भारत के पहाड़ स्कोर का दबाव, दक्षिण अफ्रीका की दयनीय शुरुआत, मयंक का दोहरा शतक

भारत के पहाड़ स्कोर का दबाव, दक्षिण अफ्रीका की दयनीय शुरुआत, मयंक का दोहरा शतक

विशाखापत्तनम: मयंक अग्रवाल ने पहले टेस्ट शतक को दोहरे शतक में तब्दील करते हुए भारत को गुरूवार को यहां दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज के पहले टेस्ट के दूसरे दिन बड़े स्कोर तक पहुंचाने का काम किया। भारत ने अपनी पहली पारी सात विकेट के नुकसान पर 502 रनों पर घोषित कर दी। भारत ने दिन के तीसरे सत्र में पारी घोषित करने का फैसला किया। भारत के लिए मयंक अग्रवाल ने 215 और रोहित शर्मा ने 176 रनों की पारियां खेलीं। मयंक ने अपनी पारी में 371 गेंदों का सामना किया तो वहीं रोहित ने 244 गेंदों का सामना किया। दोनों ने अपनी पारी में 23-23 चौके और छह-छह छक्के लगाए। रवींद्र जडेजा 30 रन बनाकर नाबाद रहे। रिद्धिमान साहा ने 21 रन बनाए। विराट कोहली ने 20 रनों का योगदान दिया। दक्षिण अफ्रीका के लिए केशव महाराज ने तीन विकेट लिए। वार्नोन फिलेंडर, सुनेयुर मुथुसामी, डीन एल्गर ने एक-एक विकेट लिए।

सुबह के सत्र में अग्रवाल ने अपना पहला टेस्ट शतक पूरा किया जबकि रोहित शर्मा ने सलामी बल्लेबाज के तौर पर पदार्पण में 176 रन की पारी खेली। रोहित 82वें ओवर में आउट हुए जिन्होंने 176 रन की पारी में 23 चौके और छह छक्के जमाये। लंच तक भारत ने 88 ओवर में एक विकेट पर 324 रन बना लिये थे। मेजबान टीम ने 4.28 रन प्रति ओवर से इस सत्र में 122 रन जोड़े।

भारत ने बिना विकेट गंवाये 202 रन से खेलना शुरू किया जिसमें रोहित ने 115 और अग्रवाल ने 84 रन से पारी शुरू की और इन दोनों को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ भारत की सबसे बड़ी सलामी भागीदारी दर्ज कराने में ज्यादा देर नहीं लगी। इन दोनों ने गौतम गंभीर और वीरेंद्र सहवाग के बीच पहले विकेट के लिये 2004 में कानपुर में खेली गयी 218 रन की सर्वश्रेष्ठ भागीदारी को पीछे छोड़ा। कुछ देर में दोनों ने 268 रन की साझेदारी निभा ली और 2007-08 में राहुल द्रविड़ और सहवाग के बीच बनी साझेदारी को पीछे छोड़ते हुए दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ किसी भी विकेट के लिये सर्वोच्च भागीदारी बना ली।

अग्रवाल ने लंच के बाद 138 रन से आगे खेलते हुए बेहतरीन एकाग्रता और संयम दिखाया और दोपहर के ज्यादातर सत्र में बल्लेबाजी की जिसे पहले दिन के ओवरों की भरपायी के लिये 30 मिनट का बढ़ा दिया गया। चाय तक भारत ने पांच विकेट पर 450 रन बना लिये थे। अग्रवाल सत्र के अंत में आउट हुए, वह डीन एल्गर की गेंद को डीप मिड विकेट पर उठा बैठे जहां खड़े डेन पीट ने डाइविंग कैच लिया। अग्रवाल की 215 रन की पारी में 23 चौके और छह छक्के जड़े थे जिसके लिये उन्होंने 371 गेंद खेलीं। भारत ने इस सत्र में चार विकेट के नुकसान पर 126 रन बनाये।

दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाज वर्नोन फिलैंडर ने लंच के बाद पहली गेंद पर चेतेश्वर पुजारा (06) को आउट किया। फिलैंडर की खूबसूरत गेंद पुजारा के आफ स्टंप उखाड़ गयी। कप्तान विराट कोहली (20) क्रीज पर उतरे और वह अच्छी लय में दिख रहे थे। लेकिन बड़ी पारी नहीं खेल सके और पदार्पण कर रहे सेनुरान मुथुस्वामी को उनकी गेंद पर आसान कैच देकर काफी निराश दिख रहे थे। भारतीय बल्लेबाज इस सत्र में तेजी से रन जुटाने की कोशिश में थे लेकिन अजिंक्य रहाणे (15) भी ज्यादा देर तक नहीं टिक सके और केशव महाराज को दूसरा विकेट दे बैठे।

भारत द्वारा पारी घोषित करने के बाद दक्षिण अफ्रीकी टीम जवाब देने उतरी और उनकी शुरुआत बेहद खराब रही। दक्षिण अफ्रीका ने भारत के खिलाफ पहले क्रिकेट टेस्ट के दूसरे दिन का खेल खत्म होने तक पहली पारी में तीन विकेट पर 39 रन बनाए। भारत ने पहली पारी सात विकेट पर 502 रन बनाने के बाद घोषित की थी। दक्षिण अफ्रीका अब भी 463 रन से पिछड़ रहा है जबकि उसके सात विकेट शेष हैं। अश्विन ने एडेन मार्कराम (5) को बोल्ड किया और डी ब्रूयेन (4) को रिद्धिमान साहा के हाथों स्टंप करा दिया, वहीं डेन पीट (0) को रवींद्र जडेजा ने बोल्ड करके दक्षिण अफ्रीका को तीसरा झटका दिया। डीन एल्गर 27 जबकि तेंबा बावुमा दो रन बनाकर खेल रहे हैं।