बालिका संरक्षण गृह कांडों के खिलाफ समाजवादी पार्टी का जोरदार प्रदर्शन

बालिका संरक्षण गृह कांडों के खिलाफ समाजवादी पार्टी का जोरदार प्रदर्शन

लखीमपुर: समाजवादी पार्टी के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने सपा नेता क्रांति कुमार सिंह और विधानसभा अध्यक्ष दिलीप यादव के नेतृत्व में देवरिया में बालिका संरक्षण गृह जिसके 1 साल पहले ही बंद करने के आदेश थे और उसके खिलाफ मुकदमा पंजीकृत करने का आदेश था उसका संचालन जिला प्रशासन एवं सफेदपोश नेताओं के संरक्षण में चलता रहा और वहां की लड़कियों को वेश्यावृत्ति के लिए सफेदपोश नेताओं और प्रशासनिक अधिकारियों के पास जबरन यातना दे करके भेजा जाता रहा जब एक लड़की ने वहां से भागकर पुलिस को आपबीती सुनाई तब पूरे देश के सामने यह शर्मसार कर देने वाली घटना खुली और आज भी इस घटना के खुलने के बाद जहां इस पूरे घटना क्रम में शामिल सफेदपोश नेताओं और प्रशासनिक अधिकारियों के गठजोड़ के खिलाफ उचित कार्रवाई होनी चाहिए थी उल्टा सरकार उन्हें बचाने का कार्य कर रही हैं महिला बाल कल्याण समाज मंत्री रीता बहुगुणा जोशी जिनके मंत्रालय की नाक के नीचे यह घटनाक्रम चलता रहा और बालिका संरक्षण गृह की मालिका गिरजा त्रिपाठी को वूमेन ऑफ द ईयर का जिले के DM द्वारा पुरस्कार देना तथा देश के डेढ़ सौ महिलाएं जो महिला सशक्तिकरण के प्रतीक के रूप में चुनी जाती हैं उनमें भी गिरजा त्रिपाठी का नाम उत्तर प्रदेश सरकार एवं जिला प्रशासन के द्वारा नामित करके भेजना यह प्रतीत कराता है कि इस पूरे प्रकरण में उत्तर प्रदेश शासन एवं जिला प्रशासन संलिप्तता साबित होती है इसके बावजूद बलात्कारियों एवं घटनाओं में शामिल लोगों को भाजपा की योगी सरकार संरक्षण देने का काम कर रही है प्रदर्शन के दौरान कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए समाजवादी पार्टी के नेता क्रांति कुमार सिंह ने कहा के 2014 में मोदी सरकार आने से पहले कहा जाता था "बहुत हुआ नारी पर वार आपकी मोदी सरकार" लेकिन नारा उल्टा पड़ गया उत्तर प्रदेश के अंदर अखिलेश सरकार के मुकाबले 7 गुना ज्यादा बलात्कार की घटनाएं योगी सरकार में घटित हो रही है और पूरे देश में माननीय उच्चतम न्यायालय की खुद की टिप्पणी बताती है कि राइट सेंट्रल लेफ्ट सब जगह पर महिलाओं के खिलाफ यौन हिंसा बलात्कार सामूहिक गैंगरेप की घटनाओं की बाढ़ सी आ गई है और सरकार का तंत्र अपराधियों बलात्कारियों तथा सफेदपोश नेताओं के पक्ष में खड़ा हुआ दिखाई देता है एक तरफ सरकार यह नारा देती है "बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ" तो दूसरी तरफ पूरे देश में भाजपा के नेता मंत्री सांसद विधायक सेक्स रैकेट से लेकर के बलात्कार यौन हिंसा और बालिका संरक्षण गृह के कांडो में उनकी संलिप्तता साबित हुई है उन्नाव में भाजपा विधायक कुलदीप सिंह का प्रकरण हो या बाबा राम रहीम से लेकर के बापू आसाराम तक भाजपा बलात्कारियों के पक्ष में खड़ी दिखाई देती है मुजफ्फरपुर बालिका संरक्षण गृह में बिहार में भाजपा कोटे से मंत्री मंजू वर्मा और उनके पति की भूमिका सामने आने के बाद यह बात साबित हो गई है कि मोदी सरकार का "बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ" का नारा पूरी तरीके से झूठा साबित हुआ है उत्तर प्रदेश के देवरिया में जिस संरक्षण गृह को बंद करने के आदेश थे मुकदमा पंजीकृत करने के आदेश थे उसके बावजूद पुलिस केसो में लड़कियों को पुलिस के द्वारा ही मां विंध्यवासिनी बालिका संरक्षण के लिए में ही भेज दिया जाता था इसके लिए क्या बीजेपी सरकार और उनका प्रशासन जिम्मेदार नहीं है, क्रांति कुमार सिंह ने कहा कि कि देश के अंदर महिलाओं और बेटियों से ज्यादा सरकारों को गाय की चिंता सता रही है पूरे देश में गाय के नाम पर लोगों को मार्वल इंच करके मार दिया जा रहा है मौके पर ही निस्तारण भीड़ के द्वारा कर दिया जा रहा है और उन को महिमामंडित करने का काम सरकारों के मंत्री खुद कर रहे हैं तो सरकार में शामिल कुछ मंत्री बलात्कार को सामान्य घटना बता कर सरकार की जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ना चाहते हैं श्री सिंह ने योगी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव जी पर झूठे आरोप लगाने के लिए पूरी BJP को टोंटी की चिंता ज्यादा है उन्हें बेटियों की फिक्र कहां होगी

Uttar Pradesh, India