झारखंड में राहुल ने किया वादा, उद्योगपतियों से जमीन छीनकर आदिवासियों को देंगे

झारखंड में राहुल ने किया वादा, उद्योगपतियों से जमीन छीनकर आदिवासियों को देंगे

नई दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी सोमवार को झारखंड के सिमडेगा पहुंचे, जहां उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी के पक्ष में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा कि अगर झारखंड में कांग्रेस गठबंधन की सरकार बनी तो छत्तीसगढ़ की तरह यहां भी किसानों का कर्जा माफ किया जाएगा। आदिवासी हितों की रक्षा करेंगे। उद्योगपतियों से जमीन छीनकर आदिवासियों को देंगे।

राहुल ने प्रधानमंत्री पर आरोप लगाते हुए कहा कि मोदी दिनभर टीवी पर आते रहते हैं। इनकी मार्केटिंग का पैसा हिंदुस्तान के 15 से 20 बड़े उद्योगपति देते हैं, जिनका साढ़े पांच साल में 3 लाख 50 हजार करोड़ रुपये माफ किया गया। राहुल गांधी ने इस दौरान केंद्र की भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस प्यार बांटती है जबकि भाजपा हिंसा को बढ़ावा देती है। सभा में मौजूद लोगों से जुड़ते हुए उन्‍होंने झारखंड में महागठबंधन की सरकार बनाने का आह्वान किया।

भाजपा को घेरते हुए राहुल ने कहा कि बीजेपी की सरकारें जमीन की लुटेरी हैं। यह आदिवासियों का जमीन पूंजीपतियों के लिए जबरन लूट लेती हैं। पांच चरणों में होने वाले झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस के स्टार प्रचारक राहुल गांधी ने सोमवार को सिमडेगा में एक जनसभा को संबोधित किया। राहुल गांधी ने अनिल अंबानी, मेहुल चौकसी और विजय माल्‍या का जिक्र करते हुए कहा कि माेदी जी सिर्फ 15-20 पूंजीपतियों के लिए सरकार चलाते हैं। गरीबों का पैसा छीनकर इन चोरों के पॉकेट में डाल देते हैं।

इससे पूर्व राहुल गांधी के हेलीकॉप्‍टर को देखकर उपस्थित जनसमूह झूम उठा। उन्‍होंने पहले झारखंड कांग्रेस के बड़े नेताओं आरपीएन सिंह, सुबोधकांत सहाय आदि नेताओं का नाम लिया। अपने भाषण की शुरुआत में उन्‍होंने बिरसा मुंडा, जयपाल सिंह मुंडा को याद किया और कहा कि उन्‍होंने रास्‍ता दिखाने का काम किया है। झारखंड में धन की कोई कमी नहीं है। उन्‍होंने जल-जंगल-खनिज आदि गिनाए और कहा कि यह चीजें छतीसगढ़ में भी हैं। एक साल के अंदर कांग्रेस ने छतीसगढ़ का चेहरा बदल दिया। राहुल ने कहा कि कांग्रेस की सरकार से पहले छतीसगढ़ में आदिवासियों की जमीनें छीन ली जाती थी। लेकिन कांग्रेस की सरकार छतीसगढ़ में आने के बाद हमने एक कानून लाकर किसानों, गरीबों और आदिवासियों की जमीनों की रक्षा की। छतीसगढ़ में भाजपा सरकार ने आदिवासियों की जमीनें छीनकर उद्योगपतियों को दी। उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस की सरकार झारखंड में आपकी जमीनों की रक्षा करेगी। बेरोजगारी के लिए कांग्रेस काम करना चा‍हती है। किसानों का कर्ज माफ करेगी। नोटबंदी के दौरान किसान, माताओं व बहनों को बैंक के सामने खड़ा रहना पड़ा।

केंद्र सरकार ने 15 पूंजीपतियों का कर्जा माफ किया, किसानों का नहीं। जीएसटी लाया गया, पर यह गब्बर सिंह टैक्स से किसी को फायदा नहीं हुआ। झारखंड में किसानों व गरीबों की सरकार बनेगी। मैं अापको गारंटी करके देता हूं कि आपकी यहां रक्षा होगी। जहां भी भाजपा की सरकार बनती है, वहां लोगों काे दबाया जाता है, कुचला जाता है। भाजपा सरकार धर्म, विचारधारा, संस्कृति के नाम पर लोगों को कुचलने का काम कर रही है।

सीएनटी एसपीटी एक्ट में कोई बदलाव बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। झारखंड में जल, जंगल, जमीन, धन की रक्षा के लिए कानून बनाएंगे। आपका धन एक बार फिर आपके हवाले करेंगे। लोकसभा चुनाव के दौरान हमने न्याय योजना की बात की थी। इससे एक भी गरीब आदमी नहीं बचता। हम लोकसभा चुनाव हार गए और न्‍याय योजना ला नहीं पाए। इससे युवाओं को रोजगार मिलता। आज लोगों के पास पैसा नहीं है। लोगों ने माल खरीदना बंद कर दिया। कारखाने बंद हो गए।

पूरे देश में बेराेजगारी बढ़ गई। गरीबी दूर करना है तो उनकी जेब में पैसा डालना होगा। नरेंद्र मोदी इस बात को नहीं समझते। उन्‍होंने नोटबंदी, जीएसटी लागू कर विजय माल्‍या, नीरव मोदी जैसे लोगों की जेब में पैसा डाला। ये मोदी की सरकार नहीं, ये अंबानी-अडाणी की सरकार है। सरकार का लक्ष्य लोगों के जेब से पैसे निकालना है। पहले 35 किलो अनाज मिलता था। आज 5 किलो मिल रहा है। मनरेगा का पैसा बंद कर चुनिंदा लोगों को दिए गए।

राहुल गांधी ने कहा कि अगर आप जल-जंगल-जमीन की रक्षा करना चाहते हो तब झारखंड में महागठबंधन की सरकार बनाना ही होगा। देश विभिन्न विचारधारा वाले लोगों का देश है। हम हिंसा नहीं प्यार से काम करते हैं। देश में अलग धर्म है, अलग जाति है लेकिन कांग्रेस सबको साथ लेकर चलती है। छतीसगढ़ की सरकार आपके सामने एक उदाहरण है। कांग्रेस की सरकार ने जो काम छतीसगढ़ में किया वही काम कांग्रेस की महागठबंधन की सरकार झारखंड में करेगी। इस दौरान सोनिया-राहुल के साथ-साथ शिबू सोरेन व हेमंत, तेजस्वी के भी नारे लगे।