कलयुग में नहीं मिलता शिवपाल सिंह यादव जैसा भाई: आचार्य प्रमोद कृष्णन

कलयुग में नहीं मिलता शिवपाल सिंह यादव जैसा भाई: आचार्य प्रमोद कृष्णन

जसवंतनगर: जसवंतनगर विधानसभा क्षेत्र से समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी, प्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री एवं स्थानीय विधायक शिवपाल सिंह यादव ने आज प्रचार के अन्तिम दिन जमकर प्रचार किया। सुबह से ही गांवों में निकले शिवपाल सिंह यादव ने सिसहाट, नगला विधी, फुलरई, परसौआ, नगला नरिया, उसरई, भालासैया, भाउपुर, रनुआ, लाखौर, आलई और चैपुला में जनसभाएं की। शिवपाल सिंह यादव को देखने और सुनने के लिए जनसैलाब उमड़ पड़ा। चैपुला की जनसभा में हरियाणा से आये स्वामी कल्याण देव ने जहां शिवपाल सिंह यादव को गरीबों का मसीहा बताया तो कल्कि धाम के मठाधीश आचार्य प्रमोद कृष्णन ने शिवपाल सिंह यादव की तुलना भगवान राम के भाई लक्ष्मण और भरत से की।

जनसभा को सम्बोधित करते हुए आचार्य प्रमोद कृष्णन ने कहा कि आजादी के बाद पं. नेहरु के बाद देश में केवल शिवपाल सिंह यादव ही एक ऐसे नेता हैं जिनको चाचा कहा जाता है। इनकी लोकप्रियता का ग्राफ इसी से पता चलता है कि आज देश के तमाम प्रचार माध्यम भी इन्हें चाचा के नाम से ही संबोधित करते हैं। उन्होंने कहा कि इटावा की धरती पर पैदा हुए इनके बडे़ भाई मुलायम सिंह यादव को भी सुभाष चन्द बोस के बाद नेताजी के नाम से जाना जाता है।

आचार्य प्रमोद कृष्णन ने प्रधानमंत्री मोदी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि वह सवा सौ करोड़ हिन्दुस्तानियों को बंदर ना समझे, कि डुगडुगी बजाई और सब पीछे हो लिये क्योंकि एक ही बंदर ने लंका में आग लगाई थी। उन्होंने कहा कि इस पार्टी के लोग केवल चुनाव में ही आप लोगों से वायदे करते हैं और चुनाव के बाद अपने ही वायदों को जुमला करार देते हैं। आचार्य ने सवाल उठाया कि चुनाव से पहले उन्होंने राम मंदिर बनाने, गंगा को साफ करने, गौहत्या पर प्रतिबंध लगाने और धारा 370 को खत्म करने जैसे अनेकों वायदे किये थे लेकिन सरकार बने तीन साल हो गये आज तक एक भी वायदा पूरा नहीं किया।

उन्होंने कहा कि यहां प्रधानमंत्री मुस्लिमों के बीच जाते हैं तो टोपी भी नहीं पहनते लेकिन पाकिस्तान बिना बुलाये चले जाते हैं और वहां के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की मां के पैर छूते हैं। उन्होंने कहा कि यदि भारतीय मुस्लिम महिला के पैर छूए होते तो वह भी आपको आर्शीवाद ही देती।

आचार्य ने कहा कि पेशे से शिवपाल सिंह यादव भले ही नेता हों लेकिन दिल से वह साधु संत हैं। इसीलिए साधु संत पहली बार इनका प्रचार करने आये हैं। उन्होंने भगवान राम के भाई लक्ष्मण और भरत के साथ शिवपाल सिंह यादव की तुलना करते हुए कहा कि जिस प्रकार उन दोनों भाइयों ने भगवान राम के लिए सब कुछ त्याग दिया था उसी प्रकार शिवपाल सिंह यादव ने भी अपने भाई के लिए अपना जीवन न्यौछावर कर दिया। इससे बड़ा त्याग कलयुग में और क्या हो सकता है। इसीलिए इन्हें इस बार के विधानसभा चुनाव में भारी मतों से जिता देना।

जनसभा में बोलते हुए शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि मैं आज जो कुछ भी हूं वह केवल नेताजी मुलायम सिंह यादव और क्षेत्र की जनता की वजह से हूं। ना तो मैंने कभी किसी के विरुद्ध साजिश की और ना ही कभी किसी के विरुद्ध छल किया। मैंने कभी किसी का अपमान भी नहीं किया।

