भाजपा ने राम मंदिर के लिए लगाई पूर्ण बहुमत की शर्त

भाजपा ने राम मंदिर के लिए लगाई पूर्ण बहुमत की शर्त

लखनऊ: चुनाव नजदीक आते ही भाजपा ने एक बार फिर राम मंदिर का मुद्दा उठा दिया है. भाजपा ने 11 फरवरी को उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान से ठीक पहले राममंदिर का मुद्दा उठाते हुए कहा कि अगर भाजपा की पूर्ण बहुमत वाली सरकार बनती है तो अयोध्या में ‘भव्य’ राम मंदिर का निर्माण किया जाएगा.

पार्टी की उत्तर प्रदेश इकाई के प्रमुख केशव प्रसाद मौर्य ने यहां संवाददाताओं से कहा कि राम मंदिर आस्था का सवाल है. दो महीने में इसका निर्माण होने नहीं जा रहा है. मंदिर का निर्माण चुनावों के बाद किया जाएगा. भाजपा पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में आएगी. उन्होंने अखिलेश यादव पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री न तो पिछड़ा वर्ग के साथ हैं और न ही दलितों के साथ. मौर्य ने कहा कि वह सिर्फ विश्वासघात करते हैं. उनका बयान तब आया जब इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने उत्तर प्रदेश सरकार को यह सुनिश्चित करने को कहा कि 17 अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) समूहों से जुड़े लोगों को नया जाति प्रमाण पत्र नहीं जारी किया जाए.

सपा-कांग्रेस गठबंधन के बारे में पूछे जाने पर मौर्य ने कहा कि सपा डूबता जहाज है और कांग्रेस का जहाज काफी पहले डूब चुका है. अगर बसपा भी इसमें शामिल होती है तब भी वह भी इसे बचाने में सक्षम नहीं होगी. उन्होंने आरोप लगाया कि यादव के तहत समूचा सरकारी तंत्र भ्रष्टाचार में लिप्त है. उन्होंने कहा कि अगर भाजपा सत्ता में आई तो वह जांच कराएगी और अगर जरूरत पड़ी तो उन्हें जेल भेजेगी.