लॉकडाउन फर्स्ट डे: दुकानदारों ने वसूली मनमानी कीमत, आवश्यक वस्तुओं का अभाव

लॉकडाउन फर्स्ट डे: दुकानदारों ने वसूली मनमानी कीमत, आवश्यक वस्तुओं का अभाव

नई दिल्ली: केंद्र के साथ ही राज्य सरकारें आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई सामान्य होने की बात बार-बार दोहरा रही हैं लेकिन हालात इसके कदम उलट हो चुके हैं। खुदरा दुकानों में दलहन, चीनी, आटा, चावल और खाद्य तेलों के साथ ही सब्जियों की आपूर्ति रुक सी गई है। जिस कारण खुदरा दुकानदारों के पास स्टॉक समाप्त होने लगा है। जो स्टॉक बचा हुआ है दुकानदार उसे मनमानी कीमत पर बेच रहे हैं।

बाहरी दिल्ली के गांव कुतुबगढ़ में परचून की दुकान चलाने वाले दुकानदार ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि पिछले दो-तीन दिनों से आटा, मैदा, चावल, दलहन और खाद्य तेलों के साथ ही चीनी की सप्लाई पूरी तरह से रुक गई है जबकि पैनिक खरीददारी होने के कारण दुकान में दालों के साथ ही चावल, खाद्य तेल और आटे आदि का स्टॉक समाप्त हो चुका है। जिन दुकानदारों के पास स्टॉक बचा हुआ है, वह मनमानी कीमत पर बेच रहे हैं। उन्होंने बताया कि उनके पास दलहन, चीनी, आटा और खाद्य तेलों की सप्लाई नरेला से आती है लेकिन पुलिस की सख्ती के कारण सप्लाई बंद हो चुकी है।

हरियाणा के सोनीपत जिले की खरखौदा तहसील में परचून की दुकाने चलाने वाले साहुल कुमार ने बताया कि चीनी के भाव बढ़कर 60 रुपये प्रति किलो हो गए हैं, जोकि सप्ताहभर पहले 38 से 40 रुपये प्रति किलो थे। इसी तरह से सरसों तेल की आधा लीटर की बोतल का दाम 60 रुपये और एक लीटर की बोतल का भाव 110 रुपये हो गया। उन्होंने बताया कि पुलिस ने सभी जगहों पर सख्ती कर रखी है, जिस कारण दुकानदार भी बाजार से माल नहीं ला पा रहे है तथा जो पुराने माल थे वह अब समाप्त होते जा रहे हैं।

दिल्ली में चीनी के थोक कारोबारी ने बताया कि ट्रांसपोर्टर इस समय मनमाना किराया ले रहे हैं, जिस कारण परिवहन लागत पिछले दो-तीन दिनों में ही दोगुनी हो गई है। चीनी की थोक कीमतों में तो पिछले दो-तीन दिनों में 25 से 50 रुपये प्रति क्विंटल की तेजी आई है, लेकिन खुदरा में दाम बढ़ गए हैं। बुधवार को दिल्ली में चीनी के थोक दाम 3,400 से 3,450 रुपये प्रति क्विंटल रहे।

दिल्ली की आजादपुर फल सब्जी मंडी के आढ़ती बलबीर सिंह भल्ला ने आउटलुक को बताया कि मंडी में सब्जियों की आवक तो हो रही है, लेकिन पड़ौसी राज्यों की छोटी मंडियों जैसे सोनीपत, पानीपत, मेरठ, सहारनपुर, अलवर या फिर पंजाब की लुधियाना, अबोहर आदि से खरीदार दिल्ली नहीं आ रहे हैं। इन राज्यों में लॉकडाउन के कारण पुलिस की सख्ती ज्यादा है। उन्होंने बताया कि दिल्ली में भी पुलिस ने सख्ती कर रखी है, जिस कारण मंडी में लेबर या फिर मुनिम काम पर नहीं आ पा रहे हैं, जिस कारण कारोबार पूरी से प्रभावित हो गया है, इसी को देखते हुए आढ़तियों ने माल भी कम मंगाना शुरू कर दिया है, क्योंकि पिछले सप्ताह मंडी में जो टमाटर 300 रुपये प्रति 25 किलो बिक रहा था, बुधवार को उसका भाव घटकर 200 रुपये प्रति 25 किलो रह गया। इसी तरह से भिंडी, घीया, खीरा आदि की कीमतों में 10 से 20 रुपये प्रति किलो का मंदा आया।

India