भारत में बुनियादी सेवा सुविधाओं को पर्यावरण स्नेही बनाना एक्सकॉन 2019 का है उद्देश्य

भारत में बुनियादी सेवा सुविधाओं को पर्यावरण स्नेही बनाना एक्सकॉन 2019 का है उद्देश्य

जब बीमा की अवधारणा की बात आती है, तो कुछ तकनीकी चीजें हैं जिन्हें आपको समझना चाहिए। ये तकनीकी नीति के नियमों और शर्तों को निर्धारित करती हैं। जब तक आप पॉलिसी की शर्तों को नहीं समझते हैं, तब तक पॉलिसी के लाभों को समझना एक चुनौती साबित हो सकता है। श्री धिरेंद्र मह्यावंशी,सह-संस्थापक,टर्टलमिंट के अनुसार, उदाहरण केलिए सुनिश्चित राशि और बीमित राशि की अवधारणा। ये दोनों शर्तें बीमा पॉलिसी के कवरेज स्तर कोनिर्धारित करती हैं और इसलिए आप उन्हें विनिमय करने योग्य मानते हैं। लेकिन क्या वे विनिमय करने योग्य हैं सुनिश्चित राशि क्या है? सम एश्योर्ड जीवन बीमा पॉलिसी के कवरेज का प्रतिनिधित्व करता है। यह वह लाभ है जो बीमित व्यक्ति की मृत्यु या योजना की परिपक्वता होने पर भुगतान किया जाता है। बीमित राशि क्या है?दूसरी ओर, बीमित राशि, सामान्य बीमा पॉलिसियों के तहत कवरेज का स्तर है। यह राशि बीमा कंपनी द्वारा कवर की गई स्थिति के मामले में आपको क्षतिपूर्ति करने के लिए अधिकतम देयता दिखाती है। सुनिश्चित राशि और बीमित राशि के बीच विभिन्नताए.उपयोग (सम एश्योर्ड) सुनिश्चित राशिरू इस शब्द का उपयोग जीवन बीमा पॉलिसियों में किया जाता है।(सम इन्शुर्ड) बीमित राशिरू इस शब्द का उपयोग सामान्य बीमा पॉलिसियों में किया जाता है।प्रासंगिकता (सम एश्योर्ड) सुनिश्चित राशिरू (सम एश्योर्ड) सुनिश्चित राशि की अवधारणा प्रासंगिक हो जाती हैक्योंकि मानव जीवन के आर्थिक मूल्य को मापा नहीं जा सकता है। इस प्रकार, मृत्यु के मामले में,जीवन के नुकसान की लागत का पता नहीं लगाया जा सकता है। इसलिए, पॉलिसी उस कवरेज राशि का भुगतान करती है जिसे पॉलिसी खरीदते समय पॉलिसीधारक ने चुना था।(सम इन्शुर्ड) बीमित राशिरू सामान्य बीमा पॉलिसियों को परिसंपत्तियों पर या कुछ घटनाओं में हुईवित्तीय हानि को कवर करने के लिए लिया जाता है । परिसंपत्ति के मूल्य या नुकसान की मात्रा काआसानी से पता लगाया जा सकता है। यही कारण है कि सामान्य बीमा पॉलिसियां क्षतिपूर्ति केसिद्धांत का पालन करती हैं और बीमित राशि की अवधारणा का उपयोग करती हैं। उदाहरणा एक जीवन बीमा पॉलिसी में, यदि कवर १० लाख रूपये के लिए खरीदा जाता है और पॉलिसी अवधि के दौरान बीमित व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है, तो मृत्यु लाभ १० लाख रूपये होगा, जो कि पॉलिसी का सुनिश्चित राशि है।सामान्य बीमा पॉलिसियों के मामले में, जैसे स्वास्थ्य बीमा है, मान लें कि कवरेज स्तर ५ लाखरूपये है। जब बीमाधारक को अस्पताल में भर्ती कराया जाता है, तो चिकित्सा बिलों की राशि 3 लाख रुपये हुई इस समय हालांकि बीमा राशि ५ लाख रूपये है, लेकिन देय दावा केवल 3 लाख रुपये तक सीमित होगा जो कि वास्तविक नुकसान है। हालांकि, अगर अस्पताल बिल की राशि ६ लाख रूपये है, तो दावा ५ लाख रूपये होगा जो कि बीमा कंपनी द्वारा बीमा की गई अधिकतम देयता है।