मिना भगदड़ में शहीद होने वाले भारतीय हाजियों की संख्या 18 हुई

मिना भगदड़ में शहीद होने वाले भारतीय हाजियों की संख्या 18 हुई

मिना : सउदी अरब में हज के दौरान मची भीषण भगदड़ में शहीद होने वाले भारतीयों की संख्या बढकर 18 हो गई है। पिछले 25 वर्षों में हज के दौरान हुई इस सबसे भीषण त्रासदी में कुल 717 लोग मारे गए हैं।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कल बताया, 18 भारतीय हज यात्रियों के मारे जाने की पुष्टि हुई है। भगदड़ में मारे गए 18 भारतीयों में से नौ गुजरात के, तीन तमिलनाडु के, एक तेलंगाना का और एक केरल का निवासी था। चार अन्य की पहचान अभी नहीं हो पाई है। त्रासदी में घायल हुए 800 से अधिक लोगों में कम से कम 13 भारतीय हैं।

मुस्लिम जायरीन ने कल गमगीन माहौल में अंतिम रस्म अदा की। सउदी अरब के शाह सलमान ने सुरक्षा समीक्षा और हज संगठन के पुनरीक्षण का आदेश दिया है। सउदी अरब के क्षेत्रीय प्रतिद्वंद्वी ईरान ने उसके खिलाफ आलोचना का नेतृत्व करते हुए विश्व में लोगों के सबसे बड़े सालाना आयोजन में अपने 131 नागरिकों के मारे जाने पर नाराजगी प्रकट की है और कहा है कि रियाद समारोह का प्रबंधन करने में सक्षम नहीं है।

आरोप-प्रत्यारोपों के बीच सउदी अरब ने कहा है कि भीड़ नियंत्रण करने संबंधी नियमों की अनदेखी करने वाले हज यात्री भी भगदड़ के लिए कुछ हद तक जिम्मेदार है। मीना में हुए इस हादसे में 863 जायरीन घायल हुए हैं। सउदी अरब के स्वास्थ्य मंत्री खालिद अल फलीह ने एक बयान में कहा कि भगदड़ संभवत: इसलिए मची क्योंकि कुछ तीर्थयात्री संबद्ध अधिकारियों के निर्देशों का पालन किए बिना ही आगे बढ़ गए। शाह सलमान ने पांच दिवसीय हज यात्रा के दौरान हुए हादसे की जांच के लिए एक समिति गठित करने का आदेश दिया है। हज यात्रा में 180 से अधिक देशों के करीब 20 लाख लोगों ने भाग लिया। इस बार हज यात्रा में 1.5 लाख भारतीयों ने हिस्सा लिया। इस यात्रा का समापन आज होगा।

हज को इस्लाम के पांच बुनियादी स्तंभों में से एक माना जाता है और कहा जाता है कि आर्थिक और शारीरिक रूप से सक्षम हर मुस्लिम को जीवन में एक बार हज अवश्य करना चाहिए। यह भगदड़ उस समय मची, जब हजयात्रियों की दो बड़ी कतारें, अलग-अलग दिशाओं से एक दूसरे के सामने आ गईं। यह स्थान मीना के जमारात ब्रिज की उस पांच मंजिला इमारत के करीब है, जहां पत्थर से बनी तीन दीवारों पर कंकड़ फेंककर प्रतीकात्मक रूप से शैतान को पत्थर मारने की रस्म निभाई जाती है।

यह भगदड़ पिछले दो हफ्तों में हुई दूसरी त्रासदी है। मक्का की ग्रैंड मस्जिद में 11 सितंबर को एक क्रेन गिर गई थी और इस दुर्घटना में कई विदेशियांे समेत 109 लोग मारे गए थे। सउदी नागरिक सुरक्षा प्राधिकारियों ने कहा कि भगदड़ में विभिन्न देशों के 717 हज यात्री मारे गए हैं और 863 अन्य घायल हुए हैं।