एडब्लूआईएम जैसी प्रतियोगिता से युवाओं की क्षमताएं विकसित होंगी: पवन गोयनका

एडब्लूआईएम जैसी प्रतियोगिता से युवाओं की क्षमताएं विकसित होंगी: पवन गोयनका

एडब्लूआईएम इंडिया ने हाल ही में एडब्लूआईएम इंडिया ओलंपिक्स के आठवें संस्करण का आयोजन किया था. इसमें 22 विभिन्न शहरों से बीस हजार छात्रों ने भाग लिया और 184 छात्रों को राष्ट्रीय ओलंपिक में जगह बनाने में सफलता मिली. इस साल यह राष्ट्रीय ओलंपिक महिंद्रा रिसर्च वैली, चेन्नई के हरे भरे परिसर में आयोजित किया गया था. 

डॉ पवन गोयनका, कार्यकारी निदेशक और समूह अध्यक्ष, ऑटोमोटिव एंड फार्म इक्वीपमेंट सेक्टर, महिंद्रा एंड महिंद्रा लिमिटेड और पूर्व अध्यक्ष, एसएईआईएनडीआईए ने कहा कि महिंद्रा आठवें एडब्लूआईएम नेशनल ओलंपिक के साथ जुड्कर खुश है जिसे पूरे भारत के छात्रों से इस तरह की एक उत्साहजनक प्रतिक्रिया प्राप्त हुई है. हमने हमेशा हमारे कोर कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी के तौर पर शिक्षा पर विशेष ध्यान केंद्रित किया है क्योंकि हम मानते है कि यह जीवन को एक बेहतर गुणवत्ता की ओर ले जाता है. एडब्लूआईएम जैसी प्रतियोगिता, जो भौतिकी और गति के सिद्धांतों को अभिनव तरीके से व्यक्त करता है, युवाओं के इंजीनियरिंग क्षमता को विकसित करेगा. भाग लेने वाले सभी टीमों को मेरी तरफ से शुभकामनाएं. 

डॉ अरविंद भारद्वाज, प्रेसीडेंट, एसएईआईएनडीआईए और वरिष्ठ उपाध्यक्ष, एडवांस्ड टेक्नोलाजी एंड सर्विसेज, महिंद्रा एंड महिंद्रा लिमिटेड, ने कहा कि एसएईआईएनडीआईए भारत में एडब्लूआईएम को ले कर आया. इसका लक्ष्य था विज्ञान और इंजीनियरिंग में एक कैरियर बनाने के लिए अधिक से अधिक छात्रों को प्रोत्साहित करना. इस साल की यह प्रतियोगिता महिंद्रा रिसर्च वैली, चेन्नई जैसे बेहतरीन मोटर वाहन अनुसंधान और विकास केंद्र में आयोजित की गई थी. में देख रहा हूँ कि आने वाले वर्षो में ये नवोदित प्रतिभाएँ भारत में वैश्विक मानकों वाले उत्पादों का डिजाइन और विकास का काम करेंगे.