चौथे चरण के बाद भाजपा के सभी नेताओं का ब्लड प्रेशर नापना पड़ेगा: अखिलेश यादव

चौथे चरण के बाद भाजपा के सभी नेताओं का ब्लड प्रेशर नापना पड़ेगा: अखिलेश यादव

फतेहपुर: यूपी विधानसभा चुनावों के प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के बीच वार-पलटवार का दौर लगातार जारी है. पीएम मोदी ने रविवार को फतेहपुर की रैली में अखिलेश यादव पर तंज कसते हुए कहा कि यूपी के मुख्यमंत्री अब कमजोर पड़ते दिख रहे हैं. उन्होंने कहा कि अखिलेश की आवाज में अब पहले जैसा दम नहीं रहा और वह बाजी हार चुके हैं. पीएम मोदी ने अखिलेश पर हमला बोलते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में भेदभाव सबसे बड़ा संकट है, अन्याय की जड़ में भेदभाव है. उधर, अखिलेश यादव ने झांसी की चुनावी सभा में कहा कि जब प्रधानमंत्री को बोलते-बोलते पानी पीना पड़ जाए और सर्दी में पसीना पोछना पड़े तो समझ लो सात चरणों के बाद यूपी की जनता कितना पसीना पोछवाएगी. उन्होंने कहा कि भाजपा को यह पता लग चुका है कि जनता का रुख उसके खिलाफ है. विधानसभा चुनाव के तीसरे और चौथे चरण के बाद भाजपा के सभी नेताओं का ब्लड प्रेशर नापना पड़ेगा.

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के साथ मंच साझा करते हुए अखिलेश यादव ने 'अच्छे दिन' आने का वादा करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बड़ा हमला बोलते हुए कहा कि 'अच्छे दिन वालों ने बुंदेलखंड में पानी के टैंकरों वाली खाली ट्रेन भेजी थी.' उन्होंने कहा, 'समाजवादियों ने बुंदेलखंड के लोगों की जरूरत के समय मदद की है, सूखा के मौके पर राहत पैकेट बांटे, पेंशन दे रही है, विकास कार्य हुए, मगर 'अच्छे दिन' वाले धोखा करते हैं, तभी तो सूखा के समय बुंदेलखंड में पानी की खाली ट्रेन भेजी थी.'

बुंदेलखंड में पिछले साल गर्मी में पानी की समस्या के बीच केंद्र की ओर से दूरस्थ इलाकों में पानी पहुंचाने के लिए ट्रेन भेजी गई थी, मगर उन टैंकरों में पानी नहीं था. राजनीतिक विवाद के चलते यह ट्रेन झांसी रेलवे स्टेशन पर कई दिन खड़ी रही थी.

अखिलेश ने कहा कि समाजवादियों के पास तो गिनाने के लिए कई काम हैं, मगर इन अच्छे दिन आने का वादा करने वालों ने नोटबंदी कर गरीब, किसान को लाइन में खड़ा कर दिया, कई लोगों की तो जान तक चली गई. सपा सरकार ने इन प्रभावितों की मदद करते हुए दो-दो लाख रुपये दिए. मोदीजी ने क्या दिया? संवेदना के दो शब्द तक नहीं कहे.'