अमेठी में चुनाव आयोग को ठेंगा, रेपोस्टिंग पर है दरोगा के साथ एसपी भी

संवाददाता

अमेठी। अमेठी जिले में निष्पछ चुनाव हो जाय इसकी कोई गारंटी नही है। वजह चौकाने वाली है। यहाँ पर एसपी और कई दरोगा रेपोस्टिंग पर तैनात है।

बुधवार को शुकुलबाजार में 11 लोगो की हत्या कर दी गई थी इधर पुलिस विभाग के आलाधिकारी अपनी गणित फिट कर रहे थे।आचार संहिता लगने के पहले खद्दर्धारियो के चहेतों को मनचाही तैनाती के लिया गुना गणित लगाई जा रही थी। बानगी के तौर पर आर के सिंह कभी अमेठी कोतवाली में सब इंस्पेक्टर के पद पर तैनात थे। इन्हें कुछ दिन बाद मुंसीगंज थाने की जिम्मेदारी दी गई। इसके बाद अमेठी कोतवाली का चार्ज सौंपा गया। सुप्रीम कोर्ट के दखल के बाद इनका डिमोशन कर दिया गया। कोर्ट के चाबुक से इनका तबादला उन्नाव जनपद हो गया। रसूख के चलते हाल ही में इनकी आमद हुई और इनको अमेठी कोतवाली के बाद कमरोली थाने की जिम्मेदारी दी गई। अधिसूचना लगने के चंद घंटे के बाद इन्हें मुंशीगंज थाने पर तैनात कर दिया गया है। इनके अलावा पीपरपुर के मौजूदा एसओ भरत की तैनाती इसके पहले इसी थाने के रामगंज चौकी पर तैनाती थी। बाद में इन्हें थाने का प्रभार सौंप दिया गया है। अमेठी जिले में दुबारा तैनाती की यह बानगी भर है। नेताओ के रहमोकरम पर कुछ दरोगा मौज कर रहे है।

एसपी संतोष सिंह की भी है रेपोस्टिंग !

एसपी संतोष सिंह वर्ष 2007 में सुलतानपुर जिले में एडिशनल एसपी पश्चिमी के पद पर तैनात थे। तब सलोन को छोड़कर अमेठी जिले का बाकी हिस्सा इन्ही के कार्य छेत्र में आता था। इसको लेकर भी सवाल खड़े हो रहे है। मंत्री के करीबी माने जाते हैं दरोगा आरके सिंह

दरोगा आरके सिंह पर मेहरबानी के पीछे एक मंत्री से नजदीकियां मानी जा रही है। तभी इन्हें मनचाही तैनाती दी जा रही है।

कांग्रेसी ने किया चुनाव आयोग से शिकायत

कांग्रेस के प्रवक्ता अनिल सिंह ने रेपोस्टिंग पर चुनाव आयोग से शिकायत किया है। अनिल सिंह ने बताया कि मंत्री गायत्री प्रजापति ने चुनाव को प्रभावित करने के लिए मनचाहे दरोगाओं की तैनाती करा ली है।

Uttar Pradesh, India