जीत के साथ आज नंबर एक स्लॉट पर भी होगी भारत की नजर

जीत के साथ आज नंबर एक स्लॉट पर भी होगी भारत की नजर

नई दिल्ली: भारत, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और न्यूजीलैंड ये चार टीमें सेमीफाइनल में पहुंच चुकी हैं। भारत विश्व कप 2019 के अंतिम चार में पहुंचने वाली एशिया की इकलौती टीम बनी हैं। 6 जुलाई को इस विश्व कप से एशियाई टीमों के लीग मैच भी समाप्त हो जाएगा। इस महान प्रतियोगिता के 44वें मैच में भारत और श्रीलंका की टीमें अपना अंतिम लीग मैच खेलेंगी। इसके अलावा ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका का अंतिम मैच भी 6 जुलाई को ही है। यानी यह दिन अंक तालिका में नंबर एक और दो स्लॉट के लिए निर्णायक होने जा रहा है। भारतीय टीम एक बार फिर से श्रीलंका के सामने बहुत मजबूत नजर आ रही है। ऐसे में कोई वजह नहीं दिखती है कि टीम इंडिया अपने लीग मैचों का सफर जीत के साथ समाप्त करे। इस मैच में भी भारतीय टीम अपनी फुल स्ट्रैंथ के साथ उतरने के लिए पूरी तरह से तैयार है। जसप्रीत बुमराह और धोनी की फिटनेस पर भी कोई शक नहीं है। ऐसे में काफी चांस हैं कि भारत इस मैच में वही टीम उतारे जो पिछले मैच में उतारी थी।

भारत ने बांग्लादेश के खिलाफ पिछले मैच में केदार जाधव की जगह पर दिनेश कार्तिक को मौका दिया था। कार्तिक ने उस मुकाबले में डेथ ओवरों में बल्लेबाजी की थी लेकिन वे ज्यादा कुछ नहीं कर पाए थे। ऐसे में हो सकता है टीम प्रबंधन सेमीफाइनल से पहले कार्तिक को एक और मौका दे। वहीं पिछले मैच में 48 रन बनाने वाले पंत का स्थान एक बार फिर नंबर चार पर पक्का माना जा रहा है। अगर सेमीफाइनल में विपक्षी टीमों की बात करें तो भारत कहीं ना कहीं चाहेगा कि उसका मुकाबला न्यूजीलैंड से हो क्योंकि यह टीम अंतिम चरण में लगातार बदतर खेल दिखाकर भी रन रेट में पाकिस्तान से बाजी मार ले गई है। वहीं इंग्लैंड एक बार फिर से अपने पुराने रंग में आ चुका है। जबकि ऑस्ट्रेलिया चैंपियन सरीखा खेल दिखा रहा है। ऑस्ट्रेलिया से भारत किसी भी सूरत में सेमीफाइनल में भिड़ने नहीं जा रहा है। केवल इंग्लैंड और न्यूजीलैंड से ही उसका मुकाबला हो सकता है। ऐसे में भारत चाहेगा कि नंबर एक आकर अपने लिए फाइनल की राह आसान बनाई जाए।

जहां तक श्रीलंका की बात है तो यह टीम मैच हारकर भी इस विश्व कप में अपना सफर नंबर 6 स्थान पर पूरा करेगी और मैच जीतकर भी। लेकिन लंका किसी भी तरह से यह मुकाबला लड़कर पाकिस्तान की तरह सम्मान के साथ अपने वतन वापस लौटना चाहेगा।