मरीना बीच पर दफनाए गए करुणानिधि

मरीना बीच पर दफनाए गए करुणानिधि

चेन्नई: द्रविड़ मुनेत्र कड़गम(द्रमुक) के अध्यक्ष और तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री एम. करुणानिधि को बुधवार को मरीना बीच पर उनके गुरु अन्नादुरई के बगल में दफनाया गया। उनका अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ किया गया। उनकी अंतिम यात्रा राजाजी हॉल से फूलों से सजे सैन्य वाहन में शुरू हुई। यहीं पर सुबह से उनके पार्थिव शरीर को रखा गया था। 94 वर्षीय दिग्गज राजनीतिज्ञ का पार्थिव शरीर तिरंगे से लिपटा हुआ था, जिन्हें दोपहर चार बजे से पहले सैन्य कर्मियों ने एक सैन्य वाहन पर रखा।

द्रमुक नेता और करुणानिधि के बेटे एम.के. स्टालिन और पार्टी के नेता सैन्य वाहन के आगे-आगे चल रहे थे। इस अवसर पूरे तमिलनाडु से आए लाखों लोग भावुक मुद्रा में राजाजी हाल के आसपास जमा रहे। स्टालिन ने महान नेता की अंतिम यात्रा के दौरान लोगों से शांत रहने की अपील की। इससे पहले राजाजी हॉल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिवंगत नेता एम. करुणानिधि को श्रद्धांजलि अर्पित की। पूरे तमिलनाडु से लाखों भावुक लोग भी यहां राजाजी हॉल में अपने प्रिय नेता को श्रद्धांजलि देने के लिए जमा हुए।

संसद के दोनों सदनों में उन्हें श्रद्धांजलि दी गई और सदन को दिनभर के लिए स्थगित कर दिया गया। उनके सम्मान में राष्ट्रध्वज को आधा झुका दिया गया और पूरे दिन के लिए सभी सरकारी कार्य रद्द कर दिए गए। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, कनार्टक के मुख्यमंत्री एच.डी. कुमारस्वामी, माकपा के पूर्व महासचिव प्रकाश करात, केरल के पूर्व मुख्यमंत्री ओमन चांडी और भाकपा के डी. राजा समेत अन्य नेताओं ने भी राजाजी हॉल में उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी मंगलवार रात को ही चेन्नई पहुंच चुकी थीं और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए गोपालपुरम स्थित उनके घर पहुंचीं। तलिनाडु के मुख्यमंत्री के. पलनीस्वामी और उपमुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम ने भी द्रमुक अध्यक्ष और पांच पार मुख्यमंत्री रहे एम. करुणानिधि को यहां राजाजी हॉल में अंतिम श्रद्धांजलि दी। अभिनेता से नेता बने रजनीकांत ने भी दिवंगत नेता को श्रद्धांजलि अर्पित की।

करुणानिधि के पार्थिव शरीर को राजाजी हॉल में लाने से पहले बुधवार तड़के गोपालपुरम में उनके घर ले जाया गया था, जहां रिश्तेदारों ने उनके अंतिम दर्शन किए। रात भर चले तनावपूर्ण माहौल के बाद द्रमुक ने आखिरकार सुबह एक बड़ी कानूनी लड़ाई जीत ली। मद्रास उच्च न्यायालय ने मरीना बीच पर करुणानिधि के शव को दफनाने की अनुमति दे दी।

India