मुख्तार अंसारी परिवार समेत बसपा में शामिल, भाई, बेटे को भी मिला टिकट

मुख्तार अंसारी परिवार समेत बसपा में शामिल, भाई, बेटे को भी मिला टिकट

इंस्टेंटखबर ब्यूरो लखनऊ: पूर्वांचल के बाहुबली नेता मुख्‍तार अंसारी बहुजन समाज पार्टी में शामिल हो गए हैं. बसपा सुप्रीमो मायावती ने गुरुवार को प्रेस कांफ्रेंस कर इसकी घोषणा की. इसके साथ ही पूरा अंसारी परिवार बीएसपी में शामिल हो गया है. कुछ सीटों पर अंसारी परिवार को टिकट दिया गया है. जेल में बंद मुख्‍तार अंसारी मऊ सीट से चुनाव लड़ेंगे. घोसी से अब्‍बास अंसारी को टिकट दिया गया है. मोहम्‍मदाबाद से मुख्‍तार अंसारी के भाई को टिकट दिया गया है.उल्‍लेखनीय है कि अंसारी परिवार ने कुछ समय पहले कौमी एकता दल का गठन किया था. बाद में इस दल का सपा में विलय हो गया.

उस वक्‍त अखिलेश यादव ने इसका पुरजोर विरोध किया था लेकिन उनके विरोध को नजरअंदाज करते हुए मुलायम सिंह और शिवपाल यादव ने उनको टिकट भी दे दिए. उसके बाद सपा में जब पारिवारिक घमासान मची तो उसकी तमाम वजहों में से इनको टिकट देना भी माना गया. दरअसल अखिलेश यादव का खेमा मुख्‍तार अंसारी की आपराधिक छवि के चलते उनको टिकट देने के खिलाफ था. बाद में जब अखिलेश यादव सपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष बने और मुलायम सिंह और उनके बीच सुलह हुई, तभी माना जाने लगा था कि अंसारी बंधुओं को अब टिकट नहीं दिया जाएगा.

हालांकि मुख्‍तार के भाई शिबगतुल्‍लाह अंसारी का कहना है कि उनको आश्‍वासन दिया गया था कि उनका टिकट नहीं काटा जाएगा लेकिन अखिलेश यादव ने बाद में दूसरे लोगों को इन सीटों से टिकट देकर स्‍पष्‍ट कर दिया था कि सपा में अंसारी परिवार के लिए कोई जगह नहीं है. नतीजतन गुरुवार को अंसारी बंधु बसपा में चले गए. पूर्वांचल की कुछ सीटों पर इनका प्रभाव माना जाता है. संभवतया इन्‍हीं वजहों से मुलायम सिंह ने इनको पहले टिकट देने का फैसला किया था.

मायावती ने बीजेपी और केंद्र सरकार पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार को बने हुए लगभग तीन साल हो गए हैं। इसके बावजूद उन्होंने अपना एक चौथाई काम तक नहीं किया है। पूरा प्रदेश की जनता में इनके लिए नाराजगी है। अब बीजेपी को लग गया है कि उनकी हार हो रही है। इसलिए बीजेपी को धर्म का सहारा लेना पड़ रहा है।

वहीं समाजवादी पार्टी पर हमला बोलते हुए मायावती ने कहा कि सपा ने चुनाव से पहले ही हार मान चुकी है।