सेलेक्टर बनना चाहते हैं सहवाग

सेलेक्टर बनना चाहते हैं सहवाग

नई दिल्ली : भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ताबड़तोड़ सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ट्विटर पर काफी सक्रिय रहते हैं और अक्सर अपने ट्वीट्स के कारण चर्चा में रहते हैं। टेस्ट क्रिकेट में दो तिहरे शतक लगा चुके वीरेंद्र सहवाग ने अब अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से एक ऐसा ट्वीट किया है जिसको देखकर ये समझ पाना मुश्किल है कि क्या उन्होंने मजाक किया है या उन्होंने उस ट्वीट में अपने दिल की बात की है। दरअसल, सहवाग ने ट्वीट करके भारतीय टीम के चयनकर्ता बनने की इच्छा व्यक्त की है।

वीरू ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से ट्वीट करते हुए लिखा, 'मुझे सेलेक्टर बनना है, कौन मुझे मौका देगा?' सहवाग के इस ट्वीट पर सोशल मीडिया पर उनके फैंस काफी रिएक्शन दे रहे हैं। अब ये समझ पाना मुश्किल है कि सहवाग सच में भारतीय टीम के कोच बनना चाहते हैं या उन्होंने ये ट्वीट मजाक में किया है। हालांकि, इस सवाल का जवाब तो खुद वीरू ही दे सकते हैं। लेकिन, अगर वो सच में भारतीय टीम के सेलेक्टर बनना चाहते हैं, तो ये देखना होगा कि उनका ये ट्वीट बीसीसीआई तक पहुंचता है या नहीं।

अगर मैदान पर वीरेंद्र सहवाग के करियर पर नजर डालें, तो मौजूदा चयनकर्ताओं के मुकाबले उनका करियर काफी शानदार रहा है। सहवाग ने 1999 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया था और 2015 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया था। अपने डेढ़ दशक के करियर के दौरान, उन्होंने 104 टेस्ट और 251 वनडे इंटरनेशनल में भारत का प्रतिनिधित्व किया। वह टीम इंडिया की कई ऐतिहासिक जीत का हिस्सा भी रह चुके हैं, जिसमें 2002 में प्रसिद्ध नैटवेस्ट त्रिकोणीय श्रृंखला जीत, 2003/04 में पाकिस्तान का अविस्मरणीय दौरा, 2007 में विश्व टी20 जीतना, 2007-08 में ऑस्ट्रेलिया में त्रिकोणीय श्रृंखला जीत भी शामिल है।

वनडे क्रिकेट में दोहरा शतक लगा चुके सहवाग उस भारतीय टीम का भी हिस्सा रह चुके हैं, जो 2009 में आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में नंबर वन पर पहुंची थी और उसके बाद 2011 में विश्व कप जीतने में भी सफल रही थी। क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद ये पूर्व विस्फोटक बल्लेबाज कमेंटेटर के रूप में और एक खेल विशेषज्ञ के रूप में क्रिकेट से जुड़ा हुआ है। हालांकि, वीरू सोशल मीडिया पर अपने ट्वीट्स के जरिए भी अपने फैंस का मनोरंजन करते रहते हैं। इसके अलावा सहवाग 2016, 2017 और 2018 में आईपीएल टीम किंग्स इलेवन पंजाब के साथ मेंटर के रूप में भी काम कर चुके हैं।

40 वर्षीय सहवाग ने करियर का आखिरी टेस्ट मैच 2013 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला था। दिल्ली के लिए घरेलू क्रिकेट खेलने वाले वीरू के नाम 104 टेस्ट में 8586 रन और 251 वनडे में 8273 रन दर्ज हैं। इसके अलावा वह वनडे में 96 और टेस्ट में कुल 40 विकेट भी ले चुके हैं। वहीं, टी20 क्रिकेट में भी सहवाग ने अपना जलवा जारी रखा। मुल्तान के सुल्तान ने 19 टी20 मैच खेले जिनमें उन्होंने 2 अर्धशतकों की मदद से कुल 394 रन बनाए। वहीं, अगर बाकी चयनकर्ताओं के साथ सहवाग के करियर की तुलना की जाए, तो वीरू इस रेस में कई आगे नजर आते हैं। आइए नजर डालते है कि मौजूदा चयनकर्ताओं ने खिलाड़ियों के रूप में वीरू के मुकाबले कैसा प्रदर्शन किया है।