नेपाल में मरने वालों की संख्या 2352 पहुँची

नेपाल में मरने वालों की संख्या 2352 पहुँची

काठमांडू/नई दिल्ली: नेपाल में आए भूकंप में मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. नेपाल के गृह मंत्रालय ने 2352 लोगों की मौत की पुष्टि की है, जबकि सैकड़ों की संख्या में लोग घायल हैं.

दिल्ली और एनसीआर में एक बार फिर भूकंप के झटके महसूस किए गए है। आज दोपहर 12 बजकर 42 मिनट पर एक बार फिर झटके महसूस किए गए। करीब 10 से 15 सेकेंड तक झटके महसूस किए। लोग एहतियातन अपने घरों से बाहर निकल गए। ये झटके आफ्टरशॉक माना जा रहा है।

वहीं संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक नेपाल में आए विनाशकारी भूकंप से 66 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। भूकंप से माउंट एवरेस्ट क्षेत्र में हिमस्खलन हुआ, जिससे एवरेस्ट पर बनाए गए शिविर नष्ट हो गए हैं। साथ ही संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि मानूसन के तेजी से आने की वजह से राहत और बचाव अभियानों में बाधा आ सकती है।

वहीं राजस्थान के भरतपुर में कई घरों में दरार पड़ गई है, एक घर की दीवार गिरने से बच्चे की मौत हो गई है। वहीं 8 लोग घायल हो गए हैं। आगरा में भी कई घरों की दीवारों में दरार पड़ गई है। सिकंदरा के थाने दरार पड़ गई जिसके बाद पुलिसवालों ने थाने से भागकर अपनी जान बचाई तो वहीं अयोध्या के पुराने शीशमहल मंदिर के छज्जे में दरार आ गई।

भूकंप का एपिसेंटर नेपाल बताया जा रहा है। झटके इतने तेज थे कि नेपाल के पीएम कार्यालय की दीवार में दरार पड़ गई। उस वक्त पीएम ऑफिस में मीटिंग चल रही थी तभी भूंकप आया। नेपाल में पिछले 24 घंटे में करीब 26 झटके महसूस किए गए हैं।

दिल्ली के अलावा चंडीगढ़ में हल्के झटके महसूस किए गए। लोग झटकों से खौफ में है। गौरतलब है कि शनिवार को भी पूरे उत्रर भारत में झटके महसूस किए गए थे। और आज एक बार फिर झटके महसूस किए गए हैं।पूरे देश के कई इलाकों से भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप की तीव्रता 6.9 रिक्टर स्केल बताया जा रा है।

गौरतलब है कि शनिवार को नेपाल में आए भूकंप में करीब 1900 लोगों की मौत हुई थी तो वहीं यूपी और बिहार में करीब 45 लोगों की मौत हो चुकी है। आज एक बार फिर झटके महसूस होते ही लोग दहशत में आ गए हैं।