आरिफ़  नकवी एक सूफी की तरह हैं: निफ़र

आरिफ़ नकवी एक सूफी की तरह हैं: निफ़र

मशहूर लखनवी शायर आरिफ नकवी के काव्य संग्रह ' खार और गुल' का बर्लिन में शानदार विमोचन

बर्लिन: उर्दू की कहानियांa और कविताए अतीत में जर्मन भाषा में प्रकाशित होती रही हैं, लेकिन पहली बार एक ही कवि की उर्दू नज्मों और ग़ज़लों का पूरा संग्रह जर्मनी के इतिहास में मंज़रे आम पर आया है, जो 82 नज्मों और ग़ज़लों पर आधारित हैं। यह काव्य संग्रह आरिफ नकवी के जन्मस्थान लखनऊ के किसी भी भाषा के शायर का जर्मन भाषा में पहला संग्रह है।

रविवार 19 अप्रैल की शाम को बर्लिन के लिचटनबर्ग के एक सांस्कृतिक केंद्र में बर्लिन के साहित्यिक और सांस्कृतिक क्षेत्रों के लोग बड़ी संख्या में इस काव्य संग्रह के विमोचन समारोह में इकट्ठे हुए और उर्दू व जर्मन भाषाओं में आरिफ नकवी की नज्में , ग़ज़लें और उन पर लोगों की टिप्पणियां सुनीं।

कार्यक्रम का संचालन करते हुए सांस्कृतिक केंद्र की प्रभारी श्रीमती समर लाटे ने मेहमानों का स्वागत और कार्यक्रम का शुभारम्भ  किया और धीरज राय से उर्दू में गीत प्रस्तुत करने का अनुरोध किया| उन्होंने हारमोनियम पर आरिफ नकवी का लिखा और कम्पोज़ किया  हुआ एक गीत अपनी मधुरआवाज़ में सुनाया। इसके बाद बर्लिन की फ्री यूनिवर्सिटी के ,एथनोलोजी विभाग के पूर्व अध्यक्ष प्रोफेसर जॉर्ज निफर ने, जिन्होंने आरिफ की पुस्तक में प्रस्तावना लिखी है, संबोधित करते हुए विस्तार से अपनी राय दी। प्रोफेसर निफर ने, जो अपनी नौजवानी के दिनों में कई साल लाहौर में रह चुके हैं और उर्दू भाषा और कविता के स्वभाव से परिचित हैं, विस्तार से लखनऊ, वहां की संस्कृति और परिस्थितियों का जिक्र करते हुए कहा कि आरिफ नकवी ने सबसे काफी प्रभाव लिया है। आरिफ नकवी एक सूफी की तरह हैं जिसका कोई स्थायी ठिकाना नहीं होता, जो शांति का खोजकर्ता होता है। जिसका दिल सब जगह रहता है और दिल में सबका दर्द होता है। प्रोफेसर निफर ने आरिफ नकवी की गिनती सर्वश्रेष्ठ कवियों में की और उम्मीद जताई कि उनकी जर्मन कविताओं का संग्रह जर्मनी में भी लोकप्रिय होगा।

इसके बाद एक जर्मन रेडियो पत्रकार  ने आरिफ नकवी की नज़्म एहसास का जर्मन अनुवाद पढ़कर सुनाया जो काफी पसंद किया गया।

उर्दू अंजुमन बर्लिन के उपाध्यक्ष अनवर जहीर ने अपने संबोधन में कहा कि आरिफ नकवी का जर्मन भाषा में काव्य संग्रह अपनी तरह की एक नई और महत्वपूर्ण  ऐतिहासिक महत्व की पुस्तक है। पहली बार किसी उर्दू कवि की इतनी नज्में और ग़ज़लें जर्मन में एक ही किताब में सामने आई हैं और वह भी बर्लिन में। आरिफ नकवी का नाम उर्दू साहित्य के संदर्भ में यूरोप, मध्य पूर्व, पाकिस्तान और भारत में जाना जाता है, लेकिन यहाँ हम बर्लिन वालों का यह सौभाग्य है कि आरिफ नकवी जैसा उर्दू साहित्य का  एक प्रमुख और बुजुर्ग व्यक्ति हम लोगों के बीच मौजूद है और वह न केवल उर्दू साहित्य के लिए बल्कि हम सभी के लिए एक मूल्यवान पूंजी हैं। मैं यह कह सकता हूं कि उर्दू शायरी में जो  स्थान उन्हें प्राप्त है वह किसी किसी को नसीब होता है। आरिफ नकवी सुंदर शैली में जब अपने शेर पेश करते हैं तो उनकी बात हमारे दिल की गहराई तक असर करती चली जाती है। उनकी नज्में हों या ग़ज़लें वे सामाजिक न्याय, मानवता, दोस्ती, शांति और दुनिया में प्यार और मोहब्बत  के तलबगार नज़र आते  हैं। उनकी शायरी में हर रंग मौजूद है। चांदनी रात में गरीबी की झलक देखने की शक्ति आप में ही है। खार और गुल में आरिफ नकवी की 82 उर्दू नज्मों और ग़ज़लों का जर्मन अनुवाद है जो काफी हद तक जर्मन शायरी की शैली में  हैं। उन्हें पढ़ते हुए आप अपने कलम से निकले हुए ज्वार भाटे में ऐसे खो जाएंगे कि आपको पता ही नहीं लगेगा कि समय कब बीत गया।

