विहारी ने जड़ दिया हनुमानी शतक

विहारी ने जड़ दिया हनुमानी शतक

जमैका: भारत क्रिकेट टीम के युवा बल्लेबाज हनुमा विहारी ने वेस्टइंडीज के खिलाफ जमैका में अपने अंतर्राष्ट्रीय करियर का पहला शतक जड़ा। विहार को शतक पूरा करने के लिए 200 गेंदों का सामना करना पड़ा। उन्होंने पहली पारी में 225 गेंदों में 16 चौकों की मदद से 111 रन बनाए।

13 अक्टूबर 1993 को जन्मे विहारी का यह 6 टेस्ट की 10 पारियों में अब तक 40.30 की औसत से 403 रन बनाए हैं। इस दौरान वह 2 अर्धशतक भी जड़ चुके हैं। विहारी पहले टेस्ट में सेंचुरी चूक गए थे, लेकिन यहां उन्होंने ये गलती नहीं दोहराई।

हनुमा विहारी की पहली शतकीय पारी और इशांत शर्मा के अप्रत्याशित अर्धशतक के दम पर भारत ने वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे क्रिकेट टेस्ट के दूसरे दिन पहली पारी में 416 रन बनाए।

अपने कल के स्कोर 42 रन से आगे खेलते हुए विहारी ने एक छोर संभालकर 111 रन की पारी खेली और वह आउट होने वाले आखिरी बल्लेबाज रहे । उन्होंने अपनी पारी में 225 गेंदों का सामना करके हुए 16 चौके लगाए। विहारी को ईशांत के रूप में बेहतरीन साथ मिला और दोनों ने आठवें विकेट के लिये 112 रन जोड़कर भारत को 400 के पार पहुंचाया। इशांत ने 80 गेंद में सात चौकों की मदद से 57 रन बनाए।

विहारी को वेस्टइंडीज के कप्तान जैसन होल्डर ने आउट किया जिन्होंने 32.1 ओवर में 77 रन देकर पांच विकेट लिए। वहीं ईशांत को कार्लोस ब्रेथवेट ने पवेलियन भेजा। इससे पहले भारत ने कल के स्कोर पांच विकेट पर 264 रन से आगे खेलते हुए ऋषभ पंत (27) का विकेट गंवाया, जो दिन की पहली ही गेंद पर आउट हो गए। वेस्टइंडीज के कप्तान जैसन होल्डर ने इनस्विंगर पर उन्हें आउट किया । इसके बाद विहारी और रविंद्र जडेजा ने संभलकर खेला।

विहारी ने अपना अर्धशतक 96 गेंद में पूरा किया। जडेजा ने 69 गेंद में 16 रन बनाए, लेकिन रकहीम कार्नवाल की गेंद पर बड़ा शाट खेलने के प्रयास में मिडआन में डेरेन ब्रावो को कैच दे बैठे । विहारी और जडेजा ने 10 ओवर में 38 रन की साझेदारी की। अगले ओवर में विहारी को जीवनदान मिला था, जब कॉर्नवाल की गेंद पर पहली स्लिप में जान कैंपबेल ने उनका कैच छोड़ा।