अपने कार्यकाल की उपलब्धियां बताते हुए शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि जब मैं कृषि मंत्री था तो आलू और धान को विदेशों में एक्सपोर्ट तक करा दिया था लेकिन आज की केंद्र सरकार की गलत नीतियों की वजह से आलू व धान के किसानों की हालत खराब हैं। उन्हें अपनी मेहनत व उपज का लागत मूल्य तक नहीं मिल पा रहा। उन्होंने कहा कि आलू किसान को एक पैकेट का मात्र सौ रुपये ही मिल पा रहा है जबकि उसकी लागत कम से कम चार से पांच गुनी आती है। समाजवादी पार्टी की सरकार ने तो केन्द्र को लिखा था लेकिन केन्द्र सरकार ने आलू व धान किसानों का लाभकारी मूल्य तय नहीं किया जिस कारण किसान को अपनी उपज को औने-पौने दामों में बेचना पड़ रहा है।

शिवपाल सिंह यादव ने किसानों और ग्रामीणों से कहा कि यदि उन्हें अपनी उपज का सही मूल्य चाहिए तो नेताजी मुलायम सिंह यादव के नेतृत्व में दिल्ली की गद्दी पर भी कब्जा करना होगा। उन्होंने कहा कि नेताजी जब भी सत्ता में आये तो गरीबों, मजदूरों, किसानों और छोटे व्यापारियों के लिए ऐसी योजनाएं बनायी जिससे इन लोगों का भला हो सके। जबकि केन्द्र की सरकार ने नोटबंदी करके सबसे ज्यादा नुकसान किसानों, मजदूरों और छोटे व्यापारियों का ही किया है।

उन्होंने कहा कि मोदी ने कहा था कि विदेशों से काला धन लाकर सबके खाते में 15-15 लाख रुपये जमा करायेंगे लेकिन हुआ क्या। सरकार बनने के कुछ ही माह बाद अपने वादे को जुमला करार दे दिया? मोदी जी ने नोटबंदी के बाद आज तक यह भी नहीं बताया कि इससे देश और देशवासियों को आखिर लाभ क्या हुआ? ऐसी पार्टी के लोगों से सावधान रहने की जरुरत बताते हुए उन्होंने कहा कि चुनाव बाद इस पार्टी के लोग आपको दिखाई भी नहीं देंगे।

शिवपाल सिंह यादव ने अपने कार्यकाल की उपलब्धियां बताते हुए कहा कि हमारी सरकार ने क्षेत्र के लगभग सभी गांवों में विद्युतीकरण कराया। लड़कियों को पढ़ाई के लिए 30-30 हजार की सुविधा दी। किसान की किसी भी प्रकार की दुर्घटना में मृत्यु होने पर 5 लाख रुपये देने की व्यवस्था की। इसके अलावा फ्री सिंचाई की व्यवस्था कराई और सिंचाई के लिए किसी प्रकार की दिक्कत ना हो, 6000 क्यूसिक पानी गंगा से सीधे नहरों और रजवाहों को दिये जाने की व्यवस्था कराई।

उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि समाजवादी पार्टी की सरकार में हमने ही इन गांवों में जनसुविधाएं देने का काम किया। लोक निर्माण विभाग का मंत्री रहते हुए हमने पूरे जसवंतनगर विधानसभा क्षेत्र में सड़कों का निर्माण कराया। इसके अलावा नौकरियां भी सबसे ज्यादा मेरे कार्यकाल में ही मिल सकी। हमारी सरकार ने 13 हजार लेखपालों की भर्ती कराई। शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि हमने किसानों को कभी खाद व बीज की कमी नहीं होने दी। खाद व बीज का दाम जहां सस्ता कराया वहीं उपलब्धता भी सुनिश्चित कराई। हमारी सरकार के समय में जब चाहो जितनी चाहो के आधार पर खाद व बीज उपलब्ध कराया गया। उन्होंने कहा कि नहरों और रजवाहों की सफाई हमारी ही सरकार की देन है। समाजवादी पार्टी की सरकार ने ही नहरों की खुदाई करवाई। इससे दो फायदे हुए। एक तो नहरों में जब बरसात के समय पानी ज्यादा हो जाता था तब वह खेतों में नहीं भरा जिससे फसल खराब नहीं हुई, दूसरा सिंचाई के लिए हमेशा पानी की उपलब्धता बनी रही।

शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि यदि इस बार आपने हमें पावर दी तो हम यह कोशिश करेंगे कि हर परिवार के एक लड़की या लड़के को नौकरी दी जा सके और जिसे नौकरी नहीं मिले उसे रोजगार का दूसरा कोई साधन उपलब्ध कराया जाये ताकि परिवार का गुजर-बसर हो सके।

Uttar Pradesh, India