एक तरफा कोशिशें लंबे वक्त तक कारगर नहीं होंगी

एक तरफा कोशिशें लंबे वक्त तक कारगर नहीं होंगी

रिश्ते सुधारने के लिए इमरान फिर की भारत से क़दम बढ़ाने की अपील

इस्लामाबाद: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने गुरुवार को एक बार फिर अपील की कि दोनों देशों के बीच रिश्ते सुधारने की दिशा में भारत को भी कदम बढ़ाने चाहिए. इमरान ने कहा, "एक तरफा कोशिशें लंबे वक्त तक कारगर नहीं होंगी. हम भारत में अगले साल होने वाले चुनाव तक इंतजार करेंगे लेकिन उसके बाद भारत को भी कदम उठाने होंगे."

इमरान से जब पूछा गया कि 26/11 हमलों का मास्टरमाइंड हाफिज सईद अब तक पाकिस्तान में खुला क्यों घूम रहा है तो इमरान ने कहा कि अमेरिका ने हाफिज सईद पर प्रतिबंध लगाया हुआ है. यह मामला पहले ही कानून के दायरे में है और आतंक के खिलाफ देश में कठोर नीति है.

वहीं अंडरवर्ल्ड डॉन और भारत के मोस्ट वांटेड दाऊद इब्राहिम को संरक्षण देने के मामले में इमरान ने कहा, “पुराने समय में कई चीजों पर कदम नहीं उठाया गया. हमें पास्ट में नहीं रहना चाहिए, उससे सीखना चाहिए.”

इमरान खान ने कहा, 'मुझे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात और बात करने में खुशी होगी.' इमरान खान ने मुंबई हमले के गुनहगारों को सजा देने पर कहा कि हाफिज सईद पर संयुक्त राष्ट्र ने प्रतिबंध लगा रखा है. जमात-उद-दावा प्रमुख पर पहले से ही शिकंजा कसा हुआ है.

इमरान खान ने कहा, 'पाकिस्तान के बाहर आतंकवाद फैलाने के लिए इजाजत देना हमारे हित में नहीं है.' कश्मीर मुद्दों पर उन्होंने कहा कि कुछ भी असंभव नहीं है. पाकिस्तान के लोग भारत के साथ अमन चाहते हैं. यहां के लोगों की मानसिकता बदल चुकी है.

करतारपुर कॉरिडोर के शिलान्यास कार्यक्रम के दौरान बुधवार को इमरान खान ने कहा था कि दोनों देशों के बीच कश्मीर एकमात्र मुद्दा है. जिसपर हमें बातचीत करनी चाहिए. उन्होंने कहा, 'मैं किसी भी मुद्दे पर बातचीत करने के लिए पूरी तरह से तैयार हूं. इसपर हमें बातचीत करनी चाहिए. सैन्य कार्रवाई इस मुद्दे का समाधान नहीं है.'