मेलबर्न में भी पाकिस्तान हारा

मेलबर्न में भी पाकिस्तान हारा

चौथा वनडे जीत ऑस्ट्रेलिया को मिली अजेय बढ़त

मेलबॉर्न : सलामी बल्लेबाज डेविड वॉर्नर के शतक तथा ग्लेन मैक्सवेल और ट्रेविस हेड की तूफानी अर्धशतकीय पारियों की बदौलत ऑस्ट्रेलिया ने पाकिस्तान के खिलाफ चौथे वनडे में रविवार को यहां छह विकेट पर 353 रन का विशाल स्कोर खड़ा किया. जवाब में पाकिस्तान की पूरी टीम 267 रन पर ऑलआउट हो गई. पाकिस्तान की ओर से शरजील खान (47 गेदों में 74 रन), मोहम्म्द हफीज (40 रन) और शोएब मलिक (47) ने ही कुछ संघर्ष किया लेकिन वे नियमित अंतराल पर विकेट खोते रहने से पाकिस्तान को हार का मुंह देखना पड़ा. ऑस्ट्रेलिया ने इस जीत के साथ ही सीरीज पर 3-1 की अजेय बढ़त ले ली है.

पाकिस्तान की शुरुआत कुछ खास नहीं रही. 15 रन के स्कोर पर टीम को पहला झटका लगा. अजहर अली 7 रन बनाकर आउट हो गए. पाकिस्तान की ओर से शरजील ने 47 गेंदों में 74 रनों की तूफानी पारी खेली. शरजील ने अपनी पारी में 10 चौके और 3 छक्के लगाए.

फिलहाल क्रीज पर शोएब मलिक (38) और उमर अकमल (9 रन) बनाकर खेल रहे हैं. ऑस्ट्रेलिया सीरीज में 2-1 से आगे है. दरअसल पहला वनडे ऑस्ट्रेलिया ने तो दूसरा वनडे पाकिस्तान ने जीता था. तीसरे वनडे में पाकिस्तान को हार का सामना करना पड़ा था.

ऑस्ट्रेलिया के सभी बल्लेबाजों ने पाकिस्तान के लचर क्षेत्ररक्षण का फायदा उठाया. वॉर्नर ने 130 रन बनाए जो उनका पिछले छह वनडे मैचों में तीसरा शतक है. मैक्सवेल ने 44 गेंदों पर दस चौकों और एक छक्के की मदद से 78 रन जबकि हेड ने 36 गेंदों पर दो चौकों और चार छक्कों की बदौलत 51 रन बनाए. कप्तान स्टीवन स्मिथ ने भी 49 रन की पारी खेली.

वॉर्नर ने उस्मान ख्वाजा (30) के साथ पहले विकेट के लिए 92 रन जोड़े जबकि स्मिथ के साथ दूसरे विकेट के लिए 120 रन की साझेदारी करके उन्होंने ऑस्ट्रेलिया को मजबूत स्थिति में पहुंचाया. बाद में मैक्सवेल और हेड ने चौथे विकेट के लिए 100 रन की भागीदारी की. वॉर्नर का यह वनडे में 12वां शतक है जिसके लिए उन्होंने 119 गेंदें खेली तथा 11 चौके और दो छक्के लगाए. जब वह 113 रन पर थे तब स्पिनर इमाद वसीम की गेंद पर हसन अली ने उनका आसान कैच छोड़ा. स्मिथ जब दस रन पर थे तब शार्जील खान ने उनका कैच छोड़ा. हेड जब 28 रन पर थे तब शार्जील ने उनका भी कैच टपकाया. मैक्सवेल को भी आठ रन के निजी योग पर जीवनदान मिला. हसन की गेंदों पर दो कैच छूटे लेकिन इसके बावजूद वह 52 रन देकर पांच विकेट लेकर पाकिस्तान के सबसे सफल गेंदबाज रहे.