संविधान को जलाना देशद्रोह है : लक्ष्य

संविधान को जलाना देशद्रोह है : लक्ष्य

फरीदाबाद: कुछ दूषित मांशिकता वाले लोगों द्वारा दिनांक 9 अगस्त 2018 को दिल्ली के जंतर मंतर पर देश के संविधान को जलाया गया व बाबा साहेब डॉ भीम राव अम्बेडकर के खिलाफ अपशब्द तथा जाति सूचक शब्दों के साथ नारे लगाए गए | इस देशद्रोह की गम्भीर घटना के विरोध में भारतीय समन्वय संगठन(लक्ष्य) की फरीदाबाद टीम ने एक सांकेतिक आक्रोश प्रदर्शन हरियाणा के ज़िला फ़रीदाबाद में किया। जिसमें दूषित मानसिकता वाले लोगों का पुतला दहन कर उनके ख़िलाफ़ नारे लगाकर अपना आक्रोश प्रदर्शित किया ।

लक्ष्य कमांडर कविता जाटव ने कहा कि देश का संविधान सभी नागरिको को एक समान अधिकार देता है और देश इस संविधान से ही चलता है | उन्होंने कहा कि संविधान को जलाना एक गम्भीर अपराध है | उन्होंने बताया कि संविधान को जलाने के साथ साथ उन दूषित मानशिकता वाले लोगो ने बाबा साहेब डॉ भीम राव अम्बेडकर के खिलाफ अपशब्दों का इस्तमाल किया व् बहुजन समाज के खिलाफ जाति सूचक शब्दों का भी इस्तमाल किया |

लक्ष्य कमांडर मंजू गौतम ने बताया कि यह एक देशद्रोह की गम्भीर घटना है जोकि देश की राजधानी में, दिल्ली पुलिस की मौजूदगी में हुई और पुलिस द्वारा उन दोषियों के खिलाफ कोई कार्यवाही न करना व् मूक दर्शक बने रहना और भी दुखद है |

लक्ष्य के हरियाणा युथ कमांडर नीरज नारहवाल व् महेंद्र कर्दम ने कहा कि भारतीय समन्वय संगठन (लक्ष्य) इस घटना की जोरदार शब्दों में निंदा करता है और सरकार से मांग करता है कि दोषियों के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करके उनके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही करें ताकि दूषित मानशिकता वाले लोग जो देश में अमनचैन बिगाडने की कोशिश कर रहे है उन पर लगाम लग सके |

इस सांकेतिक आक्रोश प्रदर्शन में लक्ष्य के एन. सी.आर. प्रभारी गंगा लाल गौतम व् यूथ कमांडर धर्मेंद्र ने बताया कि लक्ष्य टीम ने इन देशद्रोहियो के खिलाफ पुलिस में ऍफ़.आई.आर. दर्ज करा दी है और पुलिस ने भी उचित कार्यवाही करने का भरोसा दिया है | उन्होंने बताया कि इस गम्भीर घटना को लेकर बहुजन समाज के लोगो में रोष है और देश के सभ्य नागरिक इस घटना की निंदा कर रहे है | उन्होंने कहा कि यह लक्ष्य का एक सांकेतिक प्रदर्शन था और अगर सरकार ने दोषियों के खिलाफ उचित कार्यवाही नहीं की तो जल्द ही लक्ष्य की टीमें इस घटना को लेकर देशभर में प्रदर्शन करेंगी |

India