सपा में सुलग रही चिनगारी, खाक कर देगी अपना ही आशियाना

सपा में सुलग रही चिनगारी, खाक कर देगी अपना ही आशियाना

आसिफ मिर्जा सुलतानपुर। समाजवादी पार्टी मिशन 2017 में एक बार फिर सरकार बनाने की मुगालते पाल रखी है। अपनों की बेवफाई और पार्टी में चल रही तनातनी की दास्तान कुछ और ही बया कर रही है। यही रवैया रहा तो सपाईयों का आशियाना जलकर राख हो जाऐगा।

मिशन 2012 में समाजवादी पार्टी के सभी विधायकों ने जीत का परचम लहराया था। इस बार भी सभी सिटिंग विधायक चुनाव मैदान में है। सूत्रों के मुताबिक इसौली विधानसभा में टिकट पाने वालों की दौड़ में कई सपाई थे। जिन्हे सपा सुप्रीमों अखिलेश यादव ने नजर अंदाज कर विधायक अबरार अहमद को टिकट थमा दिया। टिकट न पाने वाले खाटी सपाई अंदर ही अंदर पैतरेबाजी खेल रहे है। दूसरी पार्टी से आए एक नेता ने तो निर्दल ही चुनाव लड़ने का मन बना लिया है। बीते लोकसभा चुनाव में अच्छा प्रदर्शन करने वाले सपा नेता को टिकट नही दिए जाने से आम मतदाता भी नाराज है। अब वह दूसरे दल की तरफ रूख कर ली है। ऐसे में यहां से पलडा भारी नही दिखाई पड़ रहा है। भाजपा का दामन छोड़कर रालोद में शामिल हुए बाहुबली यशभद्र सिंह मोनू भी दावेदारी ठोक रहे है। ऐसे में सत्ताधरियों की बेचैनी बढ़ गई है। मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में पूर्व मंत्री को तवज्जो नही दिए जाने से आम जन नाराज है। कई ऐसे और भी तत्व है जिस वजह से सपा को नुकसान पहुंचने का पूरा अनुमान लग रहा है।

सदर विधानसभा में भी बिगड़ा खेल

अरूण वर्मा सदर विधानसभा के विधायक है। यह सीट वर्मा बाहुल्य मानी जाती है। बीजेपी ने सीताराम वर्मा को प्रत्याशी घोषित कर दिया है। 2012 के चुनाव में बसपा प्रत्याशी ने अरूण वर्मा को कड़ी टक्कर दी थी। इस बार भी बसपा प्रत्याशी चुनाव मैदान में है। बीजेपी ने सीताराम वर्मा को चुनाव मैदान में उतार दिया है। ऐसे में सपा प्रत्याशी की मुश्किले बढ़ती जा रही है।

सुलतानपुर विधानसभा में है कांटे की टक्कर

समाजवादी पार्टी ने सुलतानपुर से सिटिंग विधायक अनूप संडा को चुनाव मैदान में उतारा है तो बसपा ने मुजीब अहमद को। माना जा रहा है कि दोनो के बीच कांटे की टक्कर होगी। भाजपा ने पूर्व विधायक सूर्यभान सिंह को उतारा है तो यही से भाजपा के बागी चन्द्रभद्र सिंह सोनू रालोद से चुनाव मैदान में उतर रहे है। ऐसे में यहां का चुनाव काफी दिलचस्प हो गया है। उधर लम्भुआ विधानसभा में सपा ने मौजूदा विधायक संतोष पांडेय पर तो बसपा ने पूर्व मंत्री विनोद सिंह पर भरोसा जताया है। बीजेपी इस बार यहां दाव खेल गई है। देवमणि दूबे यहां से चुनावी ताल ठोक सपा प्रत्याशी की धड़कन बढ़ा रहे है।

Uttar Pradesh, India