कल विदर्भ और मुंबई का भी हो सकता है कश्मीर जैसा हाल : राज ठाकरे

कल विदर्भ और मुंबई का भी हो सकता है कश्मीर जैसा हाल : राज ठाकरे

मुंबई: महाराष्ट्र नव निर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे ने पीएम मोदी और केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा, मुझे एक बीजेपी नेता ने बताया है कि सभी विरोधी पार्टियां एक साथ तब भी हम ही जीतेंगे क्योंकि उनके (विपक्ष) पास मशीन (EVM)नहीं है. राज ठाकरे ने कहा कि उन्होंने सोनिया गांधी और ममता बनर्जी से मुलाकात की है. अगर ऐसे ही चलता रहा तो चुनाव लड़ने की जरूरत नहीं है. इन दोनों ने भी माना है कि गड़बड़ है. यह सिर्फ उनका आंदोलन नहीं है. राज ठाकरे ने कहा कि कल कश्मीर से अनुच्छेद 370 पर सब लोग पेड़े बांट रहे थे लेकिन अनुच्छेद 371 को लेकर महाराष्ट्र में जो गड़बड़ी हुई है उस पर कोई बोलने के लिए तैयार नहीं हुआ है. आरटीआई संशोधन बिल पर ठाकरे ने कहा कि जब केंद्र के नियंत्रण में होगा तो सब कुछ नरेंद्र मोदी और अमित शाह ही तय कर लेंगे. यह सब क्योंकि हुआ? इसलिए कि एक व्यक्ति ने नरेंद्र मोदी से बीए का सर्टिफिकेट मांग लिया था. मौसम विभाग के खिलाफ अफवाह फैलाने का मामला दर्ज करना चाहिए : राज ठाकरे

आतंकवाद विरोधी कानून ( UAPA) संशोधन बिल पर राज ठाकरे ने कहा कि अब एक भी व्यक्ति पर शक हुआ तो उसे आतंकवादी घोषित कर दिया जाएगा. यह अधिकार किसे मिल गया है अमित शाह को. कल किसी को भी जेल में डाल देंगे फिर मुकदमा लड़ते रहो. ये सब क्यों हो रहा है बहुमत की वजह से. मनसे प्रमुख ने कहा कि देश की आर्थिक स्थिति खराब है. जेय एयरवेज बंद हो गई है, एयर इंडिया नुकसान में है. बीएसएनएल में वेतन के लिए पैसे नहीं है, वाहन उद्योग में भारी मंदी है, बेकारी की तलवार लटक रही है. नरेंद्र मोदी कह रहे हैं कि वहां (जम्मू-कश्मीर) रोजगार लाएंगे, लेकिन जहां 370 नहीं था वहां रोजगार क्यो नहीं है. उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र में बेकारी है. नमो-नमो को जपने वालों को तब समझ में आएगा जब उनके घर में टक-टक होगा. कल समान नागरिक कानून आएगा. परसों राम मंदिर बनाएंगे. लोग सिर्फ ताली बजाते रहेंगे. ठाकरे ने कहा कि सभी राज्यों के महत्व और अधिकार कम कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि देश कभी एक था ही नहीं. अलग-अलग भाषा के हिसाब से राज्य बनाने पड़े.

ठाकरे ने कहा, 'आज जो कश्मीर में हुआ कल वह विदर्भ में और परसों मुंबई में हो सकता है. सबकी आवाज बंद की जा सकती है. यह सब क्यों हो रहा है क्योंकि वह बहुमत में हैं. सरकार के खिलाफ लोग लिखना चाहते हैं. बोलना चाहते हैं पर डरते हैं. खबरें छपती नहीं है'. ठाकरे ने आशंका जताते हुए कहा कि कल न्यायालय से न्याय मिलेगा, कह नहीं सकते...चुनाव आयोग सही काम कर रहा है... कह नहीं सकते. एकाध चैनल या अखबार सरकार के खिलाफ लिख सकते हैं तो उन पर दबाव लाया डाला रहा है. ठाकरे ने कहा कि आज बीजेपी के जो फॉलोवर हैं उनसे मेरा कहना है कि जब उनकी तरफ बेलन घूमेगा तब सब भूल जाएंगे कि ब्राम्हण है, दलित है कि माली है.

India