सहारनपुर में 'बोटी बोटी' को फिर भुनाने की कोशिश

सहारनपुर में 'बोटी बोटी' को फिर भुनाने की कोशिश

सहारनपुर से तौसीफ़ क़ुरैशी

सहारनपुर।मोदी की भाजपा सबका साथ, सबका विकास के नारे को छोड हिन्दु-मुसलमान पर उतर आयी है।सहारनपुर में हार को क़रीब से देखते हुए प्रधानमंत्री ने मुसलमानों को गठबंधन से दूर करने के लिए कांग्रेस प्रत्याशी इमरान मसूद के पूर्व के बयान को प्रमुखता से उठाते हुए कहा कि यहाँ से मेरी बोटी-बोटी करने वाला भी चुनाव लड़ रहा है उनका ये कहना सियासी तौर पर मुसलमानों को विचलित करने के लिए दिया गया भाषण माना जा रहा है इससे पहले यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी इसी तरह का बयान देकर गये थे उन्होने नाम न लेते हुए आतंकी मसूद अज़हर का दामाद बताया था ताकि मुसलमान गठबंधन को न जाकर कांग्रेस में चला जाए और मोदी की भाजपा आराम से जीत जाए लेकिन सहारनपुर का मुसलमान दलितों के साथ मिलकर मोदी की भाजपा को हराने की रणनीति बना रहा है यही रणनीति मोदी की भाजपा की हार का कारण बन सकती है और अगर मुसलमान ने वो किया जो मोदी चाह रहे है तो फिर मोदी की भाजपा के लिए जीतना आसान हो सकता है अब ये मुसलमानों को तय करना है कि वो मोदी की भाजपा को हराने के लिए गठबंधन को वोट करता है या मोदी की भाजपा को जिताने के लिए कांग्रेस को वोट करता है क्योंकि कांग्रेस के पास सिर्फ़ मुसलमान का ही वोट है वो चाहे कम है या ज़्यादा कोई और वोट न मिलने की वजह से मोदी की भाजपा जीत जाएगी लेकिन अगर मुसलमानों ने गठबंधन को वोट किया तो मोदी की भाजपा क़रीब दो लाख वोट से हारेगी यही समीकरण बता रहे है।2014 में जब इमरान मसूद ने मोदी की बोटी-बोटी वाला बयान दिया था तब भी सेकुलर ताकते सहारनपुर तो हारे ही थी और अन्य प्रदेशों में भी कांग्रेस को भारी नुक़सान हुआ था यही अब भी करने के लिए मोदी की भाजपा ने स्ट्रेटेजी बनायी है कि सहारनपुर में किसी तरह ध्रुवीकरण हो जाए अब ये तो 11 अप्रैल को होने होने वाले मतदान के बाद ही पता चलेगा कि मोदी की भाजपा की स्ट्रेटेजी कामयाब होगी या मुसलमानों की मोदी रोको स्ट्रेटेजी कामयाब होती है वैसे देखा जाए तो मुसलमान और दलित लामबंध होकर एक साथ खड़ा दिखाई दे रहा है और इसमें वो वोट भी शामिल है जो मोदी की भाजपा को हराना चाहता है। सहारनपुर की रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस के इमरान मसूद पर निशाना साधा।उन्होंने कहा कि कांग्रेस के पास बोटी-बोटी वाले लोग हैं जो शहजादे के चहेते हैं।उत्तर प्रदेश के चुनावी रण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को सहारनपुर के नानौता में अपनी चुनावी सभा को संबोधित किया।पीएम ने यहां अपनी रैली में कांग्रेस, समाजवादी पार्टी-बहुजन समाज पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल पर निशाना साधा,उन्होंने यहां कांग्रेस के उम्मीदवार इमरान मसूद को भी आड़े हाथों लिया,PM मोदी ने कांग्रेस के इमरान मसूद पर हमला करते हुए कहा कि सहारनपुर में तो बोटी-बोटी करने वाले साहब भी हैं।वो बोटी-बोटी करने वाले लोग हैं और हम बेटी-बेटी को सुरक्षा देने वाले लोग हैं।उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कांग्रेस टुकड़े-टुकड़े गैंग का समर्थन करती है, समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी भी सबूत मांगने का काम करती है,उन्होंने कहा कि देश कह रहा है कि मोदी को राष्ट्र की रक्षा करनी चाहिए, लेकिन कांग्रेस कह रही है कि वह आतंक का समर्थन करने वालों से बात करेगी।PM ने कहा कि मोदी से पार पाने के लिए राष्ट्र को दांव पर लगाने में जुट गए हैं।प्रधानमंत्री मोदी ने रैली में कहा कि सहारनपुर में हिंसा को बुआ-बबुआ भुला सकते हैं, लेकिन यूपी की जनता नहीं भुला सकती है. यूपी में हमारी सरकार आने के बाद पलायन का दौर खत्म हो गया है।उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने अपने ढकोसला पत्र में कहा है कि वह बेटियों के साथ दुष्कर्म करने वालों को ज़मानत देगी, लेकिन क्या ऐसा होना चाहिए।उन्होंने कहा कि बोटी-बोटी की बात करने वाले चाहते हैं कि मोदी हटाओ और वंशवाद बढ़ाओ।प्रधानमंत्री ने कहा कि महामिलावटी लोगों के आचरण से पता लगता है कि सत्ता में आने के बाद वो कैसे काम करेंगे।पिछड़ों के हितों की रक्षा कभी नहीं की जाएगी, याद रखिए कांग्रेस हमेशा पिछड़ों की विरोधी रही है.आपको बता दें कि सहारनपुर से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमरोहा में भी जनसभा को संबोधित किया था,11 अप्रैल को होने वाले पहले चरण के मतदान में उत्तर प्रदेश की 8 सीटों पर वोट डाले जाएंगे।इन आठों सीटों पर गठबंधन मोदी की भाजपा को कड़ी टक्कर दे रहा है अगर ये भी कहा जाए तो गलत नही होगा कि यहाँ गठबंधन जीत रहा है इसी लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इमरान मसूद के पूर्व के बोटी-बोटी वाले बयान को प्रमुखता से उठा गए है जिसका कोई असर मुसलमानों में देखने को नही मिल रहा है गठबंधन भारी लग रहा है।