Exit Poll : तेलंगाना में TRS का जलवा क़ायम

Exit Poll : तेलंगाना में TRS का जलवा क़ायम

नई दिल्ली : एग्जिट पोल के नतीजों के मुताबिक तेलंगाना में चंद्रशेखर राव की पार्टी टीआरएस बहुमत हासिल कर सकती है. एनडीटीवी के पोल ऑफ एग्जिट पोल्स के मुताबिक 119 सीटों में से टीआरएस के खाते में 64 सीटें जा सकती हैं. जबकि कांग्रेस व अन्य को 41, बीजेपी को 5 और अन्य को 9 सीटें मिल सकती हैं. टाइम्स नाऊ-सीएनएक्स के मुताबिक तेलंगाना में टीआरएस (तेलंगाना राष्ट्र समिति) बहुमत हासिल कर सकती है. टीआरएस को 66, कांग्रेस व अन्य को 37, बीजेपी को 7 और अन्य को 9 सीटें मिल सकती हैं. वहीं, टीवी9 तेलुगू-एआरए के पोल के मुताबिक तेलंगाना में टीआरएस को 75-85, कांग्रेस व अन्य को 25-35, बीजेपी को 2-3 व अन्य के खाते में 7-11 सीटें जा सकती हैं. इसी तरह, रिपब्लिक टीवी-जन की बात के एग्जिट पोल के मुताबिक टीआरएस बहुमत हासिल करने की ओर है. टीआरएस को 50-65, कांग्रेस व अन्य को 38-52, बीजेपी को 4-7 और अन्य दलों को 8-14 सीटें मिल सकती हैं.

इसी तरह, न्यूज नेशन के एग्जिट पोल की बात करें तो तेलंगाना में टीआरएस को 53-57, कांग्रेस प्लस को 51-55, बीजेपी को 1-5 और अन्य को 4-12 सीटें मिल सकती हैं. रिपब्लिक-सी वोटर के एग्जिट पोल के मुताबिक टीआरएस को 48-60, कांग्रेस प्लस को 47-59, बीजेपी को 5 और अन्य के खाते में 1-13 सीटें जा सकती हैं. वहीं, इंडिया टुडे-एक्सिज माई नेशन के पोल के मुताबिक टीआरएस सरकार बना सकती है. टीआरएस के खाते में 79-91, कांग्रेस प्लस को 21-33, बीजेपी को 1-3 और अन्य को 4-7 सीटें मिल सकती हैं. टी-न्यूज के एग्जिट पोल के मुताबिक टीआरएस 55-65, कांग्रेस प्लस 34-44, बीजेपी 5-7 और अन्य दल 13-16 सीटें हासिल कर सकते है. इसी तरह न्यूज एक्स-नेटा के पोल के अनुसार टीआरएस 57, कांग्रेस प्लस 46, बीजेपी 6 और अन्य दल 10 सीटों पर कब्जा जमा सकते हैं.

गौरतलब है कि तेलंगाना में 119 सीटों पर हुए चुनाव में तमाम दल अपनी-अपनी जीत के दावे कर रहे हैं. तेलंगाना में मुख्यमंत्री केसीआर यानी के चंद्रशेखर राव के लिए दोहरी मुसीबत है. इस बार उनके सामने कांग्रेस और टीडीपी साथ-साथ है. टीआरएस के सामने कांग्रेस और चंद्रबाबू नायडू ही नहीं, बल्कि बीजेपी भी है. पांचों राज्यों में हो रहे चुनाव के परिणामों का ऐलान 11 दिसंबर को होगा. आपको बता दें कि तेलंगाना (Telangana Assembly Election 2018) समेत 5 राज्यों के चुनाव परिणाम इस ओर संकेत दे सकते हैं कि आगामी वर्ष होने वाले आम चुनाव से पहले हवा का रुख किसकी ओर है.