गांगुली और नासिर हुसैन ने धोनी-केदार के रवैये पर जताई हैरानी

गांगुली और नासिर हुसैन ने धोनी-केदार के रवैये पर जताई हैरानी

बर्मिंघम: आईसीसी विश्व कप में रविवार को भारत को इंग्लैंड के खिलाफ 31 रन से हार का सामना करना पड़ा। इंग्लैंड के खिलाफ मिली हार के दौरान टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने महेंद्र सिंह धौनी की लचर बल्लेबाजी को लेकर काफी आलोचना की। भारत के सामने 338 रन का लक्ष्य था लेकिन वो पांच विकेट पर 306 रन ही बना पाया। धौनी 31 गेंदों पर 42 और केदार जाधव 13 गेंदों पर 12 रन बनाकर नॉटआउट लौटे।

मैच की कमेंट्री कर रहे पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने बल्लेबाजी रवैये पर सवाल उठाए। गांगुली ने कहा, 'मेरे पास इसके लिये कोई स्पष्टीकरण नहीं हैं। मैं इन एक-एक रन को एक्सप्लेन नहीं कर सकता। लेंथ और उछाल ने भी भारतीय बल्लेबाजों को गच्चा दिया। आप 338 का लक्ष्य हासिल नहीं कर सकते लेकिन आखिर में आपके पांच विकेट बचे होते हैं।' उन्होंने कहा, 'ये मनोदशा और मैच को लेकर आपकी सोच से जुड़ा है। मेसेज साफ होना चाहिए था, चाहे जैसे भी हो और चाहे गेंद जहां भी पड़े आपको चौका या छक्का लगाना ही होगा।'

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन ने कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि भारतीयों के रवैये को देखकर फैन्स को निराशा हुई होगी। हुसैन ने कमेंट्री करते हुए कहा, 'मैं बहुत हैरान हूं। क्या चल रहा है। भारत ऐसा नहीं चाहता है। उसे रन की जरूरत है। वे क्या कर रहे हैं। कुछ भारतीय फैन्स स्टेडियम से निकलने लग गए हैं। निश्चित तौर पर वे धौनी से बड़े शॉट चाहते हैं। ये विश्व कप का मैच है। दो चोटी की टीमें खेल रही हैं। भारतीय फैन्स चाहते हैं कि उनकी टीम कुछ और प्रयास करे। जीत के लिए जोखिम ले।' पूर्व भारतीय क्रिकेटर संजय मांजरेकर ने भी हुसैन की हां में हां मिलायी। मांजरेकर ने कहा, 'अगर कोई टीम भारत के विजय अभियान को रोक सकती थी तो वो इंग्लैंड थी। हालांकि आखिरी ओवरों में धौनी का रवैया हैरान करने वाला रहा।'