मनरेगा कांग्रेस के 60 साल के पापों का नतीजा, इसे बंद नहीं करूंगा

मनरेगा कांग्रेस के 60 साल के पापों का नतीजा, इसे बंद नहीं करूंगा

वोट ऑफ़ थैंक्स में प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस पार्टी को कोसा 

नई दिल्ली: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के अभिभाषण पर चर्चा के दौरान वोट ऑफ थैंक्स का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पार्टी को आड़े हाथों लिया। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के अभिभाषण का जवाब देते हुए पीएम ने कहा कि अगर भूमि अधिग्रहण बिल सही होता तो कांग्रेस इतनी बुरी तरह चुनाव क्यों हारी? कांग्रेस का हाल इतना बुरा कभी नहीं हुआ।

पीएम मोदी ने कहा कि  मनरेगा आपकी विफलताओं का जीता जागता स्मारक है । मैं मनरेगा बंद नहीं करूंगा क्योंकि मनरेगा आपके 60 साल के पापों का नतीजा है । मनरेगा बंद करने की गलती मैं नहीं करूंगा। मैं पूरे गाजे-बाजे और शान-बान के साथ इसे बनाए रखूंगा। कुछ जोड़ना पड़ा तो जोड़ूंगा लेकिन मनरेगा को बंद नहीं करूंगा।

उन्होंने लोकसभा में कहा कि देश सरकार नहीं, जनता बनाती है और सभी पीएम के योगदान से देश आगे बढ़ा है।  भारत का मूल तत्व सबकी भलाई है। उन्होंने योजनाओं के नामों के विवाद को लेकर कहा कि योजनाओं को लेकर विवाद करना गलत है। योजनाएं भले ही पुरानी और नई हैं लेकिन समस्याएं पुरानी है। मुद्दा समस्या है, नाम मुद्दा नहीं है। योजनाओं के नाम बदलने पर विवाद क्यों है? यूपीए सरकार के नाम बदलने के आरोप ठीक नहीं है। समस्याओं के समाधान के रास्ते खोजे जा रहे है । नाम से हटकर समस्या पर ध्यान लगाएं ।  इन सब पर आपका भी सहयोग चाहिए।

पीएम मोदी ने कहा कि सदन में काफी विषयों पर चर्चा हुई। कई सुझाव भी आए लेकिन स्वच्छता हम सबकी जिम्मेदारी है क्योंकि स्वच्छता नारी सम्मान से भी जुड़ा हुआ है। हम सब जानते हैं कि शौचालय नहीं होने पर कई लड़कियां स्कूल छोड़ देती है। स्वच्छता अभियान के लिए केंद्र सरकार को 400 करोड़ रुपये मिले है। सफाई राज्य सरकारों की भी जिम्मेदारी है। सफाई का काम 125 करोड़ देशवासियों का भी है।

उन्होंने संसद में कहा कि भ्रष्टाचार पर आप सबके सुझाव आमंत्रित है। भ्रष्टाचार ने देश को तबाह कर दिया है। मैं इसे दूर करने के लिए हर संभव प्रयास करूंगा। कालेधन पर कोई नहीं बचेगा। कालेधन पर बदले की कार्रवाई नहीं होगी। कालेधन के मसले पर हम सब मिलकर काम करेंगे। उन्होंने कांग्रेस को इस मुद्दे पर घेरते हुए कहा कि जब सुप्रीम कोर्ट ने एसआईटी बनाने का आदेश दिया था तो तीन साल तक एसआईटी क्यों नहीं बनाई? हमारी सरकार गरीबों को समर्पित है। हम गुड गवर्नेंस की ओर जा रहे हैं।

India