संघी कांग्रेसियों के षड्यंत्रों का शिकार हुए राहुल गांधी

संघी कांग्रेसियों के षड्यंत्रों का शिकार हुए राहुल गांधी

सौ साल से भी पुरानी पार्टी की कयादत एक बार फिर माँ के आँचल में पहुँच गई

लखनऊ से तौसीफ़ क़ुरैशी

राज्य मुख्यालय लखनऊ।सौ साल से भी अधिक पुरानी पार्टी की कयादत एक बार फिर माँ के आँचल में पहुँच गई है।लोकसभा चुनाव में अपेक्षा से कम सफलता मिलने पर आदर्शवादी नेता राहुल गांधी ने पार्टी की हार की ज़िम्मेदारी लेते हुए नैतिकता के नाते पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था और काफ़ी मानमनोव्वल के बाद भी पार्टी की कयादत संभालने को तैयार नही हुए थे संघी कांग्रेसियों के षड्यंत्रों का शिकार हुए राहुल गांधी।इस लिए कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं को लगा कि अगर कांग्रेस की कमान किसी गैर गांधी को दी गई तो कही कांग्रेस का हाल सीताराम केसरी वाली कांग्रेस न हो जाए जब भी कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने जाकर कांग्रेस की कयादत करने को सोनिया गांधी को मनाया था कमोबेश तब भी कांग्रेस की यही हालत थी या यूँ कहे कि इससे भी बुरे दौर में थी तो गलत नही होगा।कांग्रेस की हालत देख और कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की अपील को स्वीकार कर कांग्रेस को मजबूत करने के लिए श्रीमती सोनिया गांधी ने कांग्रेस की कयादत को क़बूल कर लिया था जैसे अब क़बूल किया है हालाँकि राहुल गांधी ने इस्तीफ़े के बाद कहा था कि कांग्रेस का नया अध्यक्ष गांधी परिवार से नही होगा राहुल गांधी का कथन मोदी की भाजपा के हिसाब से सही भी था कि गांधी परिवार ही है जो उसके झूट के बने महल को गिरा सकता है इस लिए वह चाहती है कि कांग्रेस का नेतृत्व गैर गांधी के हाथ में आ जाए और वो अपने झूट से पूरे हिन्दुस्तान की जनता को मूर्ख बनाती रहे इस रणनीति को तो कांग्रेस के चाणक्य अहमद पटेल ने फेल कर दिया और फिलहाल सोनिया गांधी को अंतरिम अध्यक्ष बनवाकर सोनिया गांधी पर एक बार फिर कांग्रेस के कार्यकर्ताओं की उम्मीदों पर खरा उतरने की ज़िम्मेदारी आ गई है कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं को उनसे उम्मीद गलत भी नही है क्योंकि जब उन्होने पहली बार कांग्रेस की कयादत सँभाली थी उस समय भी पार्टी और जनता की उम्मीदों पर खरा उतरते हुए कांग्रेस को सत्ता की चाबी लाकर दी थी जो लगभग दस साल तक चली थी जिस तरीक़े से उस समय अटल-अाडवाणी जैसे भाजपा के दिग्गज़ नेताओं के जबड़े से सत्ता निकाल कांग्रेस को सत्ता के केन्द्र में लायी थी सोनिया गांधी ने 2004 के लोकसभा चुनाव में हराया ही नही था बल्कि जब की भाजपा को महत्वहीन भी कर दिया था ठीक उसी तरह से मोदी-शाह की जोड़ी को परस्त कर पार्टी को सत्ता के केन्द्र में लाना बडी चुनौती है।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 2014 की सफलता के बाद से एक ही बात मंच से करते है कि हिन्दुस्तान को कांग्रेस मुक्त करना है हालाँकि मोदी की भाजपा की पीछे से मदद करने वाला संगठन RSS ये बात साफ कर चुका है कि हमारी कांग्रेस मुक्त हिन्दुस्तान की कोई कोशिश नही है जबकि वह झूट बोलकर कांग्रेस में संघ की मदद करने वालों को यह संदेश देना है कि यह सोच मोदी की होगी हमारी नही यह कहकर वह मूर्ख बनाते है असल मक़सद तो संघ का ही है कि किसी भी तरह कांग्रेस को सत्ता के केन्द्र से साफ किया जाए तब जाकर ही अपना काम खुलकर करेगे आज तक कांग्रेस के अंदर मोजूद लोगों ने संघ को पाला पोशा है नही तो संघ इतना बड़ा और पावरफुल संगठन न बनता यह कड़वी सच्चाई है जिसे कांग्रेस को और उसके वर्तमान नेतृत्व को मानना पड़ेगा। राहुल गांधी उन्हीं नेताओं के हाथों में नही खेले और वही नेता राहुल के खिलाफ षड्यंत्र रचते रहे और आख़िरकार राहुल गांधी को कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा देना पड़ा।मई 1991 में आतंकवादी हमले के चलते राजीव गांधी की हत्या के बाद कांग्रेस गांधी परिवार से अलग रही केन्द्र में और कई राज्यों में पूर्ण बहुमत की सरकार होने के बावजूद 1996 आते-आते जहाँ कई राज्यों से कांग्रेस विलुप्त सी हो गई थी सिर्फ़ नाममात्र को बची थी इसी का फ़ायदा उठाकर कई राज्यों में स्वार्थी कांग्रेस नेताओं ने बग़ावत कर अपनी अलग पार्टियाँ बना ली थी कांग्रेस की राज्य समितियों को अपनी पार्टियाँ घोषित कर दी गई थी।