आज समाज को संस्कारित राष्ट्रभक्त नागरिको की आवश्यकता: कौशल

आज समाज को संस्कारित राष्ट्रभक्त नागरिको की आवश्यकता: कौशल

किसान डिग्री कॉलेज में स्वयंसेवकों को शाखा कुंभ आयोजित

रमेश चंद्र गुप्ता

बहराइच: अपनी स्थापना की शताब्दी पूर्ण करने की ओर अग्र्रसर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने राम सेतु व श्रीराम जन्मभूमि उद्धार जैसे दुष्कर कार्यो को पूर्ण किया है जो असम्भव प्रतीत होते थे। संघ का मूल कार्य शाखा है जिसके द्वारा दुनिया के बड़े से बड़े कार्य संघ के स्वयंसेवकों ने पूर्ण किये है। शाखा व्यक्ति के उत्तम चरित्र का निर्माण करती है और आज समाज को संस्कारित राष्ट्रभक्त नागरिको की ही आवश्यकता है। यह बातें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ नगर इकाई द्वारा शहर के किसान डिग्री कॉलेज परिसर में आयोजित शाखा कुंभ में उपस्थित स्वयंसेवकों को संबोधित करते हुए संघ के प्रांत प्रचारक कौशल ने कही।

श्री कौशल ने कहा कि 94 वर्ष के संघ ने उस दुष्कर कार्य को कर दिखाया, जो असंभव सा था। संघ ने जो भी कार्य हाथ में लिया उसको पूर्ण किया। उन्होंने कहा कि संघ का मूल कार्य शाखा है शाखा को व्यवस्थित रूप देना शाखा के प्रति जागरूकता लाना शाखा के प्रति लोगों का विश्वास बढ़ाना स्वयंसेवक का दायित्व है। जहां भी लोग मिलकर रहेंगे, साथ रहेंगे, संगठित रहेंग, वहां की शाखा सर्वश्रेष्ठ होगी। उन्होंने कहा कि संघ की स्थापना नागपुर में विजयादशमी के दिन सन 1925 में हुई थी। इसके एक साल बाद गुरु जी ने शाखा का समय 1 घंटे निर्धारित किया था। गुरुजी का मत था कि 40 मिनट शाखा पर शारीरिक का कार्यक्रम हो शारीरिक कार्यक्रम से स्वयंसेवकों में प्रेम सद्भाव विश्वास एवं सेवा की भावना का विकास होता है। आज 57 हजार स्थानों पर 60 से 65 लाख लोग एक निश्चित स्थान और निश्चित समय पर शाखा में मिलते हैं।

प्रांत प्रचारक श्री कौशल ने कहा कि संस्कृति की रक्षा के लिए स्वामी विवेकानंद ने कहा था कि गर्व से कहो हम हिंदू हैं। उसी को संघ के द्वितीय सरसंघचालक पूज्य गुरु ने आगे बढ़ाया। गुरु जी का कहना था जिसको हिंदू संस्कृति का अध्ययन करना है वह भारत आए जिसको ईसाई संस्कृति को जानना है वह वेटिकन जाए और जिसको मुस्लिम संस्कृति जानना हो वह अरब जाए। भारतीय संस्कृति विश्व का कल्याण करने वाली है यहां की परंपरा वसुधैव कुटुंबकम, कृन्वंतोविश्वमार्यम् और सर्वे भवंतु सुखिनः का संदेश देती है। उन्होंने कहा कि किसी भी आपदा संकट या अस्थिरता के समय समाज के लोग स्वयंसेवकों की तरफ ही देखते हैं और अपेक्षा करते हैं कि संघ कि लोग उनके हितो के लिए सदैव लिए तत्पर रहहे। क्योंकि स्वयंसेवक प्रामाणिक, ईमानदार, संगठित और समर्पित होते हैं।

उन्होने कहा कि स्वयंसेवकों को अपना चरित्र सदैव उच्च रखना चाहिए और 24 घंटे समाज के लिए तत्पर रहना चाहिए। अपनी वाणी से व्यवहार से कृतित्व से स्वयंसेवकत दिखना चाहिए। उन्होंने कहा कि अपनी अपनी शाखा को आदर्श एवं प्रभावी शाखा बनाना हम सभी का लक्ष्य होना चाहिए और शाखा के माध्यम से सेवा के कार्य भी समाज में निरंतर होने चाहिए, हमारी शाखा हमेशा उपक्रम शील रहे। कार्यक्रम का संचालन नगर कार्यवाह भूपेंद्र ने किया।

कार्यक्रम में जिला संघचालक कृष्णानंद, सह नगर संघचालक अर्जुन कुमार दिलीप ,जिला प्रचारक राहुल, नगर प्रचारक पंकज, सह प्रांत संपर्क प्रमुख हनुमान प्रसाद, विभाग कार्यवाह अंबिका प्रसाद, सह जिला कार्यवाह पंकज गिरि, जिला प्रचार प्रमुख अतुल गौड़, सुरेश, ललित दीक्षित, सुभाष, नगर प्रचार प्रमुख ध्रुव कुमार, नगर व्यवस्था प्रमुख ओम प्रकाश सक्सेना आलोक पाठक, आकाश, पुष्पम, अनिल वर्मा, प्रधानाचार्य उत्तम कुमार मिश्र, रामनरेश, सहज राम, अभिषेक, पुनीत ,महेश, सुरेंद्र जगदंबा बख्स, कृष्ण मुरारी, मृत्युंजय शुक्ला, जय सुखलाल, दुर्गेश दत्त, विनोद, प्रमोद, आमरनाथ मिश्र, सुमुख पाठक, सहकारिता मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा, सदर विधायक अनुपमा जायसवाल, भाजपा जिला अध्यक्ष श्यामकरण टेकरीवाल, हनुमान प्रसाद शर्मा, निशंक त्रिपाठी, गौरव वर्मा, बृजेश पांडे नगर की समस्त शाखाओं के स्वयंसेवक उपस्थित रहे।

Uttar Pradesh, India