अम्न और भाईचारे का सन्देश लेकर कानपूर में निकला जमीअत का अम्न मार्च

अम्न और भाईचारे का सन्देश लेकर कानपूर में निकला जमीअत का अम्न मार्च

कानपूर: जमीअत उलमा शहर कानपुर के ज़ेरे एहतिमाम शिक्षक पार्क परेड से गाँधी प्रतिमा फूलबाग तक अमन मार्च निकाला गया जिसमें विभिन्न धर्माें के धर्मगुरू एवं समाजी रहनुमा शरीक़ हुए। जुुलूस में जमीअत उल्मा उ0 प्र0 के अध्यक्ष, परमट, सिद्धनाथ घाट व पनकी हनुमान मंदिर के संतो ने शिरकत की। जमीयत उल्मा का है ये नारा,प्यार मोहब्बत भाई चारा, जमीयत का संदेश - घ्रणा की आग बुझाओ, जमीयत का पैग़ाम - नफरत की आग बुझाओ, प्यार मोहब्बत ज़िन्दाबाद, साम्प्रदायिकता मुर्दाबाद, सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा, हम बुलबुले हैं इसके ये गुलिस्ताँ हमारा, हिन्दुस्तान प्यारा है, नफ़रत मिटाओ - देश बचाओ, घ्रणा मिटाओ - देश बचाओ, धर्म के नाम पर गुंडागर्दी - नही चलेगी - नही चलेगी, आओ, सब मिलकर देश बनाएं, हिन्दू - मुस्लिम, सिक्ख इसाई, आपस में हैं सब भाई भाई जैसे अमन शांति के संदेश लिखे हुए स्लोगन व भारत और जमीयत उल्मा के झंडे लिए हुए लोग मार्च में चल रहे थे और अमन भाई चारा का संदेश दे रहे थे।

जमीअत उल्मा उ0 प्र0 के अध्यक्ष मौलाना मुहम्मद मतीनुल हक़ उसामा क़ासमी ने कहा हिन्दुस्तान की आन, बान और शान को नुकसान पहुँचाने वाले किसी भी धर्म व वर्ग के शरारतियों को हम सफल नहीं होने देंगे ‘‘अनेकता में एकता’’ ‘‘जियो और जीने दो’’ हम हिन्दुस्तानियों का इम्तियाज़ है देश के दुश्मन देश को खराब करें यह हम होने नही देंगे मज़हब के नाम पर हिंसा व देश की एकता के साथ खिलवाड़ की इजाज़त बिल्कुल नहीं देगे। हिन्दुस्तान सदियों से भाई चारा व मोहब्बत का संदेश देते आया है और पूरी दुनिया मे हिन्दुस्तान के खुशगवार और मोहब्बत की मिसाल दी जाती है हम अपने देश को बदनाम करने वाली अन्दरूनी व बैरूनी दुश्मन ताक़तो का जवाब मुहब्बत , एकता और भाई चारे के संदेश को आम करके देंगें । एकता हमारी ताकत है अंग्रेज़ जैसी जालिम हुक़ूमत भी हमारी एकता को मुकम्मल खत्म नही कर सकी है मौजुदा वक्त में तन के गोरे मन के काले अंग्रेज़ो के मनसूबे को कुछ देश विरोधी तत्व कामयाब करना चाहते है। हम उनका हर हाल में सामना करेंगे और हिन्दुस्तान की एकता को बिखरने नहीं देंगे।

