एजबेस्टन टेस्ट: कोहली फिर बने इंग्लैंड की राह का काँटा

एजबेस्टन टेस्ट: कोहली फिर बने इंग्लैंड की राह का काँटा

भारत को जीत के लिए चाहिए 84 रन, इंग्लैंड को 5 विकेट

बर्मिघम: भारत और इंग्लैंड के बीच बर्मिंघम के एजबेस्टन में चल रहे पहले टेस्ट मैच में इंग्लैंड के दिए 194 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए टीम इंडिया के लड़खड़ा कर संकट में आने के बाद विराट कोहली और दिनेश कार्तिक ने भारत की हार की संभावना को टालते हुए जीत की उम्मीद कायम रखी है. दिन का खेल खत्म होने पर भारत का स्कोर 5 विकेट के नुकसान पर 110 रन हो गया था. विराट कोहली 43 रन और दिनेश कार्तिक 18 रन बनाकर खेल रहे थे. भारत को अब जीत के लिए 84 रनों की जरूरत है.

इससे पहले भारत की आधी टीम केवल 78 रनों के स्कोर पर ही पवेलियन लौट गई. इस स्कोर पर जेम्स एंडरसन ने आर अश्विन को 13 के निजी स्कोर पर पवेलियन वापस भेज दिया अश्विन को बेयरस्टॉ ने कैच किया. इस समय विराट कोहली ही भारत की उम्मीद के तौर पर 34 रन बनाकर क्रीज पर टिके हुए थे. भारत को जीत के लिए अभी भी 116 रनों की जरूरत थी.

भारत की शुरुआत अच्छी नहीं रही सलामी जोड़ी जल्दी ही आउट हो गई. स्टुअर्ट ब्रॉड ने बेहतरीन गेंदबाजी करते हुए पहले मुरली विजय को केवल 6 रन पर आउट किया और उसके बाद शिखर धवन को भी जल्दी आउट कर दिया. शिखर 13 रन बनाकर विकेट के पीछे जॉनी बेयरस्टॉ को आउट करा दिया. मुरली भारत के 19 रन के स्कोर जबकि शिखर 22 रन के स्कोर पर आउट हुए. उस समय भारत को 172 रनों की जरूरत थी और उसके 8 विकेट बचे थे.

भारत की सलामी जोड़ी जल्द ही आउट होने के बाद कप्तान विराट कोहली ने आजिंक्यरहाणे के साथ पारी को संभालने की कोशिश में लगे थे. लेकिन रहाणे ज्यादा नहीं टिक सके और केवल 2 ही रन बनाकर सैम कुरैन की गेंद पर जॉनी बेयरस्टॉ को विकेट के पीछे कैच दे बैठे. वहीं राहुल 13 रन बनाकर बेन स्टोक्स की गेंद पर विकेट के पीछे जॉनी बेयरस्टॉ को कैच दे बैठे.

भारतीय गेंदबाजों ने तीसरे दिन चाय से पहले ही इंग्लैंड की पारी को 180 रनों पर सिमेट दिया, जिससे भारत को जीत के लिए 194 रनों का लक्ष्य मिला. इंग्लैंड के लिए सैम कुरैन ने सबसे ज्यादा 63 रन बनाए, जबकि जॉनी बेयरस्टॉ ने 28, डेविड मलान ने 20, आदिल राशिद ने 16, कप्तान जो रूट ने 14 और स्टुअर्ट ब्रॉड ने 11 रन बनाए. वहीं भारत के लिए ईशांत शर्मा ने पांच, अश्विन ने तीन और उमेश यादव ने दो विकेट लिए.

इंग्लैंड की पारी काफी पहले सिमट जाती अगर सैम कुरैन ने अपनी अर्धशतकीय पारी में पहले आदिल राशिद के साथ 48 रनों की और उसके बाद स्टुअर्ट ब्रॉड के साथ 41 रनों की साझेदारी न की होती. क्योंकि लंच के बाद तक इंग्लैंड की दूसरी पारी का स्कोर 7 विकेट खोकर केवल 87 रन था.