बैंकों के बाद अब इन्शुरन्स कंपनियों के मर्जर की तैयारी

बैंकों के बाद अब इन्शुरन्स कंपनियों के मर्जर की तैयारी

नई दिल्ली. तीन सरकारी जनरल इंश्योरेंस कंपनियों, नेशनल इंश्योरेंस कंपनी, यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी और ओरिएंटल इंडिया इंश्योरेंस कंपनी का जल्द ही मर्जर होगा. तीनों कंपनियां मिलकर एक कंपनी हो जाएंगी. इसके साथ यह देश की सबसे बड़ी जनरल इंश्योरेंस कंपनी बन जाएगी.

प्रीमियम के हिसाब से तीनों कंपनियों को मिलाकर 25 फीसदी प्रीमियम का हिस्सा सिर्फ तीनों कंपनियों के हिस्से से आता है. इन तीनों कंपनियों के मर्जर को लेकर वित्त मंत्रालय ने प्रस्ताव कैबिनेट में भेज दिया है और मंजूरी मिलते ही इन तीनों कंपनियों का मर्जर हो जाएगा.

सबसे महत्वपूर्ण बात ये है कि इन तीनों कंपनियों के मर्जर के साथ ही सरकार उन तीनों कंपनियों को मर्जर के वक्त करीब 12,500 करोड़ रुपये देगी. ये रकम इन तीनों को रेगुलेटरी जरूरतों को पूरा करने के लिए होगी.

फिलहाल इन कंपनियों की इनसॉल्वेंसी रेश्यो यानी जितनी आपकी लायबिलिटी है उसका 1.5 फीसदी आपको सरप्लस रखना है, वो 1.5 फीसदी के बजाय सिर्फ 1 फीसदी है. इसे पूरा करने के लिए पैसे की जरूरत होगी. सरकार को भरोसा है कि इस मर्जर के बाद इन तीनों कंपनियों से मिलकर जो कंपनी बनेगी उसकी हालत काफी बेहतर होगी.