क्लिनिकल नॉलेज डेवलपमेन्ट प्रोग्राम की घोषणा

क्लिनिकल नॉलेज डेवलपमेन्ट प्रोग्राम की घोषणा

नयी दिल्ली। ग्लोबल एसोसिएशन ऑफ फिजिशियन्स ऑफ इण्डियन ओरिजिन (जीएपीआईओ) ने युवा फिजिशियन्स को प्रशिक्षित करने के लिये क्लिनिकल नॉलेज डेवलपमेंट प्रोग्राम की घोषणा की है। पहले चरण में यह प्रोग्राम 12 स्थानों दिल्ली, अहमदाबाद, मदुराई, हैदराबाद, बैंगलोर, मैसूर, चेन्नई, मुंबई, लखनऊ, कोलकाता, भुवनेश्वर और विज़ाग में आयोजित किया जाएगा। जिसमें एसोसिएशन से जुड़े जाने माने चिकित्सक हिस्सा लेंगे। इन्द्रप्रस्थ अपोलो हॉस्पिटल्स, नई दिल्ली में हुये क्लिनिकल नॉलेज डेवलपमेंट प्रोग्राम की घोषणा के दौरान एसोसिएशन के संस्थापक अध्यक्ष एवं चेयरमैन अपोलो हॉस्पिटल्स ग्रुप डा0 प्रताप सी रेड्डी, नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत सहित कई जाने माने चिकित्सक मौजूद थे।

इस मौके पर डा0 रेड्डी ने बताया कि फिज़िशियनों का यह कार्यबल हमारे लिए उत्कृष्ट संसाधन है जो दुनिया भर में स्वास्थ्य सेवाओं के विकास को प्रोत्साहित करने में उल्लेखनीय योगदान दे सकता है। एसोसिएशन के साथ दुनिया के 34 देशों से प्रतिनिधि जुड़े हैं। भारतीय चिकित्सकों को दुनिया भर में उनके नैदानिक कौशल के लिए जाना जाता है। यह एसोसिएशन जैसा मंच स्वास्थ्यसेवा क्षेत्र में सकारात्मक बदलाव लाने में महत्वपूर्ण साबित हो सकते हैं। वहीं अमिताभ कांत, मुख्य कार्यकारी अधिकारी, नीति आयोग ने कहा क्लिनिकल नॉलेज डेवपलमेन्ट प्रोग्राम का लॉन्च भारतीय चिकित्सा समुदाय के सदस्यों, खासतौर पर युवा सदस्यों के लिए बेहद फायदेमंद साबित होगा, जिसमें प्रशिक्षण प्रोग्रामों, वेबिनारों, वीडियोज़ एवं मेंटरशिप प्रोग्रामों का आयोजन किया जाएगा।

एसोसिएशन के अध्यक्ष डा0 रमेश मेहता ने बताया कि एसोसिएशन के डेवलपमेन्ट प्रोग्राम के तहत 2017 में एक लीडरशिप डेवलपमेन्ट प्रोग्राम का लॉन्च किया गया था जिसमें सॉफ्ट स्किल, टाईम मैनेजमेन्ट, कम्युनिकेशन, टीम बिल्डिंग जैसे अवयवों को शामिल किया गया। यह प्रोग्राम अब विदेशों तक पहुंच गया है। घोषित किये गये इस नये प्रोग्राम को लेकर डॉ अनुपम सिब्बल, ग्रुप मेडिकल डायरेक्टर, अपोलो हॉस्पिटल्स ग्रुप एवं वाईस प्रेज़ीडेन्ट, ग्लोबल एसोसिएशन ऑफ फिजिशियन्स ऑफ इण्डियन ओरिजिन ने कहा युवा फिज़िशियनों को प्रशिक्षण प्रदान करना अपोलो के क्लिनिकल नॉलेज डेवलपमेन्ट प्रोग्राम का मुख्य उद्देश्य है, ताकि वे समाज को कुछ दे सकें। पहले प्रोग्राम में न्यूयॉर्क से जाने माने आेंकोलोजिस्ट, पद्मश्री प्रोफेसर दत्तत्रेयुदु नोरी, इंटरनेशनल डायरेक्टर- अपोलो कैंसर सेंटर एवं पूर्व चीफ़, ब्रैकीथेरेपी सर्विस, मैमोरियल स्लोअन केटरिंग कैंसर सेंटर, न्यूयॉर्क, यूएसए, पूर्व प्रोफेसर एवं चेयरमैन- डिपार्टमेन्ट ऑफ रेडिएषन ओंकोलोजी, न्यूयॉर्क- प्रेसबाइटेरियन, वील कॉरनेल मेडिकल सेंटर, यूएसए, पूर्व डायरेक्टर, कैंसर सेंटर, न्यूयॉर्क- प्रेसबाइटेरियन क्वीन्स, यूएसए), डॉ एस के वांगनू सीनियर कन्सलटेन्ट, एंडोक्राइनोलोजी, भारत के पूर्व राष्ट्रपति के पूर्व फिज़िशियन), डॉ साई सतीश सीनियर कन्सलटेन्ट- स्ट्रक्चरल कार्डियोलोजी और डॉ संजीव जसूजा सीनियर कन्सलटेन्ट, नेफ्रोलोजी ने अपने अपने क्षेत्र में अपने विचार प्रस्तुत किए।