इसके बाद आरिफ नकवी की बेटी नरगिस ने अपने पिता के जीवन के रोचक पहलुओं और शहर लखनऊ और आरिफ नकवी के ननिहाल पंजाबी टोला और ददिहाल चकबस्त रोड का दृश्य खींचा, जिन्होंने आरिफ नकवी जीवन पर गहरा प्रभाव डाला है और उनकी साहित्यिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। विशेषकर नंबर एक चकबस्त रोड में उनके घर का चमन जो सभी के लिए खुला था, जहां वह अपने चाचा के साथ रहते थे।

इसके बाद सारा जहीर ने आरिफ नकवी की एक कविता चमन चमन में और दूसरी कविता एक लड़की के छंदबद्ध जर्मन अनुवाद पढ़कर सुनाए और प्रशंसा प्राप्त की।

चाय के अंतराल के बाद दूसरा दौर मीताली मुखर्जी की मीठी आवाज से शुरू हुआ, जिसने आरिफ नकवी का लिखा औरकम्पोज़ किया  हुआ गीत कैरम का खेल निराला हारमोनियम पर सुनाया। मीताली की मधुर आवाज के साथ हॉल में मौजूद कई लोगों ने मिलकर यह गीत गाया। इसके बाद मीताली ने रवींद्रनाथ टैगोर का एक गीत पगला हवार बादल पेश किया।

रेडियो पत्रकार और कवि बारबरा लीमको ने आरिफ नकवी की दो नज्में तकरार और वतन पेश कीं, जो विशेष रूप से पसंद की गईं।

उर्दू अंजुमन के सचिव उदय ने आरिफ नकवी की नज़्म पर टिप्पणी करते हुए कहा कि उर्दू कविताओं, ख़ासकर ग़ज़लों का जर्मन भाषा में अनुवाद करना आसान नहीं है। उर्दू शायरी अपने सुंदर व्यंजनों और उपमाओं के  कारण मधुरता ही नहीं देती बल्कि मानवता और शांति के संदेश से भी प्रभावित करती है। आरिफ नकवी की कविता हमारे दिल में उतर जाती है। यूं तो उर्दू लेखकों की रचनाओं का अनुवाद जर्मन भाषा में होता रहा है जैसे इकबाल या कृष्ण चंद्र, प्रेमचंद और ख्वाजा अहमद अब्बास, लेकिन यह पहला मौका है कि किसी उर्दू शायर का जर्मन भाषा में पूरा संग्रह सामने आया है।

जर्मन प्रसारण सेवा डाईचे वेले के एशियाई क्षेत्र के पूर्व अध्यक्ष डॉ फ़्रीडीमान शैलेन्द्र ने सभा में बोलते हुए आरिफ नकवी की साहित्यिक, सांस्कृतिक और पत्रकारिता सेवाओं की सराहना की और कहा कि 1962 से वे आरिफ नकवी से परिचित हैं जब आरिफ नकवी बर्लिन हमबोलट विश्वविद्यालय में शिक्षक थे और फ़्रीडीमान शैलेन्द्र आरिफ नकवी के शिष्य थे। वह तब से आरिफ नकवी के व्यक्तित्व के विभिन्न पहलुओं से प्रभावित हुए हैं।

फेडरल रिपब्लिक जर्मनी के पूर्व राजदूत डॉ0 कार्ल फिशरने जिनका जन्म भारत में हुआ था और वर्षों भारत और पाकिस्तान में रह चुके हैं, आरिफ नकवी से अपनी पुरानी जानकारी का हवाला देते हुए उनके व्यक्तित्व और नज्मों की सराहना की और इस पुस्तक के महत्व पर जोर दिया।

बंगाली प्रोफेसर डॉ सुनील सेन गुप्ता ने अपने भाषण में कहा कि जर्मनी आने से पहले 1958 से वह आरिफ नकवी की नज्में और ग़ज़लें सुनते रहे हैं और उनकी रचनाओं और विचारों से प्रभावित हुए हैं।

इसके बाद आरिफ नकवी ने धन्यवाद करते हुए विशेष रूप से इन लोगों का उल्लेख किया जिन्होंने उनकी नज्मों के जर्मन अनुवाद में मदद की है। उन्होंने उम्मीद जताई कि उनकी बाकी नज्मों और ग़ज़लों के जर्मन भाषा में अनुवाद भी सामने आएंगे।

बर्लिन के लोकप्रिय गायक और बंगाली कवि धीरज राय ने आरिफ नकवी की कई छोटी कविताओं के जर्मन और बंगाली भाषा में अनुवाद पढ़कर सुनाए और कहा कि वह उर्दू शायरी से बहुत प्रभावित हैं और आरिफ नकवी की कविताओं में जो संदेश और धड़कनें हैं उनसे प्रभावित होकर वह आरिफ नकवी की कविताओं का बंगाली भाषा में अनुवाद कर रहे हैं और अब तक उनकी आठ 8 कविताओं का अनुवाद कर चुके हैं।

सभा का अंत आरिफ नकवी ग़ज़ल से हुआ, जो उन्होंने पहले जर्मन में और फिर दर्शकों के अनुरोध पर उर्दू में  सुनाई। 

रिपोर्टः अनवर जहीर उपाध्यक्ष उर्दू अंजुमन  बर्लिन