सावधान! कोरोना में ठहाके लगाना भी खतरनाक

सावधान! कोरोना में ठहाके लगाना भी खतरनाक

कोरोना वायरस को लेकर इस समय पूरी दुनिया में दहशत का माहौल बना हुआ है। पूरी दुनिया के लगभग सभी देश पूरी तरह लॉकडाउन हैं और लोग अपने घरों में बंद हैं। घरों में बंद रहने से तनाव की स्थिति पैदा हो रही है। इससे लोगों में नकारात्मक सोच पैदा हो रही है। जाहिर है भयंकर सन्नाटे और उदासीनता से छुटकारा पाने और दिल बहलाने के लिए लोग घरों में ही हल्का-फुल्का मजाक का माहौल बनाने की भी कोशिश कर रहे हैं। लेकिन यह हंसी-मजाक भी आपको भारी पड़ सकती है। चौंक गए न?

दरअसल भारत के प्रमुख स्वास्थ्य अनुसंधान संस्थान आईसीएमआर और एम्स के डॉक्टरों के साथ मिलकर कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए गाइडलाइंस तैयार की हैं। शोधकर्ताओं ने बताया है कि संक्रमित शख्स के जोर से हंसने से भी कोरोना वायरस के फैलने का खतरा पैदा हो सकता है।

अब सवाल यह है कि ऐसा कैसे संभव है? दरअसल, कोरोना संक्रमित शख्स के जोर से हंसने के दौरान वायरस ड्रॉपलेट के माध्यम से बाहर निकलता है, जिससे आसपास मौजूद लोग इसकी चपेट में आ जाएं तो उनके भी संक्रमित होने का खतरा हो सकता है।

जागरणकी एक रिपोर्ट के अनुसार, एम्स के कार्डियोलॉजी विभाग के प्रोफेसर डॉ. अंबुज रॉय ने कहा है कि कोरोना वायरस खांसने व छींकने के दौरान वायरस ड्रॉपलेट के माध्यम से बाहर निकलता है, इसलिए हाथ से चेहरा न छूएं। साथ ही यह वायरस संक्रमित व्यक्ति के जोर से हंसने पर भी निकलता है।

भारत में बृहस्पतिवार को कोरोना वायरस के मामले बढ़कर 649 हो गए और अब तक 13 लोगों की मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, गुजरात, तमिलनाडु और मध्य प्रदेश से एक-एक शख्स की मौत हुई है। मंत्रालय द्वारा तैयार किए गए चार्ट में गोवा पहली बार दिखा और वहां संक्रमण के तीन मामले दर्ज किए गए हैं।

मंत्रालय ने सुबह 10 बजकर 15 मिनट पर अपने ताजा आंकड़ों ने कहा कि देश में अभी तक कोविड-19 से 13 लोगों की मौत हो चुकी है। महाराष्ट्र में तीन लोगों की मौत हुई, गुजरात में दो जबकि मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, बिहार, कर्नाटक, पंजाब, दिल्ली, पश्चिम बंगाल और हिमाचल प्रदेश में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है। आंकड़ों के अनुसार, देश में कोरोना वायरस के सक्रिय मामले 593 हैं जबकि 42 लोग या तो स्वस्थ हो गए या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई और एक व्यक्ति विस्थापित हो गया।

मंत्रालय ने बताया कि 649 कुल मामलों में 47 विदेशी नागरिक भी शामिल हैं। मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, अभी तक कोरोना वायरस के सबसे अधिक 124 मामले महाराष्ट्र से सामने आए हैं जिनमें तीन विदेशी भी शामिल हैं। इसके बाद केरल में 118 मामले दर्ज हुए जिनमें आठ विदेशी नागरिक भी शामिल हैं।

तेलंगाना में 41 लोग संक्रमित पाए गए हैं जिनमें 10 विदेशी शामिल हैं। कर्नाटक में कोविड-19 के 41 मामले आए हैं जबकि गुजरात में मामलों की संख्या एक विदेशी समेत 38 पर पहुंच गई। राजस्थान में कोरोना वायरस मामलों की संख्या दो विदेशी समेत 38, उत्तर प्रदेश में एक विदेशी समेत 37, दिल्ली में एक विदेशी समेत 35, पंजाब में 33 मामले जबकि हरियाणा में 14 विदेशी समेत 30 मामले सामने आए हैं। तमिलनाडु में संक्रमण के मामले बढ़कर छह विदेशियों समेत 26 हो गए।

मध्य प्रदेश में 15 मामले, लद्दाख में 13, आंध्र प्रदेश और जम्मू कश्मीर में 11-11 जबकि पश्चिम बंगाल में नौ मामले सामने आए हैं। चंडीगढ़ में अभी तक सात लोग संक्रमित पाए गए है और उत्तराखंड में एक विदेशी समेत पांच लोग संक्रमित हैं। बिहार, छत्तीसगढ़ और हिमाचल प्रदेश में तीन-तीन मामले दर्ज हुए जबकि ओडिशा में दो मामलों का पता चला है। गोवा में कोरोना वायरस के तीन मामले सामने आए हैं।

पहले मंत्रालय ने गलती से 33 मामलों की जानकारी दी थी लेकिन बाद में इसमें सुधार कर लिया गया। पुडुचेरी, मिजोरम और मणिपुर में एक-एक व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया है। गौरतलब है कि कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को आधी रात से 21 दिन के देशव्यापी लॉकडाउन (बंद) की घोषणा की थी।