यूपी चुनाव: जिताऊ  निष्ठावान होना होगी कांग्रेस उम्मीदवार बनने की कसौटी

यूपी चुनाव: जिताऊ निष्ठावान होना होगी कांग्रेस उम्मीदवार बनने की कसौटी

लखनऊ: उ0प्र0 कंाग्रेस स्टेट इलेक्शन कमेटी की आज बैठक प्रदेश कंाग्रेस अध्यक्ष राजबब्बर की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। बैठक में मुख्य रूप से प्रदेश की मुख्यमंत्री प्रत्याशी शीला दीक्षित, डॉ0 निर्मल खत्री, सांसद प्रमोद तिवारी, सांसद डॉ0 संजय सिंह, प्रदीप माथुर, पी0एल0 पुनिया सांसद, पूर्व केन्द्रीय मंत्री जितिन प्रसाद एवं प्रदीप जैन आदित्य, अन्नू टण्डन सहित समिति के लगभग सभी सदस्यगण मौजूद रहे।

बैठक में लिये गये निर्णयों की जानकारी देते हुए प्रदेश कंाग्रेस कमेटी के कोआर्डिनेशन कमेटी के चेयरमैन एवं सांसद श्री प्रमोद तिवारी ने बताया कि बैठक में प्रदेश के सभी 403 विधानसभा क्षेत्रों के एक-एक सीटों पर चर्चा हुई। हर क्षेत्र में लगभग 8 से 10 उम्मीदवार हैं जिनमें युवा और महिलाएं भी हैं, मजबूत प्रत्याशी हैं।

बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि चूंकि कांग्रेस के सभी बीस विधायकों ने अपनी सीट से चुनाव लड़ने और सीटें न बदलने की इच्छा जाहिर की है, ऐसे में कंाग्रेस के उन सभी बीस नामों को ‘क्लियर’ कर दिया गया है। प्रदेश इलेक्शन समिति के समक्ष प्रदेश के विधानसभा क्षेत्रों में ज्यादातर स्थानों पर तीन नाम दिये हैं। सभी 403 विधानसभाओं पर नाम सेन्ट्रल इलेक्शन कमेटी केा भेजे जा रहे हैं और जो नाम सेन्ट्रल इलेक्शन कमेटी को भेजे जा रहे हैं उनमें दो प्रमुख बातें ध्यान में रखी जा रही हैं- जिताऊ और निष्ठावान। लगभग एक दो दिन में पूरा एक्सरसाइज कर लिया जायेगा और पूरे नाम सेन्ट्रल इलेक्शन कमेटी को दे दिया जायेगा।

निर्णय की जानकारी देते हुए प्रमोद तिवारी ने बताया कि सबसे बड़ी प्रसन्नता यह है कि इस बार उम्मीदवारों ने काफी उत्साह दिखाया है। उन्होने कहा कि कांग्रेस उपाध्यक्ष श्री राहुल गांधी जी की घोषणा -किसानों का कर्जा माफ-बिजली बिल माफ और किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य का जनता में बहुत अच्छा प्रभाव है। श्री तिवारी ने कहा कि ज्यादातर लोगों से बात करने पर नोटबन्दी के चलते भारतीय जनता पार्टी के विरूद्ध जनता का रूख स्पष्ट दिख रहा है।

श्री तिवारी ने एक सवाल के जवाब में कहा कि प्रत्याशियों को बुलाकर बात करने की जो प्रक्रिया थी वह पहले ही पूर्ण हो चुकी है। मंडल स्तर पर और जिला स्तर पर राष्ट्रीय सचिवगण, मंडल प्रभारी, जिला प्रभारियों ने जिलों में जाकर बात की है और जो पर्यवेक्षक थे उन्होने बात की, सहमति के बाद उन लोगों के द्वारा भेजे गये नामों पर विचार हो रहे हैं। उन्होने कहा कि हम लोग फेजवाइज नामों पर विचार कर रहे हैं जिन्हें शीघ्र ही केन्द्रीय चुनाव समिति को भेज दिया जायेगा जिसके बाद केन्द्रीय चुनाव समिति द्वारा शीघ्र ही नामों की घोषणा कर दी जायेगी।