एडिलेड टेस्ट में पाकिस्तान की स्थिति दयनीय

एडिलेड टेस्ट में पाकिस्तान की स्थिति दयनीय

गेंदबाज़ी के बाद बल्लेबाज़ी भी नाकाम, ऑस्ट्रेलिया के 589 रन के जवाब में पाक के 96 पर 6 ढेर

एडिलेड: ऑस्ट्रेलिया ने सलामी बल्लेबाज डेविड वॉर्नर के नाबाद 335 रन और स्टीव स्मिथ के सबसे तेज 7,000 रन जुटाने के रिकॉर्ड से शनिवार को पाकिस्तान के खिलाफ दूसरे दिन-रात्रि टेस्ट में शिकंजा कस लिया। कप्तान टिम पेन ने दूसरे दिन के डिनर ब्रेक से पहले तीन विकेट पर 589 रन के स्कोर पर अपने खिलाड़ियों को बुलाकर पहली पारी घोषित की। तब तक वॉर्नर अपना व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ और 10वां सबसे बड़ा टेस्ट स्कोर बना चुके थे।

पारी घोषित करने के इस फैसले ने हालांकि उन्हें ब्रायन लारा के सर्वकालिक नाबाद 400 रन के रिकॉर्ड को तोड़ने से महरूम कर दिया। लेकिन यह निर्णय इस लिहाज से अच्छा था कि ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों ने दूधिया रोशनी में तेजी से पाकिस्तान के कमजोर शीर्ष क्रम को ध्वस्त कर दिया। स्टंप तक पाकिस्तानी टीम मुश्किल में थी और उसका स्कोर छह विकेट पर 96 रन हो गया था। मिशेल स्टार्क ने इनमें से चार खिलाड़ियों को पवेलियन भेजा।

बाबर आजम 43 और यासिर शाह चार रन बनाकर क्रीज पर मौजूद थे। ऑस्ट्रेलिया में लगातार 13 टेस्ट गंवा चुकी पाकिस्तानी टीम ने हालांकि सुबह के सत्र में मार्नस लाबुशेन को 162 रन के स्कोर पर आउट किया। शाहीन अफरीदी की गेंद पर स्मिथ 36 रन बनाकर विकेटकीपर मोहम्मद रिजवान को कैच देकर आउट हुए। हालांकि इस दौरान स्मिथ ने 1946 से चले आ रहे रिकार्ड को तोड़ दिया। उन्होंने मुहम्मद मूसा की गेंद पर एक रन लेकर अपनी 126वीं पारी में 7,000 रन पूरे किये और इंग्लैंड के महान खिलाडी वाली हैमंड के 73 साल से चले आ रहे रिकॉर्ड को तोड़ा जिन्होंने यह उपलब्धि 131वीं पारी में हासिल की थी।

स्मिथ इस तरह देश के महान खिलाड़ी डोनाल्ड ब्रैडमैन के 6,996 टेस्ट रन के रिकॉर्ड को तोड़ने में भी सफल रहे। ऑस्ट्रेलिया ने एक विकेट पर 302 रन से आगे खेलना शुरू किया। तब वार्नर 166 और लाबुशेन 126 रन बनाकर खेल रहे थे। इन दोनों ने 67 रन और जोड़े जिसके बाद पाकिस्तान को इस 361 रन की रिकार्ड भागीदारी को तोड़ने में सफलता मिली। अफरीदी ने 25 साल के लाबुशेन को बोल्ड किया जो 162 रन की पारी खेलकर पवेलियन लौटे तो सभी ने खड़े होकर तालियां बजायी और यह उनकी लगातार दूसरी शतकीय पारी थी। उन्होंने और वॉर्नर ने दूसरे विकेट के लिये 361 रन की मैराथन रिकॉर्ड साझेदारी खेली जो ऑस्ट्रेलिया की ओर से पाकिस्तान के खिलाफ और गुलाबी गेंद के टेस्ट में सर्वश्रेष्ठ भागीदारी थी।

कुछ मिनट बाद वॉर्नर ने अपना दूसरा टेस्ट दोहरा शतक पूरा किया। अपने 81वें टेस्ट में खेल रहे वॉर्नर ने अफरीदी की गेंद पर एक रन लेकर 200 रन पूरे किये, जिसके लिये उन्होंने 23 चौके लगाये। वॉर्नर को ‘नो बॉल’ के कारण 226 रन पर जीवनदान मिला और उन्होंने इस मौके का पूरा फायदा उठाया और अपने पिछले सर्वश्रेष्ठ 253 रन के टेस्ट स्कोर को पछाड़ा जो उन्होंने 2015 में पर्थ में बनाया था। इसके बाद वह महज 389 गेंद में तिहरा शतक पूरा करके ‘इलीट क्लब’ में शामिल हो गये।

दूधिया रोशनी में पाकिस्तान के बल्लेबाज संभलकर नहीं खेल सके और लगातार विकेट गंवाते रहे। स्टार्क ने इमाम उल हक का विकेट लिया जबकि पैट कमिंस ने अजहर अली को आउट किया। जोश हेजलवुड ने शान मसूद को जबकि स्टार्क ने असद शफीक, इफ्तिखार अहमद और मोहम्मद रिजवान को सस्ते में पवेलियन भेजा।