Tag Archives: najeeb qasmi

Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

गणतंत्र भारत का संविधान और वर्तमान सरकार

डॉक्टर मोहम्मद नजीब कासमी सम्भली भारत में विभिन्न रंगों के, विभिन्न भाषा बोलने वाले और विभिन्न धर्मों के मानने वाले लोग लम्बे समय से रहते चले आ रहे हैं। मक्का मुकर्रमा में
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

ग़ीबत, ऐबजोई, तानाज़नी और नाहक़ माल हड़पना जहन्नम में ले जाने वाले गुनाह हैं

डॉ॰ मुहम्मद नजीब क़ासमी संभली सूरह अलहुमज़ा का तर्जुमा: बड़ी खराबी है उस शख़्स की जो पीठ पीछे दूसरों पर ऐब लगाने वाला, (और) मुँह पर ताने देने का आदी हो, जिसने
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

प्यारे नबी स० की सुनहरी तालीमात व क़ीमती पैग़ामात

डॉक्टर मुहम्मद नजीब क़ासमी मुसलमानों के पेशवा और आखिरी नबी हजरत मोहम्मद मुस्तफा स० के कार्टूनों को सरकारी इमारतों पर चस्पां करने की फ्रांसीसी हुकूमत की जलील हरकत ना सिर्फ काबिले मजम्मत
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

तौहीने रिसालत की सजा के लिए आलमी कानून बनाया जाए

डॉक्टर मुहम्मद नजीब क़ासमी मगरिबी मुल्कों में इस्लाम मुखालिफ अनासिर की तरफ से बार बार रहमतुल लिल आलमीन आखरी नबी हुजूरे अकरम सल्लललाहुअलैहे व सल्लम के कार्टून बनाकर दुनिया में अम्न व
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

जामिया मिल्लिया इस्लामिया की सौ वर्षों की यात्रा

कमजोर वर्ग विशेष रूप से मुसलमानों की शैक्षणिक पिछड़ापन दूर करने में जामिया मिल्लिया इस्लामिया, दिल्ली की महत्वपूर्ण भूमिका डॉक्टर मुहम्मद नजीब कासमी सम्भली 29 अक्टूबर 1920 की स्थापित “जामिया मिल्लिया इस्लामिया”
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

गांधी जी के सिद्धांतों पर चलकर बदला जा सकता है तशद्दुद और असहिषूणता माहौल

डॉक्टर मुहम्मद नजीब क़ासमी हिन्दू मुस्लिम एकता के प्रतीक और देश की स्वतंत्रता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले मोहनदास करमचंद गांधी का जन्म आज से 151 वर्ष पहले 2 अक्टूबर 1869 में
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

कुरआन करीम में इंसानियत की हिदायत का पैगाम ही तो है

डॉक्टर मुहम्मद नजीब क़ासमी कुछ दिनों पुर्व “स्वीडन” में कुरआन करीम की प्रति जलाने की निंदनीय प्रयास की गई। पिछले वर्ष भी युरोप के ही एक दूसरे देश “नारवे” में इस प्रकार
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

ماہِ محرم الحرام حرمت والے مہینوں میں سے ایک اسلامی ہجری کیلنڈر کی ابتدا کب سے ہوئی؟

ڈاکٹر محمد نجیب قاسمی سنبھلی  محرم الحرام اسلامی سال کا پہلا مہینہ ہے یعنی محرم الحرام سے ہجری سال کا آغاز اور ذی الحجہ پر ہجری سال کا اختتام ہوتا ہے۔ نیز
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

कोरोना में ईद उल-अजहा की नमाज और कुर्बानी का तरीका

डॉक्टर मुहम्मद नजीब क़ासमी कोरोना वबाई मर्ज के फैलाव के पेशे नज़र केन्द्रीय एवं राज्य सरकारों के निर्णयों के कारण ईदगाह और मसाजिद में ईद उल-अजहा की नमाज की बड़ी जमाअतें शायद
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

ज़िलहिज्जा का पहला अशरा और क़ुर्बानी के अहकाम व मसाइल

डॉक्टर मुहम्मद नजीब क़ासमी ज़िलहिज्जा के महीने का पहला अशरा: अल्लाह तआला ने क़ुरान करीम (सूरह फजर आयत 2) में ज़िलहिज्जा की दस रातों की क़सम खाई है जिससे मालूम हुआ कि