मौलाना उसामा क़ासमी ने आगे कहा कि यह बड़े दुख की बात है कि हमारे प्रिय वतन मे एक लम्बे समय से कुछ एैसी ताक़तें सिर उठाये हुए है जो संविधान की पामाली कानून का असम्मान और मुल्क़ मे एक विशेष वर्ग के लोगों को परेशान कर रहे है यह लोग शांति के दुश्मन हैं देश मे दुनिया भर की बदनामी और देश के माथे पर कलंक की हैसियत रखते हैं यह देश भर मे अल्पसंख्यकों विशेषकर मुसलमानों मे खौफ की हालत पैदा करने में लगे हैं और देश के सेक्यूलर गणतन्त्र के ताने बाने को तार तार करना चाहते है इस सूरते हाल में जमीअत उल्मा हिन्द खामोश नही बैठ सकती और नफरत और फसाद करने वाली इन ताक़तो के खिलाफ आपसी शान्ति , मिलजुलकर और धार्मिक एकता का माहौल पैदा करने के लिए तमाम देशवासियों को आवाज़ देती है। और हर वो शख्स व संस्थाएं जो अमन-शंाति को खत्म करना चाहती है वह सिर्फ किसी एक फर्द या फिरक़े कि नही बल्कि देश कि दुश्मन है ।

मौलाना उसामा ने कहा कि हिन्दुस्तान हमारा प्यारा वतन है और इसके चप्पे चप्पे से हमें प्यार है और हमारी यह तहरीक़ महज़ मुस्लमानों के हक़ में आवाज़ बुलन्द करने के लिए नहीं बल्कि हिन्दुस्तान से मोहब्बत करने वाले समस्त नागरिकों को जगाना है कि हमारे प्यारे मुल्क को आंतरिक व बाह्य ताक़ते व नापाक ताक़ते जिस डगर पर ले जाना चाहती हैं गहरी खाई में जाकर खत्म करता है देश को ऐसी ताकतों से बचाना हर देश प्रेमी की ज़िम्मेदारी है ऐसी ताक़ते चाहती है देश में संघर्ष का बाज़ार गरम हो और देश तबाह हो जाए इनका मुक़ाबला मुहब्बत व एकता और भाईचारा को बढ़ावा देकर किया जा सकता है हम अपने पुराने भाई चारा को कमज़ोर न होने देंगें बल्कि उसे अधिक मज़बूत बनायेंगे ताकि कोई नापाक ताकत अपने घिनौने मनसूबे में कामयाब न हो सके।

मौलाना ने कहा मुजाहिदीने आज़ादी हमारे जिन पुरखो ने बिला तफरीक़ मज़हब एकता व इत्तेहाद व मज़बूत चट्टान बनकर देश को आज़ाद कराया है उनको सच्ची श्रंद्धांजली यही है कि देश का हर नागरिक हिन्दु, मुस्लिम, सिख, ईसाई सब एकता इत्तेहाद मोहब्बत व भाई चारा की मज़बूत दीवार बन जाएं और देश की हिफाज़त और उसकी तरक्की के लिए एक हों जाएं यही हमारे इस अमन मार्च का मक्सद है।

परमट के महंत श्री रमेशपुरी ने कहा कि अमन मार्च से हम यह संदेश देना चाहते है कि हम किसी भी तरीके की हिंसा के खिलाफ है हम देश में अमन चैन चाहते है देश भक्ति यही है कि सभी देशवासियों को अमन चैन से रहने दिया जाये और सब मिलकर भारत को प्रगति के पथ पर ले जायें।

सिद्धनाथ घाट के महंत श्री अरुणपुरी ने कहा कि सारे समाज को जोड़ कर देश को एक नंबर पर ले जाना है और भारत को शक्तिशाली बनाना है अमन मार्च के द्वारा यह संदेश देना चाहते है कि सभी धर्म अहिंसा भाई चारा की शिक्षा देते है और हिंसा हमारे भारत के हित मे नही है

पनकी हनुमान मंदिर के श्री कृष्ण दास ने कहा आज जो यात्रा निकाली गयी इस्से केवल हमारा यह संदेश है कि भारत में हिन्दु, मुस्लिम, सिख, ईसाई मिलकर प्यार मोहब्बत से रहें कुछ लोग धर्म का सहारा लेकर अंहिसा फैला रहे है जिससे देश कि शान्ति भंग हो रही है और देशवासी परेशान हो रहें हैं हम सब मिलकर शांति का संदेश देते रहेंगे और अंहिसा फैलाने वालो को कामयाब न होने देंगें।

Uttar Pradesh, India