1996 के लोकसभा चुनावों में कांग्रेस की इतनी बुरी हालत हुई कि उसे गठबंधन के लायक भी नही समझा गया और तीसरे मोर्चे की सरकार बनी उस समय कांग्रेस हिन्दी हार्ट में चार राज्य हार गई थी और पूरे हिन्दुस्तान से साफ सी हो गई थी।1996 में बनी तीसरे मोर्चे की सरकार ज़्यादा नही चली और 1998 में मध्यावधि चुनाव हुए और भाजपा की पहली बार सरकार बनी कांग्रेस की हालत और भी ख़राब हो गई कश्मीर और केरल तक से कांग्रेस जा चुकी थी बस यही से होश आने की शुरूआत होती है कांग्रेस के नेताओं को महसूस होना शुरू हो गया था कि अगर गांधी परिवार के सदस्य को कांग्रेस की कयादत नही दी गई तो कांग्रेस गुज़रे ज़माने की बात हो जाएगी ये बात त्याग की मूर्ति सोनिया गांधी की भी समझ में आ रही थी क्योंकि कांग्रेस से उनका पुराना रिश्ता है कि कांग्रेस को इस बुरे दौर में साहरा नही दिया तो कांग्रेस गुज़रे ज़माने की बात हो जाएगी और कांग्रेस नेता भी सोनिया गांधी को इमोशनल ब्लैकमेल कर रहे थे इसके बाद सोनिया गांधी 1999 में कांग्रेस की कयादत करने तैयार हो गई जब की भाजपा ने सोनिया गांधी के सियासत में आने को बहुत गंभीरता से नही लिया लेकिन 13 महीने पुरानी अटल सरकार सदन में अविश्वास प्रस्ताव पर बहुमत साबित नही कर पायी और सरकार गिर गई। अब संघ ने झूट के षड्यंत्रों का दौर शुरू किया सोनिया गांधी के खिलाफ विदेशी होने का मुद्दा उछाला गया जिसका असर ये हुआ कि महाराष्ट्र के क़द्दावर नेता शरद पवार और पी ए संगमा जैसे नेता पार्टी छोड भाग खड़े हुए और अपनी पार्टी बना ली अचानक हुए इस षडयंत्र के लिए पार्टी तैयार नही थी और एक बार फिर भाजपा की अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में एनडीए की केन्द्र में सरकार बन गई। इसी बीच सोनिया गांधी कांग्रेस को मजबूत करने में लगी रही कांग्रेस की गुटबाज़ी ख़त्म और जनता में कांग्रेस के प्रति लगाव को बढ़ाती रही इसी बीच 2003 में चार राज्यों में चुनाव हुए जिसमें मध्य प्रदेश , छत्तीसगढ़ , राजस्थान , व दिल्ली के विधानसभा के चुनावों में भाजपा ने बहुमत वाली सरकारें बना ली इसी से प्रभावित होकर छह महीने पहले लोकसभा चुनाव का एलान कर दिया गया और नारा दिया गया “इंडिया शाइनिंग” पर कांग्रेस ने गुटबाज़ी को एक तरफ़ रख सोनिया गांधी के नेतृत्व मज़बूती से इस खोखले नारे की हवा निकाली जिसका परिणाम कांग्रेस के नेतृत्व में यूपीए की सरकार बनी कांग्रेस ने इस बात पर कि भाजपा क्या कह रही है क्या कर रही है इसको ध्यान न देकर देश को मजबूत करने पर ध्यान दिया जबकि भाजपा का पूरा ध्यान गांधी परिवार पर रहा सबसे पहले सुषमा स्वराज और उमा भारती को यह षड्यंत्र रचने पर लगाया कि किसी भी तरह सोनिया गांधी प्रधानमंत्री न बन पाए सोनिया का इटली का होना भाजपा के षड्यंत्र में काम आया।सोनिया गांधी के विदेशी मूल के मुद्दे पर पहले भी शोर मचाता रहता था अब सत्ता जाने के बाद उसे ही हथियार बना लिया संघियों ने घोर निंदनीय दुष्प्रचार किया बारबाला व कॉलगर्ल्स बताया गया जिस तरह राहुल गांधी के खिलाफ झूटे क़िस्सों को प्रचारित कर उन्हें पप्पू नाम देकर बदनाम किया गया जहाँ तक राहुल को जानने वालों का मानना है कि राहुल बहुत ही होनहार है और वह सबको साथ लेकर चलने में विश्वास रखते है क़ाबलियत तो उनमें बेशुमार है संघियों को मालूम है कि जब भी देश राहुल गांधी के नेतृत्व में आएगा तो देश अपनी कामयाबी की नई इबारत लिखेगा ये सच है। धार्मिक भावनाओं पर सवार होकर जिस तरीक़े से प्रधानमंत्री नौजवानों को राष्ट्रवाद की चादर ओढ़ाने में कामयाब हो रहे है और मोदी की भाजपा जनता को मूल मुद्दों से दूर ले जा रही है उसको अगर कोई बेनक़ाब करने में सक्षम है तो वह गांधी परिवार ही है जो जनता को सच दिखाएगा। सोनिया गांधी के फिर से अध्यक्ष बनने के बाद पार्टी को संघर्ष करने का मौक़ा मिलेगा राहुल और प्रियंका गांधी का उन्हें भरपूर्व सहयोग मिलेगा। अगर पार्टी के वर्कर सोनिया राहुल व प्रियंका गांधी के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलते रहे तो कांग्रेस 2024 में मोदी की भाजपा के सामने काफ़ी मजबूत होकर मोदी की भाजपा व संघ के झूट का पर्दाफ़ाश करेगी।