाफ सपा सरकार द्वारा कार्रवाई नहीं किया जाना और खालिद की हत्या की जांच में बार-बार पुलिस को क्लीनचिट दिया जाना साबित करता है कि पुलिस और खुफिया विभाग के अधिकारी अब इस मामले में जिंदा बचे और खालिद की हत्या के गवाह तारिक कासमी को भी सरकार की सांठगाठ के साथ मारने की साजिश रच रहे हैं और इसीलिए चंदन नाम के अपराधी को वहां हत्या के उद्येश्य से रखा गया है। उन्होंने कहा कि तारिक कासमी को मारने की पहले भी कोशिश जेल प्रशासन कर चुका है जिसके खिलाफ उन्होंने सरकार और प्रशासन को पत्र लिख कर शिकायत की थी और रिहाई मंच ने तत्कालीन राज्यपाल अजीज कुरैशी से मिलकर भी इस सवाल को उठाया था। उन्होंने कहा कि पूरे देश में आतंकवाद के नाम पर फर्जी तरीके से फंसाए गए मुस्लिम युवकों का दूसरे खूंखार अपराधियों से हत्या करवाने की परम्परा नई नहीं है। ठीक इसी तरह इंडियन मुजाहिदीन के आतंकवाद के झूठे आरोप में पकड़े गए दरभंगा निवासी कतील सिद्दीकी को भी महाराष्ट्र के यरवदा जेल में 8 जून 2012 में खुफिया विभाग और एटीएस के अधिकारियों ने अपराधियों से हत्या करवा दिया था। उन्होंने कहा कि ठीक इसी तरह पिछले महीने ही जर्मन बेकरी विस्फोट मामले में निचली अदालत से विवादित फांसी की सजा पाए हिमायत बेग जिसकी सजा पर शुरू से ही सवाल उठते रहे हैं और यहां तक कि तीन जांच एजेंसियों एनआईए, दिल्ली स्पेशल सेल और सेंट्रल क्राइम ब्रांच बेंगलूरू ने भी उसे क्लीनचिट दिया है, पर भी 19 फरवरी को यरवदा जेल में एक अपराधी ने जानलेवा हमला किया था। उन्होंने निमेष कमीशन की रिपोर्ट पर तत्काल अमल करने की मांग करते हुए जेल अधिक्षक को बर्खास्त करने की मांग की।

Lucknow, Uttar Pradesh, India