नेपाल में तीन दिन का राष्ट्रीय शोक

नेपाल में तीन दिन का राष्ट्रीय शोक

मरने वालों की संख्या 5000 के पार 

काठमांडू: नेपाल में शनिवार को आए ज़बर्दस्त भूकंप के बाद मरने वालों की संख्या 5000 के आंकड़े को पार गई है. सरकार ने तीन दिन के शोक की घोषणा की है.

प्रधानमंत्री सुशील कोइराला ने कहा है कि आपदा से नेपाल बुरी तरह चरमरा गया है और सरकार भूकंप प्रभावितों की मदद के लिए हर संभव प्रयास कर रही है. हालांकि राहत और बचावकर्मियों को नेपाल के दूरदराज़ इलाक़ों में मदद पहुंचाने में बड़ी दिक्क़तों का सामना करना पड़ रहा है.

भूकंप के बाद भारी बारिश ने लोगों की मुश्किलें बढ़ाई हैं जो और झटकों की आशंका से खुले आसमान के नीचे रहने के लिए मजबूर हैं. संयुक्त राष्ट्र का अनुमान है कि नेपाल में भूकंप से देश की एक चौथाई से अधिक आबादी प्रभावित हुई है जहां दस हज़ार से अधिक लोग घायल हुए हैं.

प्रधानमंत्री सुशील कोइराला ने टेलीविज़न पर अपने संबोधन में कहा है, ''इस विनाशकारी भूकंप में अपनी जान गंवाने वाले नेपाली और विदेशी भाइयों-बहनों, बुजुर्गों और बच्चों की याद में हमने तीन दिन तक राष्ट्रीय शोक मनाने का फ़ैसला किया है.''