अयोध्या विवाद: अम्बेडकर नगर में बनाई गयी 8 अस्थाई जेलें

अयोध्या विवाद: अम्बेडकर नगर में बनाई गयी 8 अस्थाई जेलें

लखनऊ: अयोध्या के रामजन्मभूमि विवाद मामले पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला अब कभी भी आ सकता है। ऐसे में अयोध्या और आसपास के जिलों में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है। इस फैसले के मद्देनजर अयोध्या में पहले ही 10 दिसंबर तक धारा 144 लागू है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला 11 से 13 नवंबर के बीच आ सकता है।

इसकी वजह ये है कि चीफ जस्टिस रंजन गोगोई का कार्यकाल 17 नवंबर को खत्म हो रहा है, लेकिन अगले हफ्ते 11, 12, 16 (शनिवार) और 17 नवंबर (रविवार) को छुट्टी है। इसका मतलब है कि फैसला सुनाने के लिए अदालत के पास अब 7, 8, 9 (शनिवार), 13, 14 और 15 नवंबर का समेत कुल 6 दिन का समय बचा है।

सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या विवाद की सुनवाई 16 अक्टूबर को पूरी करने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था। माना जा रहा है कि चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के रिटायरमेंट (17 नवंबर) से पहले कभी भी इस मामले पर फैसला आ सकता है।

अयोध्या में सुरक्षा बलों को सात सौ सरकारी स्कूलों, यूपी बोर्ड से सहायता प्राप्त 50 और 25 सीबीएसई स्कूलों में ठहराया गया है। वहीं अयोध्या पुलिस ने सोशल मीडिया पर किसी भी प्रकार के दुष्प्रचार या किसी भी सम्प्रदाय के खिलाफ भड़काऊ कंटेंट का प्रसार पर नजर रखने के लिए जिले के 1600 स्थानों पर 16 हजार वॉलियंटिर्स को निगरानी के लिए तैनात किया है।

India