राजनाथ ने किया कुंवर्स ग्लोबल स्कूल का उद्घाटन

राजनाथ ने किया कुंवर्स ग्लोबल स्कूल का उद्घाटन

सीआईई से सम्बद्घ पूर्वी यूपी का पहला आवासीय स्कूल

लखनऊ: शैक्षिक हब  बनती रही उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में आज उस समय एक सुनहरा अध्याय जुड़ गया जब देश के गृह मंत्री और स्थानीय सांसद राजनाथ सिंह ने दून जैसे प्रतिष्ठिïत स्कूलों की तर्ज पर देवा रोड पर कुंवर एजूकेशनल फाउंडेशन द्वारा संचालित कुंवर ग्लोबल स्कूल का उद्घाटन किया। 1

यह पहला रेजीडेंशियल स्कूल है जो प्राइमरी कक्षा से ए-लेवल तक के लिए कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी का इंटरनेशनल एग्जाम करीकुलम प्रस्तुत करेगा। उद्घाटन समारोह का शुभारम्भ हवन पूजन और प्रसाद वितरण से किया गया। इसके बाद कुंवर लाइव्स के चेयरमैन राम दयाल सिंह जी द्वारा गरीब लोगों को कम्बलों का वितरण किया गया। उद्घाटन समारोह के दौरान 105 फीट ऊंचे सबसे लंबे तिरंगा झंडे का ध्वजारोहण भी गृह मंत्री के हाथों किया गया। 

इस अवसर पर राजनाथ सिंह ने कहा कि इस प्रोजेक्ट के बारे मे सुना तो था लेकिन मुझे यह कल्पना नही थी कि यह कृति इतनी भव्य होगी और मुझे यह भी कल्पना नही थी कि इसका उद्देश्य इतना बडा होगा। उन्होंने आगे कहा कि भारतीय जीवन मूल्यों के प्रति इस विद्यालय मे पढने वाले बच्चों की प्रतिबद्धता बढे, इस विद्यालय के बच्चे जब बाहर निकलें तो हाय मम्मी बॉय मम्मी बोलकर नही निकलने चाहिए बल्कि मम्मी के चरणों पर उनका हाथ जाना चाहिए।

विशिष्ट अतिथि व लखनऊ के महापौर डा0 दिनेश शर्मा ने कहा कि वह व्यक्ति जो समाज के लिए अपने आपको तत्पर रखता है वह श्रेष्ठ भाव मे साधुवाद का पात्र बनता है और ईश्वर के सबसे निकट होता है।

कुंवर ग्लोबल स्कूल के चेयरमैन राजेश सिंह ने बताया, कि 'स्कूल के उद्घाटन और इसके पीछे के भावनात्मक कारण के साथ ही मैं कुंवर ग्लोबल स्कूल में हमारे द्वारा प्रदान की जा रही विशेष सुविधाओं का भी उल्लेख करना चाहूंगा। इस विद्यालय को शुरू करने से पहले हमने बहुत सारी रिसर्च की और हमने पाया कि किसी बच्चे की बुद्धिमत्ता को निखारने के लिए किसी तरह की सीमा रेखा नहीं होनी चाहिए। इसी नाते हमने हमने अपनी टैगलाइन -इंटेलीजेंस बीयोंड बाउंडरीज- में इसे उल्लेखित किया।Ó

उन्होंने आगे बताया, 'यह स्कूल मेरे प्यारे बेटे स्वर्गीय कुंवर यशार्थ सिंह के जन्मदिन पर शुरू किया जा रहा है, जो 20 वर्ष की अल्पायु में ही 5 जून 2014 को हमें हमेशा के लिए छोड़ कर चला गया।

Lucknow, Uttar Pradesh, India