डिफेंस एक्स्पो-2020 का आयोजन हमारे लिए एक चुनौती भी था, अवसर भी: सीएम योगी

डिफेंस एक्स्पो-2020 का आयोजन हमारे लिए एक चुनौती भी था, अवसर भी: सीएम योगी

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि डिफेंस एक्स्पो-2020 ने देश के शौर्य और पराक्रम को उत्तर प्रदेश और राजधानी में देखने का दुर्लभ अवसर प्रदान किया। यह एक अद्वितीय और अविस्मरणीय आयोजन था। यह आयोजन भारत के शौर्य, पराक्रम और गौरव का महाकुम्भ सिद्ध हुआ।

मुख्यमंत्री आज यहां डिफेंस एक्स्पो-2020 के समापन समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। लखनऊ को इस आयोजन का अवसर उपलब्ध कराने और इससे उत्तर प्रदेश को जोड़ने के लिए रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के डिफेंस काॅरीडोर के लिए रक्षा मंत्री ने एक बहुत मजबूत आधार उपलब्ध कराया है। यह डिफेंस काॅरीडोर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी की भावना के अनुरूप देश व प्रदेश को रक्षा उत्पादन के हब के रूप में स्थापित करने में सफल होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि डिफेंस एक्स्पो-2020 का आयोजन हमारे लिए एक चुनौती भी था और एक अवसर भी। चुनौती यह कि पिछले किसी भी डिफेंस एक्स्पो से इसे अच्छा और बेहतर आयोजित किया जाए। और अवसर इस दृष्टि से कि कैसे इसके माध्यम से प्रदेश में निवेश लाया जाए। राज्य सरकार की टीम ने रक्षा मंत्रालय, भारत सरकार से मिलकर इस कार्य को सफलता की नई ऊँचाइयों तक पहुंचाया है।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में इसकी सर्वाधिक जनसंख्या के अनुरूप आयोजन होना चाहिए। प्रदेश की विशालता के अनुरूप डिफेंस एक्स्पो-2020 का आयोजन अत्यन्त विराट और सफल रहा। एक्स्पो के दौरान डिफेंस इण्डस्ट्रियल काॅरीडोर में 50 हजार करोड़ रुपए के निवेश के 23 एम0ओ0यू0 हस्ताक्षरित हुए, जो ढाई से तीन लाख नौकरी एवं रोजगार के अवसर उपलब्ध कराएंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि डिफेंस एक्स्पो-2020 का यह आयोजन अनेक मायनों में अभूतपूर्व रहा। किसी डिफेंस एक्स्पो में पहली बार 40 देशों के रक्षा मंत्री शामिल हुए, 70 देशों की सहभागिता रही, 3000 विदेशी डेलीगेट्स तथा 10 हजार भारतीय डेलीगेट्स ने प्रतिभाग किया। कल तक 12 लाख से अधिक लोग यह आयोजन देख चुके होंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में डिफेंस एक्स्पो के सफल आयोजन के बाद उत्तर प्रदेश की क्षमता पर कोई प्रश्न नहीं लगा सकता। विगत दो-ढाई वर्ष में प्रदेश सरकार ने अनेक सफल आयोजन किए हैं। हमने हर आयोजन को सफलता की उन ऊँचाइयों पर पहुंचाया, जिन्हें अन्य को करने के लिए बहुत प्रयास करने पड़ते। फरवरी, 2018 में उत्तर प्रदेश के इतिहास की पहली इन्वेस्टर्स समिट आयोजित की, जिसमें 05 लाख करोड़ रुपए के निवेश प्रस्ताव मिले। मात्र 06 महीने के अन्दर प्रथम ग्राउण्ड ब्रेकिंग सेरेमनी के माध्यम से 65 हजार करोड़ रुपए के निवेश प्रस्ताव को जमीन पर उतारने में सफलता हासिल हुई। इस उपलब्धि की सराहना प्रधानमंत्री जी द्वारा की गई। अब तक प्रदेश में ढाई लाख करोड़ रुपए का निवेश आ चुका है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2019 में दुनिया का सबसे बड़ा सामाजिक, सांस्कृतिक एवं आध्यात्मिक आयोजन प्रयागराज कुम्भ आयोजित किया गया। भारत सरकार एवं राज्य सरकार के सामूहिक प्रयासों से यह सम्पन्न हुआ। इसमें 24 करोड़ 56 लाख श्रद्धालुओं ने गंगा जी में डुबकी लगाई। इस आयोजन ने स्वच्छता, सुरक्षा और सुव्यवस्था के मानक स्थापित किए। पहली बार राष्ट्रीय राजधानी या किसी राज्य की राजधानी के बाहर काशी में प्रवासी भारतीय दिवस का आयोजन सम्पन्न हुआ। इसमें साढ़े सात हजार से अधिक अप्रवासी भारतीयों और भारतवंशियों की भागीदारी रही। वर्ष 2019 में द्वितीय ग्राउण्ड ब्रेकिंग सेरेमनी भी आयोजित की गई।

Lucknow, Uttar Pradesh, India