बच्चों की बीमारियों व कुपोषण का खात्मा होगा: अहमद हसन

बच्चों की बीमारियों व कुपोषण का खात्मा होगा: अहमद हसन

बाल स्वास्थ्य मिशन के तहत बाल-स्वास्थ्य परीक्षण अभियान प्रारम्भ

लखनऊ:  चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, परिवार कल्याण, मातृ एवं शिशु कल्याण मंत्री अहमद हसन ने आज डाॅ0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी (सिविल) अस्पताल, लखनऊ में बच्चों को बिटामिन-ए की दवा पिलाकर बाल स्वास्थ्य परीक्षण अभियान की शुरूआत की। उन्हों ने कहा कि समाजवादी सरकार के लगातार प्रयासों का नतीजा है कि टीकाकरण कराने की संख्या में काफी सुधार हुआ है। बच्चों के टीकाकरण में मिली कामयाबी से वर्तमान सरकार की जनता द्वारा प्रशंसा की जा रही है। इस अभ्यिान में मीडिया बंधुओं का भी सहयोग रहा है। मैं उन्हे भी धन्यवाद देता हूॅ।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि यह अभियान लगातार सभी ब्लाकों और गांवों में पूरे माह चलता रहेगा। उन्होंने यह भी कहा कि लगातार टीकाकरण से आंकड़ों में सुधार हुआ है। इसके साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में बरती गयी चैकसी से टीकाकरण के प्रति लोगों का रूझान बढ़ा है और लगातार बच्चों का टीकाकरण बड़ी संख्या में हो रहा है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि इसी प्रकार जापानी इंसेफ्लाईटिस (जे0ई0) तथा एक्यूट इंसेफ्लाईटिस सिन्ड्रोम (ए0ई0एस0) से प्रभावित जिलों के दूर-दराज इलाकों में लगातार टीकाकरण चल रहा है, जिससे मातृ-शिशु मृत्यु दर में कमी आयी है। यदि इसी तरह हमारे प्रयास जारी रहे तो एक दिन इन बीमारियों का भी खात्मा हो जायेगा। 

उन्होंने कहा कि बाल पोषण अभियान के तहत मासूमों को बीमारी से बचाने के लिए उनका टीकाकरण करने के साथ ही उन्हें पोषण आहार, बिटामिन-ए की खुराक, स्वास्थ्य परीक्षण, क्रमिनाशक आदि दिया जा रहा है। बच्चों के मस्तिष्क विकास के लिए आयोडीन युक्त नमक खाने के लिए भी जागरूक किया जा रहा है। इस योजना में नौ माह से पांच वर्ष तक के बच्चों को शामिल कर आवश्यक सेवाएं उपलब्ध करवायी जायेंगी।

स्वास्थ्य मंत्री ने आज डा0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी (सिविल) अस्पताल में निर्मित ‘‘राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा वार्ड‘‘ का भी उद्घाटन किया। साथ ही बाल वार्ड में भर्ती बच्चों के परिजनों से बीमारी तथा दवा आदि मिलने की जानकारी प्राप्त की ।

इस अभियान को प्रारम्भ करने के अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री के अलावा प्रमुख सचिव तथा सचिव, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, उ0प्र0 शासन, महानिदेशक, चिकित्सा एवं स्वास्थ्त सहित वरिष्ठ अधिकारी एवं चिकित्सक मौजूद थे। 

Lucknow, Uttar Pradesh, India