गौरक्षकों को हिंसक घटनाओं के साथ जोड़ना ठीक नहीं: मोहन भागवत

गौरक्षकों को हिंसक घटनाओं के साथ जोड़ना ठीक नहीं: मोहन भागवत

नई दिल्ली: गौरक्षा के नाम पर लोगों की कथित रूप से पीट पीट कर हत्या किए जाने की हालिया घटनाओं पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने शनिवार को स्पष्ट रूप से गौरक्षकों का बचाव किया। उन्होंने कहा कि गौरक्षकों को हिंसक घटनाओं के साथ जोड़ना ठीक नहीं है। भागवत ने इसके साथ ही कहा कि गौरक्षकों और गौपालकों को चिन्तित या विचलित होने की आवश्यकता नहीं है। चिंतित आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों को होना चाहिए, गौरक्षकों को नहीं। उन्होंने साथ ही ऐलान किया कि गौरक्षा व गौसंवर्धन का वैध व पवित्र परोपकारी कार्य चलेगा और बढ़ेगा और यही इन परिस्थितियों का उत्तर भी होगा।

विजयदशमी के पर्व पर आरएसएस मुख्यालय में यहां एक घंटे के अपने संबोधन में भागवत ने अवैध शरणार्थियों, गौ रक्षकों, जम्मू कश्मीर की स्थिति और आर्थिक हालात जैसे कई विषयों का जिक्र किया। मोहन भागवत ने कहा कि गौरक्षा से जुड़े हिंसा व अत्याचार के बहुर्चिचत प्रकरणों में जाँच के बाद इन गतिविधियों से गौरक्षक कार्यकर्ताओं का कोई संबंध सामने नहीं आया है। इधर के दिनों में उलटे अहिंसक रीति से गोरक्षा का प्रयत्न करनेवाले कई कार्यकर्ताओं की हत्याएँ हुई हैं। उसकी न कोई चर्चा है, न कोई कार्रवाई। उन्होंने कहा कि वस्तुस्थिति न जानते हुए अथवा उसकी उपेक्षा करते हुए गौरक्षा व गौरक्षकों को हिंसक घटनाओं के साथ जोड़ना व सांप्रदायिक प्रश्न के नाते गौरक्षा पर प्रश्नचिन्ह लगाना ठीक नहीं है।

India